दीपक जलाते समय 50 जले:दीपावली पर आतिशबाजी के दौरान और दीपक जलाते समय करीब 50 लोग जले

कोटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तेल से जला मासूम - Dainik Bhaskar
तेल से जला मासूम

कोटा जिले में दो दिन में 50 से ज्यादा लोग जल गए। पटाखे की वजह से जलने के मामलों से ज्यादा केस इस बार दीपक लगाने के दौरान जलने के सामने आए हैं। एक महिला की पुताई करते समय कपड़ों दीपक से आग पकड़ ली और उसकी मौत तक हो गई। सर्जन डॉ. आलोक गर्ग ने बताया कि उनके अस्पताल में आतिशबाजी से करीब 22 जने जख्मी होकर इलाज के लिए पहुंचे है। 9 जने ऐसे हैं, जिनके हाथ व चेहरे पर अनार फूट गया। 2 चकरी और 3 के फूलझड़ी छोड़ते समय जल गए। 9 साल के शुभम की जेब में रखा पटाखा फूटने से उसका पूर पैर जल गया हैं। वहीं, अस्पताल में इस बार 8 से ज्यादा मामले सिर्फ दीपक से जलने के सामने आए हैं।

तेल की कढ़ाई में गिरा मासूम, बाल-बाल बचा

आरकेपुरम थाना क्षेत्र में एक ढ़ाई साल का मासूम बालक तेल की कढ़ाई में गिर गया। जो बाल-बाल बचा। पुलिस ने बताया कि मार्बल चौराहा के पास टापरियों में रहने वाले लालू का ढाई साल का बालक राहुल दिवाली के दिन पुड़ी निकालते समय घर पर ही कढ़ाई में गिर गया, जिससे वह झुलस गया। उसका बर्न वार्ड में इलाज चल रहा है।

{पुताई के दौरान आग लगी, महिला की मौत:

छावनी मोती महाराज मंदिर के पास महिला नीलू बुधवार शाम दरवाजों पर कलर कर रही थी। इसी दौरान अचानक कलर डुलने से थिनर ने आग पकड़ ली। जिससे महिला की साड़ी में आग लगने से महिला झुलस गई। महिला को एमबीएस ले गए, जहां मौत हो गई। {आंख में फूटा बम, 4 गंभीर केस आए

:नेत्र सर्जन डॉ. सुरेश पाण्डेय ने बताया उनके अस्पताल में 4 गंभीर केस आए हैं। 8 साल के बच्चे पप्पू मालव और 18 साल के दिव्यांश टेलर को आंख में चोट आई। एक बालक की आंख में चॉकलेट बम फूटने से हालत गंभीर हो गई है।

खबरें और भी हैं...