श्रमिक पंजीयन:असंगठित क्षेत्र में 6 लाख श्रमिकों के बनेंगे ई-कार्ड

कोटा15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • ई-श्रमिक कार्ड से जिले का कोई भी श्रमिक वंचित नहीं रहे : कलेक्टर उज्ज्वल राठौड़

जिला कलेक्टर उज्ज्वल राठौड़ ने कहा कि असंगठित क्षेत्र में कार्यरत श्रमिकों के पंजीयन के लिए संस्थाओं के सहयोग से शिविर लगाकर सभी पात्र श्रमिकों को ई-श्रम कार्ड जारी करें जिससे योजनाओें का लाभ मिल सके। जिला कलेक्टर बुधवार को कलक्ट्रेट सभागार में श्रम विभाग द्वारा असंगठित श्रमिकों के पंजीयन के लिए बनाए गए नेशनल डाटाबेस फॉर अनऑर्गेनाईज्ड वर्क्स पोर्टल के प्रचार-प्रसार एवं लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आयोजित बैठक में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि ई-श्रम कार्ड से असंगठित श्रमिकों का एक डेटा बेस तैयार होगा और उसी अनुरूप में भारत व राज्य सरकार द्वारा योजनाएं बनाए जाने का उद्देश्य है।

इन क्षेत्रों में कार्यरत श्रमिकों के बनेंगे कार्ड

  • असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की संख्या को श्रेणीवार चिन्हित करने असंगठित श्रमिक की श्रेणी में धोबी, मोची, स्ट्रीट वेण्डर, घरेलू श्रमिक, कुली, रिक्शा चालक, हम्माल, ऑटो चालक, नरेगा श्रमिक, भूमिहीन श्रमिक, मिड-डे-मिल श्रमिक, आंगनबाडी, ईट भट्टा श्रमिक, ऑनलाइन कम्पनियों एवं कॅरियर से जुडे़ हुए हैं।
  • ई-श्रम पोर्टल पर 156 श्रमिकों की श्रेणी असंगठित क्षेत्र के श्रमिक के रूप में चिन्हित किए है जो ईएसआई, ईपीएफ, एनपीएस से नहीं जुडे़ होते हैं। असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की आयु 16 से 59 वर्ष होनी चाहिए, ऐसे श्रमिक जो ईएसआई, ईपीएफ, एनपीएस योजना का सदस्य नहीं हो एवं आयकर दाता नहीं होना चाहिए।

ये दस्तावेज जरूरी:

पंजीयन के लिए आवश्यक दस्तावेजों में आधार कार्ड से लिंक मोबाइल नंबर जिस पर ओटीपी भेजा जा सके, आधार कार्ड, बैंक खाता पासबुक की प्रथम पृष्ट की प्रति साथ लेकर किसी भी नागरिक सेवा केन्द्र (सीएससी) पर अपना पंजीयन निशुल्क करवा सकते हैं।

संयुक्त श्रम आयुक्त संतोष प्रसाद शर्मा ने नेशनल डाटाबेस फॉर अनऑर्गेनाईज्ड वर्क्स पोर्टल प्रारंभ कर असंगठित श्रमिकों के पंजीयन के लिए बनाए गए पोर्टल की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 31 दिसम्बर 2021 तक सभी पात्र श्रमिकों को ई-श्रम कार्ड जारी करने के लिए भारत सरकार ने राज्यों एवं जिलेवार लक्ष्य निर्धारित किए हैं।

कोटा जिले को 6 लाख 48 हजार 28 करोड़ का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसमें कोटा जिले में अब तक 50 हजार 668 ई-श्रम कार्ड बनाए गए हैं। सीएससी के प्रबंधक लोकेश भट्ट से कहा कि शिविर लगाकर श्रमिकों के कार्ड बनाने के लिए सभी सीएससी संचालकों को पाबन्द करें।

उन्होंने संयुक्त श्रम आयुक्त को निर्देश दिये कि ई-श्रम कार्ड बनवाने के लिए शिविर का कार्यक्रम बनाकर विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से शिविर आयोजित कर सीएससी के प्रबंधक के माध्यम से पंजीयन करवाया जाए।

शिविर में 530 मजदूरों के बनाए ई-श्रम कार्ड

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की प्रेरणा से पार्षद धीरेंद्र चौधरी ने ई-श्रम कार्ड शिविर का समापन उपभोक्ता भंडार के चेयरमैन हरि कृष्ण बिरला ने किया। इस दौरान लाभार्थियों को श्रम कार्ड बांटे गए। शिविर में 530 कार्ड बने। कार्यक्रम में मंडल अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह हाड़ा, पूर्व उपमहापौर योगेंद्र खींची, रामदयाल शाक्यवाल, कैलाश गौतम, आरती शाक्यवाल, पवन हाड़ा, बालमुकुंद वर्मा, मांगीलाल महावर, रवि राठौर, रविंद्र चोपड़ा, रामेश्वर न्याति, महावीर कुशवाह, राजकुमार माहेश्वरी, राकेश दाधीच, गोपाल धामनी, गोपाल नागर, रवि लोटिया आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...