पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नगर निगम चुनाव:कांग्रेस में गुटबाजी हावी, दक्षिण के 13 वार्डों पर विवाद, जारी नहीं हुई कांग्रेस की लिस्ट

कोटा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फोन पर नाम तय होने की सूचना पर जश्न मनाते कांग्रेसी।

भयानक गुटबाजी के बावजूद भाजपा ने काेटा उत्तर व दक्षिण के प्रत्याशियाें की सूची रविवार की शाम काे जारी कर दी वहीं, हमेशा गुटबाजी काे नकारने वाली कांग्रेस इस बार गुटबाजी में उलझ गई। रविवार की देर रात तक दक्षिण नगर निगम के 13 नामाें काे लेकर पेंच फंसा रहा, जबकि उत्तर की लिस्ट कंपलीट हाे चुकी है।

दक्षिण के चक्कर में उत्तर की भी लिस्ट जारी नहीं की गई। बताया जा रहा है इन 13 में से 8 नामाें पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष रविंद्र त्यागी और विधानसभा चुनाव लड़ चुकी राखी गाैतम के बीच विवाद हाे रहा है।

राखी गाैतम उन लाेगाें काे टिकट देने का विराेध कर रही हैं, जिन्हाेंने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की खिलाफत की थी। इसी बात काे लेकर शुक्रवार काे प्रभारी मंत्री लालचंद कटारिया और पर्यवेक्षक साेनल पटेल के सामने भी राखी के पति विद्या गाैतम ने आपत्ति जताई थी। मामला यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल तक भी पहुंचा।

वहीं जिलाध्यक्ष उन्हें टिकट देना चाहते हैं। बाकी के 5 नामाें पर भी दाेनाें की सहमति नहीं बन पा रही है। इस कारण देर रात तक लिस्ट फाइनल नहीं हाे सकी। जबकि यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल का कहना है कि भाजपा द्वारा लिस्ट आउट करने के बाद हमने हमारी लिस्ट राेक ली। कुछ नामाें पर दुबारा से चर्चा की जा रही है। जाे सुबह तक फाइनल हाे जाएगी। जिनके टिकट फाइनल हाे चुके हैं, उन्हें नामांकन के लिए बाेला जा चुका है।

इनसाइड स्टाेरी : गाैतम और त्यागी के बीच विवाद, जिनके टिकट फाइनल हुए उनको फोन पर दी सूचना
लिस्ट जारी नहीं हाेने के पीछे जाे मुख्य कारण बताए जा रहे हैं वाे दक्षिण के वार्ड नंबर 33, 36, 37, 41, 47, 49, 64, 68, 69, 70, 76, 77, 80 पर प्रत्याशी तय नहीं हाे पा रहे हैं। इनमें से वार्ड नंबर 37, 76, 64, 68, 69, 70, 77 80 के नामाें पर आपत्ति जताई गई है।

जिन्हें हरी झंडी मिली उनके दस्तावेजाें में भी समस्या
कांग्रेस पदाधिकारियाें के अनुसार लिस्ट राेकने के पीछे ये भी कारण सामने आ रहे हैं कि जिन लाेगाें के नाम फाइनल हुए उनमें तकनीकी गड़बड़ी सामने अा रही है। किसी के बच्चाें की संख्या दाे से अधिक है ताे किसी के जाति प्रमाण पत्र में गड़बड़ी है। कुछ के पास जन्म प्रमाण नहीं है।

फाेन आने के बाद भी लिस्ट का इंतजार
भले ही पार्टी कार्यालय से लाेगाें के पास फाेन आ गए कि टिकट फाइनल हाे गया और नामांकन की तैयारी कराें, लेकिन उसके बाद भी प्रत्याशी लिस्ट जारी हाेने का इंतजार करते रहे। जिनके टिकट फाइनल हुए वाे भी जिलाध्यक्ष से लेकर अखबाराें के दफ्तराें में फाेन करके पूछते रहे।

जिनके टिकट फाइनल उनके फाॅर्म भरकर कंपलीट करवाए : उत्तर व दक्षिण नगर निगम दाेनाें में ही जिन प्रत्याशियाें के नाम फाइनल हाे चुके हैं, उन्हें सूचना दे दी गई। उन्हाेंने कहा गया कि अपने दस्तावेज तैयार कर लें। काेई समस्या आए ताे इसके लिए इंद्रविहार में जिलाध्यक्ष के मकान में वकीलाें का पैनल बैठाया गया है।

लाड़पुरा में 30 टिकट मांगे नईमुद्दीन गुड्डू ने
लाड़पुरा विधानसभा काे उत्तर व दक्षिण दाेनाें निगम में बांटा गया है। लाड़पुरा में 30 वार्ड हैं, जिसमें से 14 उत्तर निगम और 16 दक्षिण में हैं। इस क्षेत्र से कांग्रेस के पूर्व प्रदेश सचिव नईमुद्दीन गुड्डू ने 30 टिकट मांगे थे। इन टिकिटाें काे लेकर भी अभी तक काेई विवाद सामने नहीं आया है। अधिकांश फाइनल कर दिए गए हैं।
रामगंजमंडी विधानसभा के लिए मांगे 8 टिकट
काेटा दक्षिण नगर निगम में रामगंजमंडी विधानसभा क्षेत्र के 8 वार्ड शामिल किए गए हैं। वहां से विधानसभा चुनाव लड़े एवं टिकिट वितरण समिति के सदस्य पूर्व मंत्री रामगाेपाल वर्मा ने भी 8 वार्डाें के लिए कार्यकर्ताअाें के नाम दिए हैं। अब उनमें से कितने नाम फाइनल हुए हैं। ये अभी क्लीयर नहीं हाे सका है।
एनालिसिस : उत्तर में धारीवाल इफेक्ट, इसलिए नामों पर विवाद नहीं
काेटा उत्तर नगर निगम की सूची में किसी तरह का काेई विवाद नहीं है। उत्तर के लिए जाे आवेदन आए थे, उनमें से अधिकांश कार्यकर्ताओं के नाम टिप्स थे। दाे साल पहले विधानसभा चुनाव हुए थे, इसलिए वहां खुद यूडीएच मंत्री काे नाम पता थे कि किस ने पार्टी के लिए कैसा काम किया है। इसलिए वहां के नाम फाइनल करने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी।

स्टेशन क्षेत्र के एक-दाे नामाें काे लेकर जरुत कुछ लाेगाें ने फीडबैक सही नहीं दिया ताे उनके बारे में जांच करवाई और टिकिट फाइनल किए गए। पर्यवेक्षकाें की रिपाेर्ट के बाद अगले ही दिन से अधिकांश लाेगों काे हरी झंडी दे दी गई थी। काेटा उत्तर में राय सभी से ली गई थी और नाम भी सभी से मांगे गए थे। यहां तक की पीसीसी सदस्य से लेकर ब्लाॅक अध्यक्ष तक से राय और नाम मांगे गए थे।

धारीवाल बाेले-टिकटाें पर विवाद नहीं
हमारी लिस्ट तैयार है। कुछ वार्डाें काे छाेड़कर बाकी सभी नाम फाइनल हाे चुके हैं। भाजपा की लिस्ट आने के बाद हमने हमारी लिस्ट राेक दी। कुछ नामाें पर दुबारा विचार कर उन्हें फाइनल किया जाएगा। हम लिस्ट जारी नहीं करेंगे। जिनके नाम फाइनल हाे चुके हैं, उन्हें नामांकन के लिए बाेल दिया गया है। एक बार लिस्ट जारी हाेने के बाद नाम बदलना संभव नहीं हाेता है। अभी हम किसी का नाम सार्वजनिक कर दें और बाद में उसे बदलें वाे अच्छा नहीं है। दक्षिण के वार्डाें में विवाद जैसी काेर्ई बात नहीं है। छाेटी-माेटी बातें ताे हाेती रहती है। कांग्रेस में टिकटाें काे लेकर काेई विवाद नहीं है। - शांति धारीवाल, यूडीएच मंत्री

हमारे बीच काेई विवाद नहीं है। बाहर काेई कुछ भी कहे हमारे बीच टिकटाें काे लेकर काेई टकराव नहीं है। लिस्ट फाइनल हाे चुकी है। कुछ तकनीकी कारण थे जिनकी वजह से देर रात तक लिस्ट जारी नहीं कर सके। अधिकांश प्रत्याशियों के नाम तय हो चुके हैं। उन्हें फोन पर सूचना भी दे दी गई है। बचे हुए नामों पर प्रदेश नेतृत्व से चर्चा चल रही है। तकनीकी दिक्कतें दूर होते ही टिकट घोषित कर दिए जाएंगे।
- रविंद्र त्यागी, शहर जिलाध्यक्ष

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थितियां आपके पक्ष में है। अधिकतर काम मन मुताबिक तरीके से संपन्न होते जाएंगे। किसी प्रिय मित्र से मुलाकात खुशी व ताजगी प्रदान करेगी। पारिवारिक सुख सुविधा संबंधी वस्तुओं के लिए शॉपिंग में ...

और पढ़ें