पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दरा में फिर हादसा:ट्रेन की चपेट में आने से मगरमच्छ की मौत, वन्यजीवों की सुरक्षा को यहां फेंसिंग जरूरी

कोटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मुकंदरा टाइगर रिजर्व में 2003 में ब्रोकन टेल टाइगर की मौत के बाद अभी तक दरा में रेलवे ट्रैक की फेंसिंग नहीं की गई। फेंसिंग नहीं हाेने से यहां आए दिन हादसे हाे रहे हैं। यहां गुरुवार रात्र काे ट्रेन की चपेट में आने से दिल्ली-मुंबई रेलवे डाउन लाइन में करीब सात फीट लंबे मगरमच्छ की माैत हाे गई।

सुबह सूचना मिलने पर रिजर्व की टीम माैके पर पहुंची। यहां मृत मगरमच्छ काे दरा रेस्ट हाउस लाई। यहां मेडिकल बाेर्ड से पाेस्टमार्टम किया गया। पाेस्टमार्टम में सीनियर वैटरनरी डाॅ. अरविंद माथुर, डाॅ. तेजेंद्रसिंह रियाड़ और डाॅ. आशीष जैन शामिल हुए। पाेस्ट मार्टम के बाद शव का अंतिम संस्कार दरा रेस्ट हाउस में किया गया।

इसी साल भालू भी हाे चुका हादसे का शिकार : इसी वर्ष 12 जनवरी काे कंवलपुरा के पास ट्रेन की चपेट में आने से भालू की माैत हाे चुकी है। लेकिन, दरा गांव से मुकंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व में करीब सात किमी ट्रैक की अभी तक फेंसिंग नहीं करवाई गई है। यहां पैंथर सहित अन्य वन्यजीवाें की माैत हाे चुकी है।

रेलवे ट्रैक पर फेंसिंग को लेकर रेलवे के अधिकारियाें से बात की जाएगी। साथ ही वन्यजीवाें की सुरक्षा काे लेकर पत्र लिखा जाएगा। पुरानी फाइलाें काे भी दिखवाया जाएगा। -सेडूराम यादव, सीएफ एवं फील्ड डायरेक्टर मुकंदरा रिजर्व
फेंसिंग व अंडरपास बनाने के लिए कमेटी बनाई गई थी, लेकिन कोरोना के कारण लटका मामला

दरा एरिया में आए दिन वन्यजीवाें की माैत के मामले काे तत्कालीन फील्ड डायरेक्टर आनंद माेहन ने इसे गंभीरता से लिया था। फरवरी में इस मामले काे लेकर एक मीटिंग भी प्रस्तावित थी। साथ ही इसके लिए कमेटी का भी गठन किया गया था। लेकिन, काेराेना के कारण यह आगे प्रक्रिया नहीं हाे सकी है। इसके लिए डब्ल्यूआईआई की ओर से भी माॅडल के प्रपाेजल आए थे। लेकिन, इसके बाद काम आगे बढ़ नहीं सका है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें