कचरा परिवहन में दक्षिण नगर निगम फेल:आधे से ज्यादा वार्डों में नहीं उठ रहा कचरा, ट्रॉलियों की व्यवस्था तक नहीं

काेटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दक्षिण नगर निगम क्षेत्र में पिछले 7 दिनाें से कचरा परिवहन की व्यवस्था ठप पड़ी हुई। - Dainik Bhaskar
दक्षिण नगर निगम क्षेत्र में पिछले 7 दिनाें से कचरा परिवहन की व्यवस्था ठप पड़ी हुई।
  • 7 दिन बाद भी सफाई ठेकेदार ने काम सुचारु नहीं किया

शहर की सफाई व्यवस्था सुधरने की बजाय और बिगड़ रही है। त्याैहार का सीजन चल रहा है, घराें से लेकर बाजाराें तक में सफाई चल रही है, कचरा अधिक निकल रहा है और दूसरी तरफ दक्षिण नगर निगम क्षेत्र में पिछले 7 दिनाें से कचरा परिवहन की व्यवस्था ठप पड़ी हुई। दक्षिण के 80 वार्डाें में से 40 से अधिक वार्डाें में पूरी तरह से कचरा नहीं उठ रहा है।

इसका कारण है कि पिछले दिनाें निगम ने कचरा परिवहन के लिए पुराना टेंडर खत्म हाेने के बाद नया टेंडर किया, वर्क ऑर्डर भी हाे गए, लेकिन नई फर्माें ने पूरी तरह से काम शुरू नहीं किया। पिछले 7 दिनाें से पार्षदाें से लेकर आम जनता तक परेशान हाेकर शिकायत कर रही है, लेेकिन निगम के अधिकारी व्यवस्था नहीं बना पा रहे हैं।

दक्षिण नगर निगम में कचरा पाइंटाें से कचरे काे ट्रांसफर स्टेशन और ट्रेंचिंग ग्राउंड तक कचरे काे परिवहन करने का पिछले टेंडर खत्म हाे गया। निगम ने नया टेंडर किया और 7 अक्टूबर काे दाे नई फर्माें काे वर्क ऑर्डर भी जारी कर दिए। नियमानुसार उसी दिन से उन्हें काम शुरू करना था, लेकिन वर्क ऑर्डर मिलने के बाद भी नई फर्में कचरा परिवहन के लिए ट्रैक्टर-ट्राॅलियां, लेबर आदि संसाधन नहीं जुटा पाई।

निगम ने एक-दाे दिन की माेहलत दे दी। उसके बाद भी उन्हाेंने काम शुरु नहीं किया। पार्षद और जनता कचरे के ढेर से परेशान हाेने लगे ताे महापाैर राजीव अग्रवाल से लेकर आयुक्त कीर्ति राठाैड़ तक शिकायतें पहुंची। इस पर अधिकारियाें ने उन फर्माें काे पैनल्टी लगाने की चेतावनी दी। उसके बाद कुछ वार्डाें से कचरा उठने लगा। कहीं दाे कचरा पाइंटाें में से एक से ही कचरा उठाया जाने लगा। 7 दिन बाद गुरुवार तक भी व्यवस्था पूरी तरह से सही नहीं हाे पाई।

खबरें और भी हैं...