हनीट्रैप / युवती ने लाइनमैन को दुष्कर्म केस में फंसाने की धमकी देकर मांगे 10 लाख

X

  • 2 महिलाओं समेत 3 गिरफ्तार, गैंग में वकील भी, 1.40 लाख वसूले

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 05:09 AM IST

कोटा. एक युवती द्वारा बिजली विभाग के लाइनमैन के घर पर नौकरी के नाम पर एंट्री करने और फिर दुष्कर्म के केस में फंसाने का चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। हैरानी की बात तो यह है कि न लाइनमैन युवती को नहीं जानता है और उसकी युवती से सिर्फ एक बार बात हुई है। पुलिस ने गैंग का पर्दाफाश करके दो महिलाओं और एक पुरुष को गिरफ्तार किया है। इस गैंग में एक वकील और ऑटो चालक भी शामिल है।

भीमगंजमंडी सीआई हर्षराज सिंह खरेड़ा ने बताया कि 20 जून को बिजली विभाग के लाइनमैन सीताराम ने हनीट्रैप मामले की शिकायत दी। उसने पुलिस को बताया कि लॉकडाउन से पहले एक महिला उसके घर घरेलू कार्य करने की बात करने आई। लेकिन, उसने इनकार कर दिया। लॉकडाउन खत्म होते ही 6 जून को एक युवती का फोन आया, जिसने कहा कि उसे काम की जरूरत है और उसकी मां भी काम मांगने आई थी। 7 जून को युवती सीताराम के घर पहुंच गई, जहां पैसे ज्यादा मांगने पर सीताराम ने मना कर दिया और एक दिन का मेहनताना देकर उसे रवाना कर दिया। करीब 5 दिन बाद एक वकील बाबूलाल मेघवाल का फोन सीताराम के पास गया और उसने कहा कि तुमने झाडू-पोछा करने आई युवती से दुष्कर्म किया है।

तुम्हारे खिलाफ केस दर्ज करवाएगी, लेकिन मैं समझौता करवा सकता हूं। सीताराम डर गया और 1.40 लाख रुपए दे दिए। कुछ दिन बाद वकील 10 लाख रुपए मांगने लगा तो सीताराम ने पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने प्रताप कॉलोनी, रेलवे कॉलोनी की मुमताज उर्फ जीनत, हनुमान बस्ती की अनीता राठौड़ और प्रताप कॉलोनी के निसार अहमद को गिरफ्तार किया है। एक कार और 2 स्कूटी भी जब्त की है।

पैरेलल इन्वेस्टिगेशन- 10 से 25 लाख वसूलती है हनी ट्रैप गैंग

पुलिस ने जिस हनी ट्रैप गैंग के सदस्यों को गिरफ्तार किया, वो कोटा शहर में कई वर्षों से सक्रिय हैं। यह गैंग व्यापारियों, प्रतिष्ठित लोगों, कमजोर युवकों को अपना निशाना बनाकर उनसे 10 से 25 लाख रुपयों तक वसूलती हैं। गैंग के सदस्यों के खिलाफ शहर के आरकेपुरम, दादाबाड़ी, अनंतपुरा समेत अन्य थानों में इस तरह के मामले पहले से भी हैं। मुमताज और अनीता दोनों महिलाएं काफी शातिर हैं और कानूनी दांव-पेंच से बचने के लिए वकीलों का सहारा लेती हैं। यह दोनों पहले भी ऐसे मामलों में गिरफ्तार हो चुकी हैं। दरअसल, लोग इज्जत के डर के कारण पुलिस थानों तक नहीं जाते और ऐसे में इन बदमाशों को हौसला बढ़ जाता है। ऐसे कई मामले सामने आ चुके, जिनमें फरियादी पुलिस के सामने पैसे देना कबूल कर चुके।

भास्कर रिकॉल : हनी ट्रैप के शहर के दो चर्चित मामले

कैथूनीपोल के व्यापारी से मांगे थे 50 लाख

कैथूनीपोल के एक नामी व्यापारी को ऐसी की एक गैंग ने मई 2017 में ऐसे ही जाल में फंसाया था। गैंग की युवती पूजा ने व्यापारी पर झूठा केस दर्ज तक करवा दिया था और उसमें समझौता करने के एवज में 50 लाख रुपयों की डिमांड की थी। व्यापारी ने भी पूजा, फिरोज, सानू, चाचा, श्वेता, नाजमीन इत्यादि पर केस दर्ज करवाया था। जिन्हें अनुसंधान के बाद पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

पुलिसकर्मियों पर दर्ज हुआ हनी ट्रैप का केस

विज्ञान नगर पुलिस ने 2019 में बर्खास्त हैड कांस्टेबल रविन्द्र मलिक, हैड कांस्टेबल योगेश बाबू व एक युवती के खिलाफ हनी ट्रेप का मुकदमा दर्ज किया। नशामुक्ति केन्द्र संचालक तेजवीर यह शिकायत दी थी। जिसमें कहा था कि उसे फंसाकर 10 लाख रुपए मांगे और न देने पर जेल जाने को तैयार रहने की धमकी दी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना