पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • In Khedli Ghata Village Of Sultanpur Police Station Area Of Kota, Idols Kept In 40 year old Temple Were Broken, Anger Among Villagers, Police administrative Officers On The Spot Kota Rajasthan

मंदिर में तोड़फोड़ से ग्रामीणों में रोष:पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे; दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस विभाग के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे - Dainik Bhaskar
प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस विभाग के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे

कोटा जिले के सुल्तानपुर थाना क्षेत्र की ग्राम पंचायत अमरपुरा के खेड़ली घाटा के पुराने गांव खेड़ा में मंदिर पर मूर्तियों के खंडित होने का मामला सामने आया है। मंदिर पुजारी सुबह देवी देवताओं की पूजा करने के लिए मंदिर पर पहुंचा तो मामले की जानकारी लगी। मूर्तियों के भाग इधर-उधर बिखरे हुए पड़े हुए थे। पुजारी ने तुरन्त गांव की सरपंच गायत्री मेघवाल को सूचना दी। मौके पर ग्रामीणों की भीड़ इकट्ठी हो गई।

सरपंच की सूचना पर सुल्तानपुर पुलिस व दीगोद तहसीलदार दिलीप सिंह प्रजापति और प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस विभाग के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे। घटना को लेकर ग्रामीणों रोष है। ग्रामीणों ने पुलिस को लिखित में शिकायत देकर मामले की जांच करते हुए दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

खंडित मूर्तियां इधर उधर पड़ी हुई थी भगवान के वस्त्रों को भी मंदिर से काफी दूर फेंका हुआ था।
खंडित मूर्तियां इधर उधर पड़ी हुई थी भगवान के वस्त्रों को भी मंदिर से काफी दूर फेंका हुआ था।

ग्रामीणों ने बताया कि गांव खेड़ा में 40 साल पुराना हनुमान जी का मंदिर है। मंदिर में हनुमान जी, शीतला माता, पोखरा वाले, बावड़ी वाले बाबा को समेत अन्य कई मूर्तियां थी। यहां हर मंगलवार व शनिवार को ग्रामीण दर्शन करने आते है। रात में पुजारी आरती करके गए थे। सुबह आकर देखा तो खंडित मूर्तियां इधर उधर पड़ी हुई थी भगवान के वस्त्रों को भी मंदिर से काफी दूर फेंका हुआ था। ऐसे में इससे साफ जाहिर होता है कि कहीं असामाजिक तत्वों द्वारा इस घटना को अंजाम दिया गया है। इससे पहले नोताडा गांव में भी मंदिर पर मूर्ति खंडित करने का मामला सामने आया था। पुलिस ने 1 हफ्ते में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। आरोपी द्वारा गुनाह करना भी कबूल कर लिया गया था।

इटावा डीएसपी विजय शंकर शर्मा ने बताया कि करीब 30 साल पहले यहां आबादी रहती थीं।लेकिन नदी किनारे होने से बाढ़ के कारण यहां के लोग प्राचीन गांव से विस्थापित होकर ढाई तीन किलो मीटर दूर पर रहने लगे है। मंदिर में सप्ताह में कभी कभी लोग आते थे। मंदिर का चबूतरे पर हनुमान जी की शिला थी। जिसे क्षतिग्रस्त किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

फोटो- रवि मेघवाल,सुल्तानपुर

खबरें और भी हैं...