पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • In Lieu Of Passing The Bill, Asked For A Bribe Of 20 Thousand, Got A Bribe Of 10 Thousand In The Account Of The Acquaintance, Then Took A Photo Of The Receipt From The Mobile And Kept It With Him Kota Rajasthan

झालावाड़ जिला अल्प संख्यक कल्याण अधिकारी ट्रैप:बिल पास करने की एवज में 20 हजार की घूस मांगी, 10 हजार की रिश्वत परिचित के खाते में डलवाई, मोबाइल से रसीद का फोटो खींचकर कर अपने पास रखा

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी ब्रह्म प्रकाश आर्य ने  परिवादी से कॉन्ट्रैक्ट पर लगी गाड़ी के बिलों के भुगतान के एवज में रिश्वत की मांग की थी। - Dainik Bhaskar
आरोपी ब्रह्म प्रकाश आर्य ने परिवादी से कॉन्ट्रैक्ट पर लगी गाड़ी के बिलों के भुगतान के एवज में रिश्वत की मांग की थी।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो(ACB) कोटा की टीम ने झालावाड़ में जिला अल्प संख्यक कल्याण अधिकारी रिश्वत लेने के आरोप में पकड़ा है। आरोपी ब्रह्म प्रकाश आर्य,निवासी विद्याधर नगर जयपुर ने परिवादी से कॉन्ट्रैक्ट पर लगी गाड़ी के बिलों के भुगतान के एवज में रिश्वत की मांग की थी। रिश्वत की राशि खुद ना लेकर किसी परिचित महिला के खाते में ट्रांसफर करवाई। फिर परिवादी से पैसे ट्रांसफर की रसीद का फोटो अपने मोबाइल में खींचा।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) कोटा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ठाकुर चंद्रशील ​​​​​ने बताया कि परिवादी वीर सिंह (26) निवासी जड़ावता, थाना सूरवाल जिला सवाई माधोपुर ने शिकायत दी थी। जिसमें बताया था कि उसकी गाड़ी जिला अल्पसंख्यक अधिकारी झालावाड़ के कार्यालय में 1 साल से कांटेक्ट पर लगा रखी थी। जिसका लगभग 28 हजार रुपए महीने का बिल बनता है। गाड़ी को कार्यालय में लगाये रखने के लिए जिला अल्पसंख्यक अधिकारी ने 3 महीने से 10 हजार रुपए महीने बंधी की मांग कर रहा है।

ACB डीएसपी हर्षराज सिंह खरेड़ा,CI अजित बगडोलिया की टीम ने रिश्वत लेने के आरोपी को दबोचा।
ACB डीएसपी हर्षराज सिंह खरेड़ा,CI अजित बगडोलिया की टीम ने रिश्वत लेने के आरोपी को दबोचा।

बंधी नहीं देने पर गाड़ी हटाने की बोल रहा है। आरोपी ने उसे एसबीआई का खाता नंबर दिया। जिसमें हर महीने रिश्वत की रकम जमा कराने के लिए कहा। परिवाड़ी ने आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की बात कहीं। रिश्वत नहीं देने पर नाराज अधिकारी ने 4 जुलाई को गाड़ी हटा दी। ओर परिवादी का पहले का 35 से 40 हजार का बिल भुगतान रोक लिया। आरोपी ने बिल पास करने की एवज में 20 हजार की रिश्वत मांगी।

शिकायत पर ACB की टीम ने सत्यापन करवाया। 9 जुलाई को गोपनीय सत्यापन के दौरान आरोपी द्वारा परिवादी से गाड़ी के पेंडिंग बिलों को पास करने के एवज में 19 हजार रिश्वत मांगी। आरोपी ने रिश्वत की रकम अपनी परिचित महिला के खाते में डलवाने को कहा। परिवादी को मैसेज भेज कर खाता नम्बर दिए। आज परिवादी बैंक में पैसे जमा करवाकर आया। जमा रसीद आरोपी को दिखाई। आरोपी ने अपने मोबाइल में रसीद की फोटो खींचकर जमा रसीद परिवादी को वापस कर दी। जिस पर ACB डीएसपी हर्षराज सिंह खरेड़ा,CI अजित बगडोलिया की टीम ने रिश्वत लेने के आरोपी को दबोचा।

खबरें और भी हैं...