पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा ने बनाया अनचाहा रिकॉर्ड:अगस्त के 12 दिनों में 1695 राेगी आए, जयपुर-जोधपुर को पीछे छोड़ प्रदेश में अव्वल आया

कोटा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 190 नए कोरोना मरीज आए, 6 की मौत, सीनियर न्यूराेलाॅजिस्ट सहित 4 डॉक्टर भी पाॅजिटिव

काेटा में बुधवार काे भी 190 नए काेराेना संक्रमित मरीज आए। इस बीमारी से कोटा के 4 और बारां व बूंदी के 1-1 मरीज की मौत हाे गई। अगस्त के पहले 12 दिनाें में काेटा ने प्रदेश के सबसे ज्यादा काेराेना प्रभावित जिलाें जाेधपुर और जयपुर काे भी पीछे छाेड़ दिया है। इस दाैरान काेटा में सबसे ज्यादा 1695 मरीज मिले, जबकि जाेधपुर में 1563 और जयपुर में 1403 राेगी आए।
हालात विकट हाेते जा रहे हैं। अब राेजाना डाॅक्टर व हैल्थ वर्कर चपेट में आ रहे हैं। बुधवार काे भी प्राइवेट सेक्टर के सीनियर न्यूराेलाॅजिस्ट सहित 4 डाॅक्टर पाॅजिटिव मिले। इसके अलावा दो चिकित्सकों की पत्नियां भी संक्रमित पाई गई, उनके पति पूर्व में पॉजिटिव आ चुके। शहर में कुल 3421 मरीज हाे चुके हैं, वहीं 61 माैतें हाे चुकी हैं।

जेकेलोन में 2 प्रसूताएं पॉजिटिव
जेकेलोन में 2 प्रसूताएं पॉजिटिव मिली हैं। स्त्री रोग विभाग की अध्यक्ष डॉ. निर्मला शर्मा ने बताया कि बुधवार को पॉजिटिव मिली प्रसूताओं में एक बूंदी व दूसरी श्योपुर की है। वहीं एमबीएस के 5 रोगी पॉजिटिव मिले हैं।
दम ताेड़ने वाले चाराें मरीजों की उम्र 60 से ज्यादा : मेडिकल कॉलेज के एडिशनल प्रिंसिपल डाॅ. राकेश शर्मा ने बताया कि बुधवार काे काेविड से 4 माैतें रिपाेर्ट हुई हैं।

सूरजपाेल निवासी 64 साल के पुरुष रेस्पिरेट्री फेल्याेर के चलते 9 अगस्त काे एडमिट हुए थे, उन्हें वेंटीलेटर पर लिया गया, उनकी किडनी भी डैमेज हाे गई। बपावर के 70 साल के पुरुष काे क्रिटिकल स्थिति में 9 अगस्त काे लाया गया था, उन्हें पहले से क्राॅनिक लंग डिजीज थी। वहीं, संजय नगर के 72 साल के पुरुष काे दस्त व बुखार के चलते एडमिट किया गया था, उनके पांव की नसाें में क्लाॅटिंग थी। दादाबाड़ी निवासी 75 साल के वृद्ध को डायबिटीज, हाइपरटेंशन और हार्ट डिजीज भी था। सबकी मौत मंगलवार रात से बुधवार सुबह के बीच हुई।

भास्कर एनालिसिस : अब युवाओं को भी वेंटीलेटर पर लेना पड़ रहा, ऐसे 2 मरीजों की मौत हो चुकी

मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग के प्राेफेसर डॉ. मनोज सालूजा अप्रैल और अगस्त में कोविड ड्यूटी कर चुके हैं। एक बार में 14 दिन की कोविड ड्यूटी होती है। उनकी दूसरी ड्यूटी बुधवार को खत्म हो गई। डॉ. सालूजा ने दोनों ड्यूटी का अनुभव भास्कर के साथ कुछ इस तरह साझा किया। उनकी पहली ड्यूटी 6 से 22 अप्रैल तक थी, अब दूसरी ड्यूटी 30 जुलाई से 12 अगस्त की रही है।

6-22 अप्रैल : अधिकतर रोगी बिना लक्षण वाले थे

  • उस वक्त 99 प्रतिशत मरीज एसिम्प्टोमेटिक थे, पूरी ड्यूटी के दौरान ही 5 या 6 मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत हुई थी।
  • किसी भी जवान मरीज में लक्षण नहीं थे और न ही किसी कम उम्र के मरीज को किसी तरह की सांस संबंधी दिक्कत हुई।
  • पहले मरीज और डॉक्टर जरूरत से ज्यादा सावधानी बरत रहे थे।
  • मैंने इस पूरी ड्यूटी शायद ही ऐसा कोई मरीज देखा हो, जिसका सेचुरेशन लेवल 60 से कम आया हो।
  • उस वक्त हम यह मानकर चल रहे थे कि कोटा में संक्रमण भले ही फैले, लेकिन बहुत ज्यादा मौतें नहीं होंगी।
  • तब हम दिल्ली-मुंबई या इंदौर जैसे शहरों की स्थिति सुनकर डर रहे थे, क्योंकि वहां मौतें ज्यादा हो रही थीं।
  • लोगों से बात करते थे तो ज्यादातर यही बताते थे कि फलां पॉजिटिव से मिले और संक्रमित हो गए।
  • होम आइसोलेट नहीं कर रहे थे, तब भी वार्ड खाली पड़े थे।
  • लॉक डाउन था, इसलिए सबकुछ मैनेज कर पा रहे थे। सुपर स्प्रेडर भी कम थे।

30 जुलाई-12 अगस्त : ट्रांसमिशन का सोर्स नहीं पता

  • अब 40 से ज्यादा मरीजों को इस वक्त ऑक्सीजन की जरूरत है। करीब 200 से ज्यादा लक्षण वाले मरीज एडमिट हैं।
  • अब जवान मरीजाें की मौतें होने लगी है, मंगलवार को दो मौतें हुई, दोनों जवान थे। अभी भी 6 पेशेंट कम उम्र वाले वेंटीलेटर पर हैं।
  • अब आम लोगों के साथ-साथ हैल्थ वर्कर भी सावधानी कम बरत रहे हैं।
  • इस ड्यूटी में एक मरीज तो ऐसा भी आया, जिसका सेचुरेशन लेवल (ऑक्सीजन की मात्रा) 40 ही था।
  • अब यह मानने में कोई शक नहीं कि मौतों की संख्या बढ़ेगी और आने वाले दिन और ज्यादा गंभीर स्थिति वाले होंगे।
  • अब जो स्थिति है उससे लगने लगा है कि बड़े संक्रमित शहरों जैसी स्थितियां हमारे यहां कभी भी पैदा हो सकती हैं।
  • अब ज्यादातर लोगों को नहीं पता कि वे कैसे इंफेक्टेड हुए, यानी एयर बॉर्न ट्रांसमिशन को नकारा नहीं जा सकता।
  • मरीजों को होम आइसोलेट कर रहे हैं, तब भी सारे वार्ड फुल होते हैं।
  • हर दिन नए सुपर स्प्रेडर आ रहे हैं, दुकानदार बड़ी संख्या में पॉजिटिव आए हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ऊर्जा तथा आत्मविश्वास से भरपूर दिन व्यतीत होगा। आप किसी मुश्किल काम को अपने परिश्रम द्वारा हल करने में सक्षम रहेंगे। अगर गाड़ी वगैरह खरीदने का विचार है, तो इस कार्य के लिए प्रबल योग बने हुए...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser