पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • In The Bribe Case Of The Information Assistant broker, The Victim Told The Truth, The Decision Was Decided In Favor, So 4 Lakhs Were Not Given.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भास्कर इनसाइड:सूचना सहायक-दलाल के घूस प्रकरण में पीड़ित ने बताया सच, फैसला पक्ष में तय था इसलिए 4 लाख नहीं दिए

कोटा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एसडीएम के सूचना सहायक एकांत 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया - Dainik Bhaskar
एसडीएम के सूचना सहायक एकांत 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया
  • कहानी 1; फैसला आने से पहले, कोई नहीं पकड़ा गया, क्योंकि शिकायत नहीं हुई
  • कहानी 2; फैसला आने के बाद, घूसखोरी सामने आई क्योंकि एसीबी में शिकायत हुई

गोपालपुरा गांव की यह जमीन मेरे पिता कन्हैया, चाचा धूलाजी और कृष्णाजी के संयुक्त खाते की कृषि भूमि है। 13 जनवरी को नायब तहसीलदार मंडाना विनय चतुर्वेदी, पटवारी राधेश्याम प्रजापति व भू-अभिलेख निरीक्षक जगदीश शर्मा तीनों मौके पर हमारे गांव आए थे। जिन्होंने विभाजन प्रस्ताव में (खसरा नम्बर-120) की भूमि का विभाजन हम तीनों खातेदारान को बराबर-बराबर दर्ज किया। 1 फरवरी को वाद (संख्या 42/09) का फैसला आना था। फैसले से पहले हमारे गांव का बलराम मीणा मुझसे मिला और कहा कि मेरी जमीन का वाद का फैसला आने वाला है।

जब विभाजन प्रस्ताव में हम तीनों को जमीन मिल गई तो फैसला हमारे पक्ष में आना तय था, इसलिए मैंने 4 लाख रुपए नहीं दिए। मेरे पास इतने रुपयों की व्यवस्था भी नहीं थी। जब 1 फरवरी को फैसला मेरे पक्ष में नहीं आया तो मुझे धक्का लगा और मैं एकान्त बाबू व बलराम मीणा से मिला। एकांत बाबू ने कहा कि तुम्हारे समझ में तो आया नहीं और जमनालाल ने 5 लाख रुपए दे दिए... अब कुछ नहीं हो सकता।

फैसले के बाद मैंने अपील और उस पर स्टे के आदेश के लिए आरएए कोटा में अपील की। जिसमें सुनवाई 8 फरवरी को है। लेकिन, तब तक मुआवजा राशि जमनालाल को रिलीज नहीं हो सके, इसलिए मैं एप्लीकेशन लेकर एसडीएम लाडपुरा दीपक मित्तल के ऑफिस गया। जहां फिर मेरा सामना एकांत बाबू से हुआ।

वो मुस्कुराए और बलराम से मिलने व उनके बताए अनुसार काम करने को कहा। बलराम मीणा ने कहा कि मुआवजा राशि सोमवार तक रोकने के लिए एकांत बाबू ने एक लाख रुपए देने के लिए कहा है। बस... इसके बाद मैंने घूसखोरी के इस पूरे मामले को खोलने की ठान ली और एसीबी ऑफिस पहुंच गया। जहां शिकायत देकर यह सारे तथ्य बताएं। गोपनीय सत्यापन में एसीबी ने पुष्टि की और फिर एकांत को गिरफ्तार कर लिया।
(जैसा पीड़ित ने भास्कर रिपोर्टर को बताया और एसीबी में दस्तावेज दिए।)

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें