कोटा एसीबी टीम ने की कार्रवाई:10 हजार रुपए रिश्वत लेते झालावाड़ जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी आर्य ट्रैप

कोटा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसीबी टीम ने झालावाड़ा अल्पसंख्यक विभाग में की ट्रैप की कार्रवाई और जिला अल्पसंख्यक अधिकारी ब्रह्म प्रकाश आर्य। - Dainik Bhaskar
एसीबी टीम ने झालावाड़ा अल्पसंख्यक विभाग में की ट्रैप की कार्रवाई और जिला अल्पसंख्यक अधिकारी ब्रह्म प्रकाश आर्य।
  • ऑफिस में लगी कार का बिल पास करने की एवज में मांगी थी रिश्वत
  • आरोपी ब्रह्मप्रकाश आर्य ने परिचित के एकाउंट में डलवाए पैसे
  • सबूत के तौर पर पर्ची मंगवाकर फोटो ली

कोटा एसीबी ने झालावाड़ के जिला अल्पसंख्यक अधिकारी ब्रह्मप्रकाश आर्य को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते ट्रैप किया है। यह रिश्वत ऑफिस में लगी कार के बिल पास करने के एवज में संवेदक से ली थी। उसने रिश्वत की रकम दूसरे के एकाउंट में जमा करवाई और सबूत के तौर पर पर्ची मंगवाकर फोटो ली। एएसपी ठाकुर चन्द्रशील कुमार ने बताया कि वीरसिंह पुत्र (26) रामचन्द्र मीणा निवासी सवाईमाधोपुर ने शिकायत दी थी।

जिसमें उसने कहा कि उसने उसकी कार (आरजे-14 टीई 0303) झालावाड़ के जिला अल्पसंख्यक अधिकारी कार्यालय में काॅन्टेक्ट पर लगा रखी थी। जिसका 28 हजार रुपए मासिक बिल बनता है। ब्रह्मप्रकाश कार रखने के लिए तीन माह से 10 हजार प्रति माह रिश्वत की मांग कर रहा था। मांग पूरी नहीं करने पर बार-बार गाड़ी हटाने की बोल रहा था। आर्य ने मीणा को खाता संख्या (61277928868 IFSC-SBIN0031763) बताया व हर माह रिश्वत राशि जमा कराने के बाद ही बिल पास करने के लिए बोला।

गाड़ी हटा दी, पुराने बिल पास नहीं किए
वीरसिंह 4 जुलाई को झालावाड़ गया और आर्य से बात की कि मेरी गाड़ी में कोई बचत नहीं है और मैं हर महीने आपकी मांग पूरी नहीं कर सकता। इस पर आर्य ने नाराज होकर उसकी गाड़ी कार्यालय से हटा दी। जिस पर वीरसिंह उसकी गाड़ी लेकर चला गया।

उक्त गाड़ी का पहले का करीब 35-40 हजार रुपए का बिल बकाया चल रहा था, जिसे पास करने के लिए उसने जब आर्य से बात की तो बिल पास करने के लिए उससे 20 हजार रुपए रिश्वत के मांगे। कोटा एसीबी ने जिला अल्पसंख्यक अधिकारी ब्रह्मप्रकाश आर्य का गोपनीय सत्यापन 9 जुलाई को करवाया तो शिकायत की पुष्टि हुई। रिश्वत मांग सत्यापन के दौरान आरोपी ब्रह्मप्रकाश आर्य ने परिवादी के गाडी के पेण्डिंग बिलो को पास करने की एवज 19 हजार रूपए बतौर रिश्वत की मांग की।

रिश्वत का नया तरीका,
पर्ची की फोटो लेते ही आरोपी को दबोच लिया
डीएसपी हर्षराज सिह खरेड़ा ने बताया कि एसीबी ने 13 जुलाई को ट्रैप कार्रवाई का आयोजन किया। ब्रह्मप्रकाश आर्य ने चालाकी से खुद के मोबाइल से परिवादी के मोबाइल पर रिश्वत राशि प्राप्त करने के लिए परिचित शकुंतला के खाता संख्या वाट्सएप पर भेजा। उससे कहा कि वो रिश्वत की रकम इस खाते में जमा करवा दे और सबूत के तौर पर बैंक जमा पर्ची वापस लाकर ले।

परिवादी द्वारा रिश्वत राशि 10 हजार एसबीआई (खाता संख्या 61277928868 ) में जमा करवाई। जिसके बाद वो जमा रसीद आरोपी अधिकारी को लाकर दी तो उक्त आरोपी ने अपने मोबाइल से फोटो लेकर पर्ची वापस परिवादी को दे दी। जैसे ही उसने पर्ची की फोटो ली एसीबी टीम ने ब्रह्मप्रकाश आर्य को दबोच लिया।

खबरें और भी हैं...