सीएम से बोले कोटा संभागीय आयुक्त:'4 जिलों में 30% फसल बर्बाद, कृषि मंत्री ने 90% बताई' ; आपदा का सरकारी आकलन ही सही नहीं तो राहत कैसे पहुंचेगी?

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोटा के सांगोद का यह फोटो हेलिकॉप्टर से लिया है। - Dainik Bhaskar
कोटा के सांगोद का यह फोटो हेलिकॉप्टर से लिया है।

बाढ़ के कारण हुए नुकसान की समीक्षा के लिए शनिवार को सीएम अशोक गहलोत ने कोटा संभाग और धौलपुर जिले के अफसरों और प्रभारी मंत्रियों के साथ बैठक की। इस दौरान सीएम ने कहा कि प्रभावित लाेगाें काे मुआवजा समय पर मिले, इसके लिए सर्वे समय पर पूरा करें। इसमें कंजूसी न करें, गरीब की मदद करने की साेच के साथ काम करें। साथ ही फसलों को हुए नुकसान के आकलन के लिए विशेष गिरदावरी के आदेश भी दिए।हालांकि फसल खराबे के सरकारी आकलनों में ही अंतर है।

कोटा संभागीय आयुक्त केसी मीणा ने सीएम को बताया कि संभाग के 4 जिलों में 5% से 30% फसल खराब हाेने का अनुमान है। इस बार 10 लाख हेक्टेयर में बुवाई की गई थी। इसमें से 3-4 हजार हैक्टेयर में फसल खराब हुई। वहीं तीन दिन पहले काेटा दाैरे पर आए जिले के प्रभारी व कृषि मंत्री लालचंद कटारिया बोले- मकानाें और फसलाें काे भारी नुकसान है। फसलें ताे 80 से 90% खराब हाे चुकी हैं। मैंने ताे पहली बार इतना पानी देखा है।

मृतक आश्रितों को 5 लाख, घायलों को 2 लाख

इधर सीएम ने कहा- गरीब की मदद की साेच रखकर सर्वे करें

राज्य सरकार ने रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए संभाग मुख्यालय वाले सभी जिला कलेक्टरों को 20-20 लाख रुपए व शेष जिलों को 10-10 लाख रुपए रिवाॅल्विंग फंड के रूप में दिए गए हैं। सीएम ने फसलों को हुए नुकसान के आकलन के लिए विशेष गिरदावरी के आदेश दे दिए गए हैं। गहलोत ने यह सहायता राशि प्रभावितों को तत्काल प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

कहा- प्रभावित लाेगाें काे मुआवजा समय पर मिले, इसके लिए सर्वे समय पर पूरा करें। ताकि केंद्र सरकार काे मेमाेरेंडम भेजा जा सके। इसमें कंजूसी न करें, गरीब की मदद करने की साेच के साथ काम करें। कागजाें की परवाह नहीं करें। सीएम ने मृतक आश्रिताें को 5 लाख व घायल को 2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा भी की।

बारां में एमपी के 200 लोगों का हेलिकॉप्टर से रेस्क्यू किया

आईजी रविदत्त गाैड़ ने बीती रात छबड़ा से सटे एमपी के गांव सूंडा में 200 लाेगाें काे हेलिकाॅप्टर से रेस्क्यू किया गया। एमपी के स्थानीय प्रशासन ने हमें अप्रोच किया था। इस पर हेलिकॉप्टर से 200 लाेगाें काे रेस्क्यू कर छबड़ा उपखंड के एक स्कूल में रखा गया है। सीएम ने इसकी तारीफ की।

बाढ़ से काेटा संभाग में 13 हजार मकान ढहे, 27 मौतें
प्रदेश में मानसून शनिवार काे कुछ हल्का पड़ा। काेटा संभाग (कोटा, बारां, बूंदी, झालावाड़) और धौलपुर में बाढ़ तबाही मचा चुकी है। अकेले कोटा संभाग में ही अब तक 12,900 मकान ढह गए हैं, जबकि 27 लोगों की मौत हो गई। बूंदी में 12, काेटा में 6, बारां में 7 व झालावाड़ में 2 मौतें हुईं। ग्राउंड सर्वे के बाद यह आंकड़ा बढ़ सकता है। वहीं प्रदेशभर में अब तक 4 लाख हेक्टेयर फसल बारिश की भेंट चढ़ने का अनुमान है। इसमें सबसे अधिक सोयाबीन है।

खबरें और भी हैं...