• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota Police Failed In Headquarters Report, Because They Are Not Deployed On The Points, They Are Not Checking Even Where They Live.

भास्कर रियलिटी चेक:मुख्यालय की रिपोर्ट में कोटा पुलिस फेल, क्योंकि नाकों पर तैनात नहीं रहती, जहां रहती है वहां भी चेकिंग नहीं कर रही

कोटा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस नाकाम : आम दिनों की तरह ही घूम रहे हैं लोग

जन-अनुशासन पखवाड़े की गाइडलाइन पालना करवाने में कोटा पुलिस-प्रशासन फेल साबित हो रहा है। पुलिस मुख्यालय ने राजस्थान के सभी जिलों की एक गोपनीय रिपोर्ट तैयार की है, जिसमें इसका खुलासा किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोटा और टोंक जिले में सबसे ज्यादा लापरवाही सामने आई है।

पुलिस-प्रशसन 40 फीसदी भी नियमों की पालना नहीं करवा पा रहे हैं। रिपोर्ट के बाद भास्कर टीम ने दोपहर 2 से 5 बजे तक शहर में घूमकर रियलिटी चेक किया तो इस फेल्यौर का सबसे बड़ा कारण नाकों पर पुलिस का नदारद रहना सामने आया।

पुलिस ने भले ही कहने को शहर में नाके लगा दिए हो, लेकिन इन नाकों पर से पुलिस नदारद रहती है। जहां पुलिस रहती भी है तो दूर बैठती है और कोई कंट्रोल नहीं है। ऐसे में यह नाके किसी काम के नहीं है। नाकों पर कोई रोकने-टोकने वाला नहीं होने से आम दिनों की तरह लोगों की आवाजाही हो रही है।
दादाबाड़ी : नाकों से नदारद थी पुलिस, एक जगह तो बैरिकेड्स ही हटा दिए

दादाबाड़ी बड़े चौराहे पर नाके पर दोपहर 2 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक पुलिस तैनात नहीं थी। सिर्फ बैरिकेड्स लगे थे, लेकिन कोई रोकने-टोकने वाला नहीं था। महावीर नगर और जवाहर नगर की तरफ से आने वाले और सीएडी सर्किल की तरफ से आने वालों से कोई पूछताछ नहीं की जा रही थी।

वहीं, दादाबाड़ी गुरुद्वारे के पास लगने वाले बैरिकेड्स तो हटे हुए नजर आए। यही हाल सीएडी सर्किल वाले नाके का है, यहां पर भी पुलिस नहीं रहती। पुलिस नाके से 100 मीटर दूर स्लिप लेन पर दुकानों के बाहर बैठी मिली।

महावीर नगर : नाके से करीब 50 मीटर दूर दुकान के बाहर बैठी थी पुलिस

कोचिंग एरिया का यह तिराहे का प्वाइंट सबसे खास है। इस प्वाइंट से महावीर नगर विस्तार योजना, पारिजात कॉलोनी, जवाहर नगर और राजीव गांधी नगर से लेकर पूरे कोचिंग एरिया का एक बड़ा भाग कवर होता है। अपराह्न 4 बजे यहां पर कोई भी पुलिस वाला नहीं था।

महावीर नगर विस्तार योजना, पारिजात कॉलोनी और राजीव गांधी नगर इन रास्तों पर कोई पुलिस नहीं थी। पुलिस के तीन जवान नाके से करीब 50 मीटर दूर दुकान के बाहर बैठे थे। कोई भी आए-जाए किसी को रोका-टोका नहीं आ रहा था।

भास्कर की सूचना के बाद कलेक्टर और एसपी ने ली ऑनलाइन मीटिंग

पुलिस मुख्यालय द्वारा राजस्थान के सभी जिलों की जारी की गई गोपनीय रिपोर्ट में जन-अनुशासन पखवाड़े की गाइडलाइन पालना करवाने में कोटा पुलिस-प्रशासन फेल साबित होने के बाद कोटा कलेक्टर उज्ज्वल राठौड़ और कोटा ग्रामीण एसपी शरद चौधरी ने सभी कोटा ग्रामीण क्षेत्र के उपखण्ड मजिस्ट्रेट, वृत्ताधिकार तथा थाना अधिकारियों की ऑनलाइन मीटिंग ली।

जिसमें निर्देश दिए कि सरकार द्वारा संक्रमण की चेन रोकने के लिए जारी की गई गाइडलाइन की पूर्ण पालना करवाएं तथा सख्ती के साथ कार्रवाई करें। कोरोना गाइडलाइन की पालना व जन अनुशासन पखवाड़ा की पालना करवाने के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के बारे में जनता को जागरूक करें।

शादी विवाह में निश्चित संख्या से ज्यादा भीड़ ना हो इसके लिए निगरानी रखें। वेबिनार में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पारस जैन ने ज्यादा से ज्यादा कार्रवाई करने के निर्देश दिए। अनावश्यक मूवमेंट को बंद करने के लिए बताया। जिला मजिस्ट्रेट कोटा ने उपखंड अधिकारी तथा पुलिस अधिकारियों को साथ रहकर कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया गया।

खबरें और भी हैं...