पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota,rajasthan,14 year old Teenager Collides With Train While Looting A Kite On The Track In Kota, Painful Death

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पतंग के चक्कर में गई जान:कोटा में पटरी पर पतंग लूटते समय ट्रेन से टकराया 14 साल का बच्चा, मौके पर दर्दनाक मौत

कोटा4 महीने पहले
रेलवे ट्रैक पर पतंग लूटने के चक्कर में अवध ट्रेन से टकराकर 14 साल के बच्चे की मौत हो गई।

कोटा में मकर संक्रांति पर पतंग लूटने के चक्कर में एक 14 साल के बच्चे की मौत हो गई। वह रेल पटरी पर पतंग के पीछे दौड़ रहा था, तभी ट्रैक पर ट्रेन से टकरा गया। हादसे में बच्चे का पैर कट गया। अधिक खून बहने से मौके पर ही बच्चे की दर्दनाक मौत हो गई। मौके पर बच्चे का जूता और पतंग का मांझा पड़ा हुआ था। हादसा माला फाटक के पास दिल्ली-मुंबई रेल ट्रैक पर हुआ।

पुलिस ने बताया कि हादसे में 7वीं क्लास में पढ़ने वाले करम बैरवा पिता सत्य नारायण की मौत हो गई। वह महात्मा गांधी कॉलोनी माला फाटक में रहता था। जहां हादसा हुआ वहां से बच्चे का घर करीब 100 मीटर की दूरी पर है। बच्चे की मौत का पता चलते ही घर में कोहराम मच गया। माता-पिता और आस-पड़ोस के लोग दौड़ कर ट्रैक पर पहुंचे, लेकिन तब तक बच्चे की मौत हो गई थी। मृतक करम परिवार का इकलौता बेटा था।

हादसे के बारे में बताते स्थानीय लोग।
हादसे के बारे में बताते स्थानीय लोग।

इकलौता बेटा था करम
करम के पिता ने बताया, 'हादसा सुबह करीब 11 बजे हुआ। कुछ देर पहले ही करम ने चीज खाने के लिए पैसे मांगे थे। रोते हुए उन्होंने कहा कि मुझे क्या पता था कि वह आखिरी बार मुझसे पैसे मांग रहा है। पैसे लेकर वह नजदीक में ही एक दुकान पर जाने की बात कहकर घर से निकला था। हम लोग अंदर काम में लग गए, तभी उसके ट्रेन से कटने की खबर आ गई। हम लोग दौड़ते हुए वहां पहुंचे तो उसकी मौत हो चुकी थी। उसके जूते और पतंगा का मांझा वहीं बिखरा हुआ था।' परिवार में पिता के अलावा मां संतोष और छोटी बहन हैं।

हादसे के बाद से परिवार में छाया मातम।
हादसे के बाद से परिवार में छाया मातम।

परिवार ने नहीं कराया पोस्टमार्टम
इकलौते बेटे की मौत से व्यथित परिवार ने शव का पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया। इसके बाद रेलवे पुलिस ने पंचनामा करके शव परिजनों को सौंप दिया। बच्चे के पिता सत्यनारायण मजदूरी करते हैं।

ओवरब्रिज बनने के बाद से इस इलाके से रेलवे ने फाटक हटा दिए गए।
ओवरब्रिज बनने के बाद से इस इलाके से रेलवे ने फाटक हटा दिए गए।

स्थानीय लोगों ने बताया कि इस रेल लाइन पर रोज ट्रेन से टकराकर जानवरों की मौत हो रही है। ओवरब्रिज बनने के बाद से इस इलाके से फाटक हटा दिए गए थे। फाटक की जगह लोहे की जाली लगा दी गई। लोगों का कहना है रेल प्रशासन से शिकायत के बाद भी यहां फाटक नहीं लगाए गए। ये बड़ी लाइन है जो बंद नहीं होती। प्रशासन की अनदेखी से इस ट्रैक पर अक्सर हादसे होते हैं। लोगों ने प्रशासन से कई बार इसकी शिकायत की लेकिन किसी ने भी इसके लिए कोई प्रयास नहीं किए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

और पढ़ें