पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महाराष्ट्र के बाद राजस्थान में भी सामने आया अनूठा केस:कोटा में महिला और पुरुष का दावा- टीका लगवाने के बाद हाथ से चिपकने लगे लोहे के सामान; डॉक्टर भी सुनकर हैरान

कोटा7 दिन पहले
एक पुरुष व एक महिला का दावा है कि वैक्सीशन के बाद लोहे की चीजें चिपक रही हैं।

महाराष्ट्र में नासिक के बाद राजस्थान के कोटा में अनूठा मामला सामने आया है। यहां एक पुरुष व एक महिला का दावा है कि कोरोना वैक्सीन की डोज लेने के बाद उनके शरीर में चुंबकीय शक्ति पैदा हो गई है। अब उनके शरीर पर सिक्के,कैंची, सुई चिपक जा रहे हैं। यह ठीक वैसा है, जैसे किसी चुंबक से लोहा चिपक जाता है। महिला लता व पुरुष सज्जन सिंह दोनों आरके पुरम के निवासी हैं और पड़ोसी हैं।

पढ़ें, नासिक में बुजुर्ग के शरीर से चिपकने लगा लोहे-स्टील का सामान, जांच करने पहुंचे डॉक्टर्स हैरान, सरकार जांच कराएगी..

लता ने भी लोहे की कैंची, सिक्के लगाकर देखे तो उनके शरीर पर भी चिपक गए।
लता ने भी लोहे की कैंची, सिक्के लगाकर देखे तो उनके शरीर पर भी चिपक गए।

सज्जन सिंह ने बताया कि वे पेशे से फोटोग्राफर हैं। 24 मई को आरएसी ग्राउंड कैम्प में वैक्सीन की पहली डोज लगाई थी। दूसरे दिन खरीदारी करने मॉल में गए वो बेहोश हो गए। रीढ़ की हड्डी में प्रॉब्लम आई। 8 दिन पहले डॉक्टर को दिखाया था। डॉक्टर ने दवा दी। पिछले तीन चार दिन से बायां हाथ लोहे के सम्पर्क में आने से चमड़ी खींचने की शिकायत होती थी। इसके बाद जिस जगह वैक्सीन लगाई गई वहां सिक्के, सुईं, पैन ड्राइव चिपकने लग गए। ऐसा ही उनकी पड़ोसी लता के साथ हुआ।

बायां हाथ लोहे के सम्पर्क में आने से चमड़ी खिंचने की शिकायत होती थी।
बायां हाथ लोहे के सम्पर्क में आने से चमड़ी खिंचने की शिकायत होती थी।

सज्जन सिंह के साथ हुई घटना के बाद लता ने भी लोहे की कैंची, सिक्के लगाकर देखे तो उनके शरीर पर भी चिपक गए। लता ने तो लोहे के कवर वाला मोबाइल लगाकर बताया। जो उनके बाएं हाथ पर चिपक गया। लता ने दो माह पहले वैक्सीन की पहली डोज लगाई थी।

लता ने दो महीने पहले वैक्सीन की पहली डोज लगाई थी।
लता ने दो महीने पहले वैक्सीन की पहली डोज लगाई थी।

कई तरीके से पुष्टि की
पहले तो लगा कि पसीने के कारण सिक्के, पैन ड्राइव सहित लोहे की छोटी चीजे चिपक रही होगी। उन्होंने कपड़े से पसीना साफ करके दुबारा प्रयास किया तो वही नजारा नजर आया। फिर हाथ पर पाउडर लगाकर चैक किया। पाउडर लगाने के बाद सिक्के, पैन ड्राइव, हाथ में नही चिपके लेकिन चुम्बकीय खिंचाव महसूस हुआ। फिर हाथ को गीले कपड़े से साफ करके दुबारा प्रयास किया गया।

थोड़ी देर तक तो सिक्के, पैन ड्राइव हाथ पर नहीं ठहरे, लेकिन कुछ देर बाद फिर से चिपकने लगे। सज्जन सिंह व लता के दावे की भास्कर पुष्टि नहीं करता है। इस संबंध में दोनों ने स्थानीय डॉक्टरों को भी बताया, लेकिन सभी ने हैरानी जताई है, किसी ने भी इस मामले में कुछ बोलने से इनकार कर दिया है।

खबरें और भी हैं...