• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota,rajasthan,After The Death Of The Newborn, The Relatives Brought The Body To The Collectorate, Accusing The Hospital Administration Of Negligence

जेकेलोन अस्पताल में नवजात की मौत से हंगामा:शव को लेकर कलेक्ट्री में पहुंचे परिजन, अस्पताल पर लापरवाही का आरोप

कोटा5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
परिजन नवजात के शव को लेकर कलेक्ट्री कार्यालय चले गए। फिर कलेक्टर से मिले बिना ही वापस अस्पताल लौट आए - Dainik Bhaskar
परिजन नवजात के शव को लेकर कलेक्ट्री कार्यालय चले गए। फिर कलेक्टर से मिले बिना ही वापस अस्पताल लौट आए

संभाग के सबसे बड़े मातृ एवं शिशु रोग अस्पताल जेकेलोन में आज एक बार फिर हंगामा देखने को मिला। डिलीवरी के दौरान नवजात की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया। जो स्टाफ के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे। हंगामे की सूचना पर नयापुरा थाना पुलिस मौके पर पहुंची और समझाइश की।लेकिन परिजन नहीं माने। परिजन नवजात के शव को लेकर कलेक्ट्री कार्यालय चले गए। फिर कलेक्टर से मिले बिना ही वापस अस्पताल लौट आए। कलेक्टर कार्यालय से अस्पताल अधीक्षक को सूचना दी गई। अधीक्षक ने कार्रवाई का आश्वासन दिया इसके बाद परिजन शांत हुए।

दरअसल, इंदिरा गांधी नगर निवासी गर्भवती माधुरी (28) को 8 जून को जेके लोन अस्पताल में भर्ती करवाया था। शाम को उसके दर्द शुरू हुआ। आज दोपहर डेढ़ बजे उसकी नॉर्मल डिलीवरी में मृत बच्चा पैदा हुआ। परिजनों ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से बच्चे की मौत हुई। नवजात की दादी का आरोप है कि कल रात 9 से 12 बजे तक उसके दर्द हुआ था। वो तड़प रही थी। लेकिन किसी स्टाफ ने उसे नहीं संभाला। नवजात की दादी ने नर्सिंग स्टाफ पर पैसे मांगने के आरोपी भी लगाएं। अधीक्षक ने जांच का आश्वासन दिया, जिसके बाद परिजन नवजात का शव लेकर रवाना हुए।

नवजात की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया
नवजात की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया

स्त्री व प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ बीएल पाटीदार ने बताया कि प्रसूता को 6 जून को 9 माह पूरे हो चुके थे। उसको 8 जून को अस्पताल लाए थे। 4-5 डॉक्टरों ने प्रसूता का ट्रीटमेंट किया। प्रसूता के आज ऑपरेशन की तैयारी कर रखी थी। लेकिन उसके दर्द तेज हुआ और नॉमर्ल डिलीवरी हुई। बच्चा जीवित पैदा हुआ था। पर धड़कन कमजोर थी। लापरवाही जैसी कोई बात नही।परिजन खुद नॉर्मल डिलीवरी करने की बात कह रहे थे। बाद में ऑपरेशन के लिए तैयार हुए।

अस्पताल अधीक्षक डॉ अशोक मूंदड़ा ने बताया कि नवजात के परिजन शिकायत करने आये थे। उनसे लिखित में शिकायत मांगी थी। लेकिन उन्होंने लिखित शिकायत नही दी। और बिना पोस्टमार्टम के नवजात का शव ले गए। फिर भी मामले की जांच करवा रहे है।

खबरें और भी हैं...