पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota,rajasthan,Death Of A Patient Suffering From Black Fungus, Relatives Allege Negligence, Cleanliness Of Hospital Administration The Patient Was Suffering From Incurable Disease

MBS अस्पताल में ब्लैक फंगस के मरीज की मौत:परिजनों ने लापरवाही का लगाया आरोप, अस्पताल प्रशासन की सफाई- मरीज असाघ्य रोग से पीड़ित था

कोटा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया    - Dainik Bhaskar
ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया   

संभाग के सबसे बड़े MBS अस्पताल में एक बार फिर हंगामा देखने को मिला। ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाया। परिजनों का आरोप है कि ऑपरेशन के बाद मरीज को जनरल वार्ड में खराब कंसंट्रेटर पर रखा गया। जिस कारण मरीज की मौत हो गई। मौत के बाद परिजनों ने हंगामा किया। सूचना पर नयापुरा पुलिस मौके पर पहुंची और समझाइश कर मामला शांत कराया। मृतक ओम प्रकाश साहू (48) बारां जिले के छबड़ा कस्बे के निवासी थे। जिन्हें इलाज के लिए 2 जून को MBS अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

ओम प्रकाश साहू, बारां जिले के छबड़ा कस्बे के निवासी थे। जिन्हें इलाज के लिए 2 जून को MBS अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
ओम प्रकाश साहू, बारां जिले के छबड़ा कस्बे के निवासी थे। जिन्हें इलाज के लिए 2 जून को MBS अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मृतक के दामाद विनोद साहू ने बताया कि उसके ससुर के सिर में दर्द रहता था। जांच करवाने पर उनके साइनस में सूजन आई थी। 2 जून को MBS में भर्ती कराया था। आज दोपहर में उनका ऑपरेशन प्लान था। ऑपरेशन से पहले वो खुद चल कर टॉयलेट करने गए थे। दोपहर साढ़े चार बजे ऑपरेशन के बाद उन्हें जनरल वार्ड में शिफ्ट किया गया था। वार्ड में उन्हें ऑक्सीजन कन्संट्रेटर लगाया गया था। जब उन्होंने कन्संट्रेटर का पैरामीटर चैक किया तो मर्करी का पारा नही उठ रहा था। उन्होंने प्रेशर बढ़ाया तो भी मर्करी का पारा नहीं उठा। वार्ड में दिखावे के लिए खराब कन्संट्रेटर लगा रखा था। जब उन्होंने इस बारे में नर्सिंग स्टाफ से शिकायत की। तो नर्सिंग स्टाफ ने कहा कि ये सरकारी चीज है ऐसे ही चलेगी। हम कुछ नही कर सकते। इस दौरान मरीज की मौत हो गई।

लापरवाही के आरोप बेबुनियाद: डॉक्टर जैन

ईएनटी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉक्टर आरके जैन ने बताया कि मरीज के कोरोना व डायबिटीज थी। ऑपरेशन के पहले परिजनों को मरीज की गम्भीर स्थिति के बारे में बता दिया था। ऑपरेशन के बाद मरीज को वार्ड में शिफ्ट किया गया था। वो पहले से ही गम्भीर असाघ्य रोग से पीड़ित था। अस्पताल पर लापरवाही के आरोप बेबुनियाद है। ब्लैक फंगस के अब तक 53 ऑपरेशन कर चुके हैं।

अस्पताल अधीक्षक डॉक्टर नवीन सक्सेना ने बताया कि मरीज असाघ्य रोग से पीड़ित तो था ही उसके आंख के नीचे, ब्रेन व साइनस में सूजन थी। परिजनों को कुछ दिन रुकने की सलाह दी थी। परिजनों के कहने के बाद ऑपरेशन किया। गम्भीर स्थिति में ऑपरेशन करने पर परिजनों ने लिखित में दिया था।

खबरें और भी हैं...