कर्ज के बोझ में दी जान:पहले लॉकडाउन में काम धंधा बंद हुआ, 4 लाख का कर्ज भी चढ़ा; परेशान युवक ने घर में लगाई फांसी

कोटा10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक सोनू सिंह साड़ी छपाई का काम करता था। परिजनों ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से उसका काम धंधा ठप्प था। - Dainik Bhaskar
मृतक सोनू सिंह साड़ी छपाई का काम करता था। परिजनों ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से उसका काम धंधा ठप्प था।

कोटा में कुंन्हाड़ी इलाके के बालाजी टाउन में एक युवक ने घर में पंखे से लटककर खुदकुशी कर ली। मृतक का नाम सोनू सिंह था। वह साड़ी छपाई का काम करता था। परिजनों ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से उसका काम धंधा बंद था। करीब 3 से 4 लाख का कर्ज चढ़ने की वजह से मानसिक परेशान था। उसके पत्नी व दो बच्चे हैं। देर रात उसने पंखे पर साड़ी से फंदा लगाकर फांसी लगा ली। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौप दिया। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है। पुलिस पता कर रही है कि कर्जदारों के दवाब में आकर तो उसने खुदकुशी नहीं की।

मृतक के भाई मुकेश ने बताया कि सोनू पिछले 10 -12 साल से साड़ी छपाई का काम करता था। घर मे कारखाना लगा रखा था। लॉकडाउन के बाद से काम धंधा बंद होने से वह मानसिक परेशान था। परिवार को पालने के लिए उसने कर्ज भी ले रखा था। लेकिन उसने कभी कर्ज का जिक्र नहीं किया। घर में वह दूसरी मंजिल में परिवार के साथ रहता था।

भाई ने बताया कि शुक्रवार रात 10 बजे सोनू, पत्नी और दो बच्चों के साथ ऊपर के कमरे में सोने चला गया। थोड़ी देर बाद उसने पास वाले कमरे में जाकर फांसी लगा ली। सबसे पहले उसके बेटे ने रोते हुए फांसी पर लटकने की बात बताई। इसके बाद उसे फंदे से उतारकर तुंरत अस्पताल लाए, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

कुंन्हाड़ी थाना एएसआई बाल किशन ने बताया कि सोनू सिंह संयुक्त परिवार में रहता था। उसने घर के कमरे में साड़ी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक के भाई की रिपार्ट दी है। मामले की जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...