पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota,rajasthan,Nursing Workers At JK Lone Announced 2 hour Work Boycott, Returned To Work After Half An Hour Upon Assurance

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निलंबित स्टाफ को बहाल करने की मांग:जेके लोन में नर्सिंगकर्मियों ने 2 घंटे कार्य बहिष्कार की घोषणा की, आश्वासन मिलने पर आधे घंटे बाद काम पर लौटे

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल के गेट पर विरोध जताते नर्सिंगकर्मी - Dainik Bhaskar
अस्पताल के गेट पर विरोध जताते नर्सिंगकर्मी

जेके लोन अस्पताल में बच्चों की मौत के बाद हुई प्रशासनिक कार्यवाही का विरोध थमने का नाम नही ले रहा। निलंबित 3 नर्सिंगकर्मियों को वापस बहाल करने की मांग को लेकर अस्पताल के नर्सिंगकर्मी आंदोलन कर रहे है। गुरुवार को नर्सिंगकर्मियों ने 12 से 2 बजे तक कार्य बहिष्कार की घोषणा की। सभी नर्सिंगस्टाफ ने दोपहर 12 से काम बंद कर दिया। आक्रोशित नर्सिंगकर्मी अस्पताल गेट पर इकट्ठा हो गए। लेकिन आधे घंटे बाद ही उच्चाधिकारियों से मिले आश्वासन के बाद वापस काम पर लौट गए।

नर्सिंगकर्मियों का कहना है कि नर्सिंग कर्मचारी दिन रात अस्पताल में काम करते हैं। एक वार्ड में 70 मरीजों की देखभाल करते है। कोरोना काल में नर्सिंगकर्मियों ने जान की परवाह किये बिना मरीजों की सेवा की। उसके बाद भी जेके लोन में गलत तरीके से 3 नर्सिंग कर्मियों को सस्पेंड किया गया है। जिसका नर्सिंगकर्मचारी लम्बे समय से विरोध कर रहे है। उसके बाद भी सुनवाई नही हुई।नर्सिंग कर्मियों की मांग है कि सरकार उनका निलंबन वापस लेकर, उन्हें बहाल नहीं किया, तो वे लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने को मजबूर होंगे।

गौरतलब है कि जेके लोन अस्पताल में बच्चों की मौत के मामले ने सरकार कार्रवाई की थी। पहले अधीक्षक,पीडियाट्रिक के एचओडी को पद से हटाया था। फिर 24 दिसम्बर को लापरवाही बरतने के मामले पोस्टनेटल वार्ड में कार्यरत तीन नर्सिंग स्टाफ सस्पेंड किया। बच्चों की मौत के वक्त स्टाफ नर्स द्वितीय रोजी शर्मा, एएनएम सावित्री राठौर, व पुष्पलता सक्सेना की नाइट ड्यूटी थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

और पढ़ें