गिरफ्तार किया:कोटा के एएसआई का बेटा भी गिरफ्तार, गिरोह ने रीट के 26 अभ्यर्थियों से वसूले थे 4 करोड़

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • गंगापुरसिटी के उदईमोड़ थानाधिकारी गंभीर सिंह ने गिरोह के सरगना देशराज मीणा को गिरफ्तार किया

रीट परीक्षा में पास करवाने का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह का गिरफ्तार सदस्य शोभाराम कोटा ग्रामीण पुलिस में पदस्थ एक एएसआई का बेटा है। पुलिस इस बात को पहले दिन से छुपा रही थी। एएसआई पुलिस लाइन में तैनात हैं। वहीं, गिरोह का मुख्य आरोपी देशराज मीणा फिलहाल गंगापुर सिटी पुलिस की गिरफ्त में है। वहां उसके पास से 4 करोड़ रुपए के लेन-देन का हिसाब मिला है। एक परीक्षार्थी से 15 लाख का सौदा हुआ था, ऐसे में अगर यह गिरोह सफल हो जाता तो करीब 26 अभ्यर्थियों को टीचर बना देते।

जांच अधिकारी भगवान सिंह ने बताया कि आरोपी शोभाराम (31) निवासी मकान नंबर 78 बोरखेड़ा पेशे से प्राॅपर्टी डीलर है। उसके पिता कोटा ग्रामीण जिले की पुलिस लाइन में तैनात हैं और एएसआई हैं। पुलिस एएसआई की भूमिका भी जांच कर रही है, लेकिन अब तक की जांच में उनके खिलाफ काेई सबूत नहीं मिला है। पुलिस ने 24 सितम्बर को कोटा के बोरखेड़ा थाना क्षेत्र से शोभाराम व कुंवरपाल सिंह को गिरफ्तार किया। ये दोनों आरोपी सवाईमाधोपुर जिले के बामनवास के कुंडली निवासी देशराज मीणा व नागौर जिले के जायल थाना क्षेत्र के कठोती गांव निवासी सुदेश बेड़ा के सम्पर्क में थे। जिसके बाद पुलिस ने सुदेश को भी गिरफ्तार किया। तीनों को मंगलवार को न्यायालय में पेश किया, जहां से इन्हें जेल भेज दिया गया। गौरतलब है कि 26 सितंबर को ताथेड़ के एक सेंटर से भी फर्जी अभ्यर्थी गिरफ्तार हुआ था।

वाट्सएप चैट और स्क्रीन शॉट से खुलेगा 4 करोड़ का राज

गंगापुरसिटी के उदईमोड़ थानाधिकारी गंभीर सिंह ने गिरोह के सरगना देशराज मीणा को गिरफ्तार किया है। जहां उसके पास से 4 करोड़ रुपए के लेन-देन का हिसाब मिला है। पुलिस ने उसके पास से मोबाइल, परिक्षार्थियों के प्रवेश पत्रों के स्क्रीन शॉट, कार समेत अन्य चीजें बरामद की हैं। पुलिस का कहना है कि आरोपी के वाट्सएप चैट और प्रवेश पत्रों के स्क्रीन शॉट से 4 करोड़ के लेन-देन के हिसाब के राज खुलेंगे। इधर, कोटा पुलिस उसे गंगापुर सिटी में जेल भेजने के बाद प्रोडेक्शन वारंट पर अपने केस में गिरफ्तार करेगी। क्योंकि देशराज मीणा व सुदेश बेड़ा आपस में संपर्क में थे और दोनों ने कोटा में शोभाराम व कुंवरपाल सिंह को परीक्षार्थियों को फंसाने का काम दिया था। सुदेश, शोभाराम व कुंवरपाल कोटा से पकड़े गए।

खबरें और भी हैं...