• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota's Dominance Continues, 6 Classroom Students Secured Rank 1, Obtained 300 Marks Out Of 300 In Different Sessions Kota Rajasthan

JEE Main में राजस्थान के 6 टॉपर:किसी ने 11वीं पास करते ही किया टॉप, कोई कराटे में चैंपियन तो कोई चेस का मास्टर; जानें सभी टॉपर्स की सक्सेस स्टोरी

कोटाएक महीने पहले
इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के नतीजे जारी।

देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा JEE Main की आल इंडिया रैंक जारी कर दी गई है। JEE Main के चारों सेशन के सम्मिलित परिणामों में एक बार फिर कोटा का दबदबा दिखा है। टॉप रैंक प्राप्त करने वाले 18 रैंकर्स में से 6 स्टूडेंट्स कोटा की कोचिंग से हैं। इसमें अंशुल वर्मा, सिद्धान्त मुखर्जी, मृदुल गोयल, काव्या चौपड़ा, पुलकित गोयल और गुरअमृत सिंह शामिल हैं, जिन्होंने अलग-अलग JEE Main सेशन में 300 में से 300 अंक प्राप्त किए हैं।

परिणामों में करीब 2.5 लाख स्टूडेंट्स को JEE Advanced के लिए पात्र घोषित किया जाएगा। इसमें सामान्य वर्ग के 1,01,250, EWS के 25 हजार, OBC के 67,500, SC के 37,500 और ST के 18,750 स्टूडेंट्स शामिल होंगे।

सिद्धान्त मुखर्जी को है कराटे का शौक।
सिद्धान्त मुखर्जी को है कराटे का शौक।

11वीं के साथ ही AIR-1 रैंक प्राप्त की, 12वीं की परीक्षा इस साल देंगे सिद्धान्त
सिद्धान्त मुखर्जी ने JEE Main में आल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है। सिद्धान्त मूलरूप से मुंबई के रहने वाले हैं। आईआईटीयन बनने का सपना लेकर 2019 में 11वीं कक्षा में कोटा आ गए थे। अपनी नानी के साथ रहकर JEE Advanced के साथ 12वीं बोर्ड की तैयारी में जुटे हुए हैं। सिद्धान्त ने कहा कि बीटेक करने के बाद वे इनोवेटिव इंडिया में अपना योगदान देना चाहते हैं। हाल ही में सिद्धान्त कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से भी पढ़ाई के लिए ऑफर आया है। पढ़ाई के साथ-साथ उन्हें कराटे का भी शौक है। सिद्धांत इसमें ब्लैक बेल्ट और क्वींस कॉमनवैल्थ निबंध प्रतियोगिता में गोल्ड मैडल प्राप्त कर चुके हैं। सिद्धान्त ने इससे पहले JEE Main फरवरी में 100 पर्सेन्टाइल के साथ-साथ 300 में से 300 अंक प्राप्त किए हैं।

मृदुल अग्रवाल ने फरवरी JEE Main के बाद मार्च में भी 100 पर्सेन्टाइल प्राप्त किए हैं।
मृदुल अग्रवाल ने फरवरी JEE Main के बाद मार्च में भी 100 पर्सेन्टाइल प्राप्त किए हैं।

हर रोज नया टारगेट लेकर पढ़ाई- मृदुल अग्रवाल
मृदुल अग्रवाल ने फरवरी JEE Main के बाद मार्च में भी 100 पर्सेन्टाइल प्राप्त किया है। मार्च JEE Main में मृदुल ने 300 में से 300 अंक प्राप्त किए। मृदुल रोजाना का टारगेट लेकर पढ़ाई करते हैं। सुबह तैयारी कर लेते हैं कि अगले दिन क्या पढ़ाई करनी है। रोजाना 6 से 8 घंटे सेल्फ स्टडी हो जाती है। मृदुल अग्रवाल ने कहा- मैं पिछले तीन साल से कोटा में पढ़ रहा हूं। 100 पर्सेन्टाइल को लेकर कोशिश की थी, जो सफल रही। अब JEE Advanced का टारगेट है और आईआईटी मुम्बई से कम्प्यूटर साइंस की पढ़ाई करना चाहता हूं।

काव्या चौपड़ा ने JEE mains में ऑल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है।
काव्या चौपड़ा ने JEE mains में ऑल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है।

300 में से 300 अंक के साथ काव्या पहली छात्रा
काव्या चौपड़ा ने JEE Main में आल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है। इससे पूर्व JEE Main में 100 पर्सेन्टाइल के साथ-साथ 300 में से 300 अंक प्राप्त किए हैं। काव्या आईआईटी मुंबई से कम्प्यूटर साइंस में बीटेक करना चाहती हैं। काव्या ने बताया- मैंने फरवरी अटैम्प्ट में 99.97 पर्सेन्टाइल स्कोर किए थे, लेकिन मेरा टारगेट 100 पर्सेन्टाइल स्कोर का था। इसलिए मैंने JEE Main मार्च अटैम्प्ट दिया। मैंने 15 दिनों के अंतराल में केमिस्ट्री पर ज्यादा ध्यान दिया। मैंने 10वीं कक्षा 97.6 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण की है। 11वीं कक्षा में एनएसइए और 9वीं कक्षा से लगातार आरएमओ क्वालिफाइड कर रही हूं।

JEE Main में ऑल इंडिया 1 रैंक प्राप्त पुलकित पंजाब में बठिंडा के रहने वाले हैं।
JEE Main में ऑल इंडिया 1 रैंक प्राप्त पुलकित पंजाब में बठिंडा के रहने वाले हैं।

JEE Main में ऑल इंडिया 1 रैंक रैंक लाने वाले पुलकित पंजाब के बठिंडा के रहने वाले हैं। पुलकित ने बताया- मैं पिछले दो साल से कोटा में तैयारी कर रहा हूं। रोजाना 7 से 8 घंटे सेल्फ स्टडी करता हूं। अब JEE Advanced क्रेक करने पर पूरा फोकस है। पुलकित रीक्रिएशन के लिए फैमिली के साथ समय बिताते हैं। आईआईटी मुम्बई से सीएस ब्रांच से इंजीनियरिंग करना चाहते हैं। पुलकित ने बताया कि पढ़ाई के लिए कोटा में बेहतरीन माहौल है, यहां की टीचिंग मैथेडोलॉजी तो बेस्ट है इसके अलावा फैकल्टीज काफी सपोर्टिव है। कभी कोई डाउट होता तो फैकल्टीज मदद के लिए तैयार रहती है।

गुरअमृत सिंह ने बताया कि सुबह के समय दो घंटे फिजिक्स पढ़ते हैं। इसके बाद दो से तीन घंटे केमिस्ट्री दिन में और रात को मैथ्स।
गुरअमृत सिंह ने बताया कि सुबह के समय दो घंटे फिजिक्स पढ़ते हैं। इसके बाद दो से तीन घंटे केमिस्ट्री दिन में और रात को मैथ्स।

JEE Main फरवरी में 100 पर्सेन्टाइल स्कोर करने वाले गुरअमृत सिंह ने बताया कि सुबह के समय दो घंटे फिजिक्स पढ़ते हैं। इसके बाद दो से दिन में तीन घंटे केमिस्ट्री और रात को मैथ्स। लॉकडाउन के समय कोचिंग नहीं गए, आने-जाने में जो टाइम बचा उसे भी पढ़ने में काम लिया। लॉकडाउन से फायदा हुआ और फेकल्टीज हर समय डाउट के लिए मिली। ऑनलाइन क्लासेज टाइम से शुरू होना बहुत लाभदायक रहा। वे रोजाना पढ़ाई के साथ शाम को दो घंटे क्रिकेट या फुटबाल खेलते हैं। जेईई-एडवांस्ड की तैयारी कर रहे है। रिक्रिएशन के लिए मम्मी-पापा से बातचीत करते हैं।

अंशुल वर्मा ने जेईई-मेन आल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है।
अंशुल वर्मा ने जेईई-मेन आल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है।

रीक्रिएशन के लिए पिता के साथ चेस खेलते हैं अंशुल
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर निवासी अंशुल वर्मा ने JEE Main आल इंडिया रैंक 1 प्राप्त की है। इसके साथ ही JEE Main तीसरे सेशन में 300 में से 300 अंक हासिल कर 100 पर्सेन्टाइल स्कोर किया है। अंशुल ने ऑनलाइन की बजाय कोटा में रहकर क्लासरूम में जाकर पढ़ाई की। अंशुल ने बताया कि वे रोजाना 10 घंटे पढ़ाई करते हैं। रीक्रिएशन के लिए क्रिकेट खेलते हैं या फिर पापा के साथ चेस खेलते हैं। फिलहाल जेईई एडवांस्ड पर फोकस है। अंशुल भविष्य में आईआईटी मुम्बई की सीएस ब्रांच से बीटेक करना चाहते हैं।

खबरें और भी हैं...