पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Madan Dilawar Said The Fall Of The One Who Maintains The Illusion Is Certain, We Are Not Individualistic, We Are Organizational, Whatever The Party Thinks Appropriate, It Will Decide On Those Who Make Statements In Kota Rajasthan

भास्कर इंटरव्यू, भाजपा में भी अब पावर पॉलिटिक्स:वसुंधरा ही भाजपा के बयान पर मदन दिलावर भड़के, कहा-जो भ्रम पालता है, उसका पतन निश्चित, हम व्यक्तिनिष्ठ नहीं, संगठननिष्ठ हैं

कोटा2 महीने पहलेलेखक: मुकेश सोनी
  • कॉपी लिंक
भाजपा के प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर। - Dainik Bhaskar
भाजपा के प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर।

दो धड़ों में बंटी कांग्रेस की लंबी लड़ाई के बीच कुछ दिनों से भाजपा में भी पावर पॉलिटिक्स तेज हो गई है। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के भाजपा के पोस्टर से गायब होने के बाद मौजूदा और पूर्व विधायकों के उनके पक्ष में लगातार बयान आ रहे हैं। इन बयानों के बाद अब रामगंजमंडी विधायक व भाजपा प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर ने ऐसे नेताओं के खिलाफ बयान देकर पार्टी में उबाल ला दिया है।

असल में पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल व भवानी सिंह राजावत के बाद अब छबड़ा विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने वसुंधरा राजे को भाजपा का सर्वमान्य व सर्वाधिक शक्तिशाली नेता बताते हुए कहा कि भाजपा में वोट स्विंग कराने की ताकत सिर्फ वसुंधरा राजे में है। इस तरह के बयानों के बीच मदन दिलावर ने कि व्यक्ति विशेष को लेकर दिया गया कथन पार्टी की विचारधारा से मेल नहीं खाता। घमंड पालने वालों का हश्र अच्छा नहीं हुआ। अगर कोई ये कहे कि रामगंजमंडी में तो पार्टी मदन दिलावर ही है। और मदन दिलावर के बिना काम नहीं चलेगा, तो यह बात कहने वाले से बड़ा मूर्ख कोई नहीं हैl जो भ्रम पालता है, उसका पतन निश्चित है।

राजस्थान की राजनीति में चल रहे घटनाक्रम के बीच भाजपा की पावर पॉलिटिक्स पर भास्कर ने मदन दिलावर से बातचीत की-

भाजपा में व्यक्ति बड़ा है या संगठन?

हमारे यहां संगठन सर्वोपरि है, हमें व्यक्ति निष्ठ की शिक्षा नहीं देते हैं। हमारे यहां संगठननिष्ठ कार्यकर्ता होते हैं, जो व्यक्तिवादी बात करता है, इसका मतलब उसके कार्यकर्ता निर्माण में कोई ना कोई कमी रह गई है। उसको पार्टी में और काम करने और सीखने की जरूरत है।

आपकी पार्टी के दो पूर्व विधायक व एक वर्तमान विधायक ने भाजपा ही वसुंधरा और वसुंधरा ही भाजपा जैसे बयान दिए हैं, क्या कहेंगे?

ऐसे तो कांग्रेस में भी कहा था कि इंदिरा ही भारत है, भारत ही इंदिरा है। ये उनका अहम था। इमरजेंसी के दौरान ऐसा कहा था, उसके बाद उनका पतन हुआ है। ऐसे ही जो भ्रम पालता है, उसका पतन निश्चित होता है।

तो क्या सतीश पूनिया सर्वमान्य नेता नहीं है, क्या वो सबको साथ लेकर नहीं चलते?

जवाब-जो हमारा अध्यक्ष होता है, वो पार्टी में सर्वमान्य ही होता है। हमने कहा कि हम व्यक्तिनिष्ठ नहीं , हम संगठननिष्ठ हैं। जो पार्टी ने निर्णय कर दिया कि ये हमारा प्रदेश अध्यक्ष है,तो प्रदेश अध्यक्ष है।

तो फिर आपके पार्टी के नेता प्रदेश नेतृत्व को क्यों चुनौती दे रहे हैं?

जवाब-मैं समझता हूं कि कोई ऐसी बात करता है, तो ऐसे कार्यकर्ताओं के निर्माण में कोई कमी रह गई है। अभी मैं यह कह सकता हूं कि उनका पूरी तरीके से निर्माण नहीं हुआ है।

क्या प्रदेश नेतृत्व, केंद्रीय आलाकमान को रिपोर्ट भेजेगा और ऐसे बयान देने वालों खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी?

जवाब- ये मीडिया में कहने की जरूरत नहीं है, ये तो पार्टी जो उचित समझेगी वो निर्णय करेगी।

क्या आपको नहीं लगता प्रदेश भाजपा में समय के साथ नए नेतृत्व का आगे बढ़ना जरूरी है?

जवाब-हमारा जो प्रदेश का नेतृत्व है, वह युवा है, बुद्धिमान है, और सामान्य कार्यकर्ता से ऊपर आए हैं। वर्षों तक प्रदेश महामंत्री रहे। फिर प्रदेश अध्यक्ष बने, ऐसे ही कोई सीधा प्रदेश अध्यक्ष नहीं बन गए।।

खबरें और भी हैं...