पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जेकेलोन अस्पताल की सूरत बदलने का काम हमारा:चिकित्सा मंत्री ने कहा हम चाहते हैं कि कोटा का जेकेलोन अस्पताल पूरे प्रदेश में रोल मॉडल बने

कोटा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में दिख रहे बदलाव और भविष्य की योजनाओं पर दैनिक भास्कर ने चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा से बात की। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में दिख रहे बदलाव और भविष्य की योजनाओं पर दैनिक भास्कर ने चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा से बात की।
  • जेकेलोन में आए बदलाव पर चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने दैनिक भास्कर से की बातचीत, बोले-अस्पतालों के मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए

पिछले करीब सवा साल तक निगेटिव कारणाें से सुर्खियों में रहे जेकेलोन अस्पताल में अब बदलाव दिखने लगा है। अस्पताल में केवल 32 दिन के अंदर प्रदेश का पहला मॉड्यूलर एनआईसीयू बनकर तैयार है। वहीं, कई लाेग इस वार्ड को देखने अस्पताल भी पहुंच रहे हैं। अस्पताल में दिख रहे बदलाव और भविष्य की योजनाओं पर दैनिक भास्कर ने चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा से बात की। उन्होंने कहा कि हम शुरू से एक ही बात कह रहे हैं कि इस अस्पताल की सूरत बदलने का काम हमारा है और इसके लिए पहले दिन से ही प्रयास शुरू कर दिए गए थे। आज बदलाव दिखने लगा है, आने वाले दिनों में स्थितियां और बेहतर नजर आएंगी। बजट की कमी न पहले थी, न अब आने देंगे। यह सारा मुद्दा मैनेजमेंट का होता है, जो ठीक कर दिया गया है, अब जरूरी काम युद्ध स्तर पर चल रहे हैं।

डाॅ. शर्मा ने कहा कि इसी साल नया ओपीडी व इनडोर ब्लॉक भी बन जाएगा। मैं समझता हूं कि इसके बाद बेड्स की कमी की समस्या खत्म हो जाएगी। इसके बाद भी यदि जरूरत रहती है तो दूसरे विकल्प तलाशेंगे। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि अस्पतालों में विकास सतत प्रक्रिया है, यह एक दिन में नहीं होता। लेकिन मैं इतना जरूर कहूंगा कि अस्पतालों के मुद्दों पर राजनीति करने से बचना चाहिए।

आपको सब पता है कि इस अस्पताल के मुद्दे पर कितनी पॉलिटिक्स हुई? अभी अस्पताल में पहले फेज का काम हुआ है, इस पर 2.90 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। अब दूसरे फेज की प्रक्रिया भी लगभग अंतिम दौर में है। इसके बाद शिशु रोग विभाग के वार्डों की सूरत बदल जाएगी। हमारा प्रयास है कि जेकेलाेन पूरे प्रदेश में मातृ व शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में राेल मॉडल बनकर उभरे। उन्होंने जेकेलोन के डॉक्टरों व टीम को बधाई भी दी।
दैनिक भास्कर ने जेकेलोन में बच्चों की मौत से लेकर खामियों तक को उजागर किया, इसके बाद तैयार हुई बदलाव की राह

दिसंबर में 8 घंटे के अंदर 9 बच्चों की मौत के बाद दैनिक भास्कर ने लगातार जेकेलोन की खामियों को उजागर किया। इससे सरकार को हकीकत पता चली, जिसके बाद जेकेलोन की सूरत बदलने की राह तैयार हुई।। हालांकि अब जेकेलोन प्रबंधन की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गई है। सरकार ने तो अपना काम पूरा कर दिया, लेकिन अब नए वार्ड और सुविधाओं के बेहतर प्रबंधन की जरूरत है। क्योंकि कोई भी अस्पताल बिना डॉक्टरों और स्टाफ की मेहनत के नहीं चल सकता। पहले भी कई बच्चों की मौत की यही वजह सामने आई थी कि उन्हें समय पर अटेंड नहीं किया गया। ऐसा होता तो उनकी जान बच सकती थी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें