राहत / प्रवासी मजदूरों को रुचि और अनुभव के आधार पर अब मिल सकेगा काम

X

  • श्रम मंत्री ने दिए निर्देश, जिला उद्योग केंद्र के अधिकारी दिलाएंगे रोजगार

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:41 AM IST

कोटा. राज्य सरकार ने प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने के लिए योजना तैयार की है। इस योजना के तहत अन्य राज्यों से अपने घर लौटकर आए मजदूरों को उनकी रुचि एवं अनुभव के आधार पर काम दिलाया जाएगा। 
मजदूरों को राज्य सरकार के कौशल एवं आजीविका मिशन के द्वारा अलग-अलग कार्यों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद इन मजदूरों को फैक्ट्रियों, ईंट भट्टों, माइंस सहित अन्य संस्थानों में नियुक्ति दिलाने का काम जिला उद्योग केंद्र के अधिकारी करेंगे। जानकारी के अनुसार मजदूरों के वेतन से लेकर उनके अवकाश सहित अन्य सुविधाओं को तय करने का काम भी ये अधिकारी संस्थान के प्रतिनिधियों के साथ मिलकर करेंगे। 
   यदि किसी मजदूर का घर रोजगार के स्थान से दूर गांव में है तो उसके फैक्ट्री अथवा माइंस पर रहने की व्यवस्था की जाएगी। श्रमिक कल्याण कोष के माध्यम से रोजगार मिलने तक मजदूरों को आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। श्रम मंत्री ने इस बारे में जिला कलेक्टरों से कहा गया है कि वे नियमित रूप से उद्याेगपतियों एवं बड़े व्यापारिक संस्थानों के संपर्क में रहकर अन्य राज्यों से आए मजदूरों को रोजगार मुहैया कराने का प्रयास करें। लॉकडाउन के दौरान बेरोजगार हुए श्रमिकों के लिए सरकार ने ‘लेबर एम्पलॉयमेंट एक्सचेंज’ बनाया गया है। यहां मजदूर अपना पंजीकरण करा सकेंगे। लॉकडाउन के कारण संकट का सामना कर रहे श्रमिकों को लेबर एम्पलॉयमेंट एक्सचेंज के जरिए उनके कौशल के अनुरूप रोजगार मिल सकेगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना