• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • MP Resident Woman Dies In Kota, MP Police Did Not Come For Action, Family Members Got Upset, Kota Police Got It Done Kota Rajasthan

30 घंटे मोर्चरी में पड़ा रहा शव:एमपी निवासी महिला की कोटा में मौत, कार्रवाई के लिए नहीं आई एमपी पुलिस, परिजन हुए परेशान, कोटा पुलिस ने करवाया

कोटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दो राज्यों की सीमा के बीच में अटका रहा शव। - Dainik Bhaskar
दो राज्यों की सीमा के बीच में अटका रहा शव।

दो राज्यों की सीमा के बीच में शव के पोस्टमार्टम के मामला उलझ गया। एमपी निवासी महिला मरीज की हॉस्पिटल में इलाज के दौरान मौत होने पर परिजन पोस्टमार्टम करवाने के लिए दो राज्यों की पुलिस से मिन्नतें करते रहे। एमपी पुलिस के नहीं आने के कारण 30 घंटे से ज्यादा समय तक शव मोर्चरी में रखा रहा। एक तरफ मृतका का पति बच्चे व सांस बैठी रही। दूसरी तरफ मृतका के मायके वाले बैठे रहे। दोनों पक्ष एक दूसरे पर फंसाने के आरोप लगाते रहे। इधर परिजनों की परेशानी को देखते हुए आखिरकार कोटा पुलिस एमबीएस अस्पताल के फोरेंसिक मेडिसिन एचओडी डॉ पीके तिवारी से सम्पर्क किया। डॉक्टर तिवारी ने मेडिकल बोर्ड का गठन कर शव के पोस्टमार्टम की कार्रवाई शुरू करवाई।

एमपी पुलिस के नहीं आने के कारण 30 घंटे से ज्यादा समय तक शव मोर्चरी में रखा रहा।
एमपी पुलिस के नहीं आने के कारण 30 घंटे से ज्यादा समय तक शव मोर्चरी में रखा रहा।

दरअसल मृतका नेहा गांव पिपलिया, थाना माचलपुर जिला राजगढ़ एमपी की रहने वाली थी। 5 साल पहले उसने राजेश नाम के युवक से लव मैरिज की थी। उनके 2 साल की लड़की व ढाई साल का बेटा है। कुछ महीने पहले नेहा घर मे झुलस गई थी। जिसे इलाज के लिए झालावाड़ अस्पताल में भर्ती करवाया था। जहां से उसे 11 नवंबर को कोटा रेफर किया गया। नेहा एमबीएस के बर्न वार्ड में भर्ती थी। 6 दिसंबर को अल सुबह उसकी मौत हो गई। मौत के बाद उसका पति राजेश दोनों बच्चों को लेकर शव के पोस्टमार्टम के इंतजार में बैठा रहा।

एक तरफ मृतका का पति बच्चे व सांस बैठी रही।
एक तरफ मृतका का पति बच्चे व सांस बैठी रही।

राजेश के साथ उसकी मां भी परेशान होती रही। राजेश का कहना है कि नेहा की मां किसी दूसरे आदमी के साथ भाग गई है। दोनों मिलकर मुझ पर नेहा को जलाकर मारने का आरोप लगा रहे। उन्होंने पुलिस को मेरे खिलाफ बयान दिए है। इसलिए पोस्टमार्टम अटका हुआ है। मजबूरी में दोनों छोटे बच्चों को लेकर मोर्चरी के बाहर बैठना पड़ रहा है। राजेश ने बताया कि वो गुजरात में काम करता है। दूध गर्म करते समय नेहा झुलसी थी।

दूसरी तरफ मृतका के मायके वाले बैठे रहे।
दूसरी तरफ मृतका के मायके वाले बैठे रहे।

इधर नेहा की मां का आरोप है कि राजेश उसकी बेटी को भगाकर ले गया था। उसके साथ मारपीट करता था। राजेश के अन्य महिला से सम्बंध थे। उसे वो घर पर लेकर आता था। इस कारण नेहा व राजेश के बीच में लड़ाई होती थी। राजेश ने केरोसिन डालकर नेहा के आग लगाई है। नेहा ने अस्पताल में इलाज के दौरान राजेश के खिलाफ बयान दिया है जो मोबाइल में रिकॉर्ड है।

खबरें और भी हैं...