पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इस बजट से फिर उम्मीद:पिछली घोषणाओं को नहीं मिला धरातल, 4 साल में न किडनी ट्रांसप्लांट शुरू हुआ, न बाेन बैंक

काेटा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिर्फ बोर्ड लगा  : शहर में तीन थाने खोलने का प्रस्ताव तीन साल से पेंडिंग। - Dainik Bhaskar
सिर्फ बोर्ड लगा : शहर में तीन थाने खोलने का प्रस्ताव तीन साल से पेंडिंग।
  • राज्य सरकार का बजट आज, कोटा को हेल्थ और इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए बड़ी घोषणा की आस
  • किडनी ट्रांसप्लांट प्रोजेक्ट का सिविल वर्क तक पूरा नहीं हो सका

मेडिकल काॅलेज में राज्य सरकार की तीन से चार साल पुरानी बजट घाेषणाएं भी धरातल पर नजर नहीं आती। वर्ष 2017 के बजट में घाेषित किडनी ट्रांसप्लांट प्राेजेक्ट और 2018 के बजट में घाेषित बाेन बैंक अब तक मूर्त रूप नहीं ले पाए हैं। दाेनाें की आज की स्थिति यह है-
किडनी ट्रांसप्लांट प्राेजेक्ट

इसके तहत तीन स्तर पर काम हाेना है। एक सिविल वर्क, दूसरा उपकरण और तीसरा मैनपावर... लेकिन आज की स्थिति में तीनाें ही स्तर पर अधूरापन है। सिविल वर्क पूरा नहीं हुआ है, माॅड्यूलर ओटी का काम चल रहा है। उपकरण भी पूरे नहीं मिले हैं, किडनी निकालने में यूज हाेने वाला एचडी लेप्राेस्काेपी सेट भी नहीं मिल पाया है, यह करीब 35 लाख का आता है।

मैनपावर के लिए इससे जुड़े तीनाें ही विभाग नेफ्राेलाॅजी, यूराेलाॅजी व एनीस्थिसिया ने डिमांड भेजी है, लेकिन स्वीकृति नहीं मिली। उम्मीद जताई जा रही है कि सिविल वर्क मार्च में पूरा हाे जाएगा, लेकिन उपकरण व मैनपावर का संकट दूर हाेता नहीं दिख रहा।

बाेन बैंक

नए अस्पताल के ऑपरेशन थिएटर में सिविल वर्क पूरा हाे चुका है। इसमें करीब 12 लाख के दाे उपकरण आ चुके हैं, अन्य उपकरणाें की खरीद बाकी है। अब तक डीप फ्रीजर व लायाे फ्लाइडर जैसे उपकरण खरीदे गए हैं, जहां बाेन काे सुरक्षित रखा जा सकता है, लेकिन करीब 10 लाख के उपकरण आने हैं। वर्ष 2020 में इन उपकरणाें की खरीद करनी थी, लेकिन काेविड की वजह से टेंडर प्राेसेस नहीं हाे पाया।

सिर्फ बोर्ड लगा : शहर में तीन थाने खोलने का प्रस्ताव तीन साल से पेंडिंग

शहर की जनसंख्या और भौगोलिक सीमाओं के विस्तार के बाद शहर पुलिस ने तीन थाने खोलने के लिए प्रस्ताव तीन साल पहले मुख्यालय भेजे थे। शहर पुलिस ने शहर में रानपुर, नांता और कोटड़ी में तीन नए थाने खोले जाने का प्रस्ताव रखा था। वर्तमान में शहर में महिला थाना समेत 18 थाने हैं। लेकिन, वो लॉ एंड ऑर्डर और क्राइम को देखते हुए कम हैं।

प्रस्तावों के मुताबिक अनंतपुरा थाने की सीमाओं को कम करके रानपुर, कुन्हाड़ी में नांता और गुमानपुरा में कोटड़ी थाना खोला जाना था। लेकिन, पुलिस की यह मांग कई सालों से बस्तों में बंद हैं। इधर, आरकेपुरम थाने के नए भवन के लिए नए कोटा में जमीन यूआईटी द्वारा दे दी गई है, लेकिन थाने के साथ बनने वाले क्वार्टरों की जमीन नहीं दी गई। बिना क्वार्टरों के थाना संचालित नहीं किया जा सकता। ऐसे में थाने का काम भी अधरझूल में लटका हुआ है।

ये काम हुआ : वन विभाग की भूमि पर बनाया गुरुनानक पार्क, 550 पाैधे लगाए

राज्य सरकार ने अपने पिछले बजट में काेटा बूंदी में एक गुरुनानक पार्क बनाने की घाेषणा की थी। इसमें गंगानगर, अलवर, हनुमान गढ़ भी शामिल थे। इसमें 1 कराेड़ 25 लाख रुपए दिया गया था। यह गुरुनानक देव के 550 सालाना पर्व के लिए घाेषणा की थी। इसमें यूआईटी की मुकंदरा विहार काॅलाेनी के पास 15 बीघा जमीन पर 550 पाैधे लगाए हैं। वन अधिकारी रवि कुमार कहना है कि इसमें पाैधे ही लगाने की बात कही थी। उसे पूरा कर दिया गया है। वन विभाग की जमीन पर अन्य काेई काम नहीं हाे सकता। इसके अध्यक्ष अगमगढ़ गुरुद्वारे के संचालक बाबा लक्खा सिंह हैं।

वर्ष 2018 में की गई एग्रीकल्चर काॅलेज की घाेषणा हुई पूरी

राज्य सरकार की ओर से 2018 में काेटा मेें एग्रीकल्चर काॅलेज खाेलने की घाेषणा की गई थी। यह घाेषणा पूरी हाे चुकी है। साथ ही यहां अब काॅलेज भवन के लिए बजट भी स्वीकृत हाे चुका है। जगह फाइनल होने के साथ अब जल्द ही भवन का निर्माण शुरू हाेगा। भवन निर्माण काे लेकर टेंडर प्राेसेस भी हाे चुका है। वहीं राज्य सरकार की बजट घोषणा के अनुसार शहरी और ब्लाॅक स्तर पर इंग्लिश मीडियम स्कूल शुरू हाे गए हैं।

राज्य सरकार की ओर से वर्ष 2020 की बजट घाेषणा के तहत काेटा के राज्य अभिलेखागार कार्यालय में उपलब्ध ऐतिहासिक अभिलेखाें काे डिजिटलाइजेशन और माइक्राेफिल्मिंग कर उन्हें ऑनइलान किए जाने की घाेषणा की गई थी। लेकिन अभी तक यह प्रक्रिया नहीं हुई है। इसके लिए काेटा सहित बीकानेर, जयपुर, भरतपुर, उदयपुर अजमेर और अलवर के कार्यालय में अभिलेखागार के लिए 10 कराेड़ का बजट जारी हुआ है, लेकिन काेटा में कार्य नहीं हुआ है। जबकि काेटा अभिलेखागार में करीब 300 साल से अधिक पुराना रिकाॅर्ड है। यहां पांच मंजिला भवन में यह सुरक्षित है।

इंफेक्शियस डिजीज सेंटर की जरूरत

सीएम अशाेक गहलाेत बुधवार काे विधानसभा में राज्य बजट पेश करेंगे। इसमें काेटा में चिकित्सा विभाग काे कई उम्मीदें हैं। माना जा रहा है कि सरकार इस बजट में काेटा मेडिकल काॅलेज में काेराेना या इसके जैसे अन्य संक्रामक राेगाें के लिए अलग से एक हाॅस्पिटल की घाेषणा कर सकती है। वहीं, जेकेलाेन अस्पताल के सेकंड फेज समेत अन्य कार्याें के लिए बजट में घाेषणा संभव है। सुपर स्पेशियलिटी विंग में जरूरी पदाें पर भी सरकार के स्तर पर लंबे समय से विचार विमर्श चल रहा है, इन्हें लेकर भी बजट में उम्मीद की जा सकती है। पुरानी बजट घाेषणाओं के लिए बजट मिल सकता है, नए अस्पताल के सेकंड फ्लाेर के लिए पैसा मिल सकता है।

संभाग काे मिल सकता है नया इंडस्ट्रियल एरिया

सरकार ने पिछले साल बूंदी में एक इंडस्ट्रियल जाेन बनाने की घाेषणा की थी। इसमंे बूंदी फतेहपुर इंडस्ट्रियल एरिया डवलप हाे चुका है। इसके भूखंड भी आवंटित करने की प्रक्रिया चल रही है। इस साल यहां कुछेक इंडस्ट्रियल लग भी जाएंगी। उद्धमियाें का अनुमान है कि इस बार काेटा संभाग काे 3 से 4 बड़े इंडस्ट्रियल जाेन और मिल सकते हैं। क्याेंकि इस बार सरकार पूरे प्रदेश में कई इंडस्ट्रियल जाेन की घाेषणा करने वाली है।

संभाग काे मिल सकता है नया इंडस्ट्रियल एरिया

सरकार ने पिछले साल बूंदी में एक इंडस्ट्रियल जाेन बनाने की घाेषणा की थी। इसमें बूंदी फतेहपुर इंडस्ट्रियल एरिया डवलप हाे चुका है। इसके भूखंड भी आवंटित करने की प्रक्रिया चल रही है। इस साल यहां कुछेक इंडस्ट्रियल लग भी जाएंगी। उद्धमियाें का अनुमान है कि इस बार काेटा संभाग काे 3 से 4 बड़े इंडस्ट्रियल जाेन और मिल सकते हैं। क्याेंकि इस बार सरकार पूरे प्रदेश में कई इंडस्ट्रियल जाेन की घाेषणा करने वाली है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें