पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बिजली के इंजन से चलेंगी ट्रेन:प. मध्य रेलवे के तीनों मंडलों में 238 किमी सेक्शन में इलेक्ट्रिफिकेशन पूरा

कोटा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में भले ही ट्रेनों के पहिए थमे रहे हों, लेकिन पश्चिम मध्य रेलवे ने इस दौरान बड़ा काम किया। तीन मंडलों में 238 किलोमीटर क्षेत्र में इलेक्ट्रिक लाइन का काम पूरा कर लिया। इससे अब जोन को प्रति माह करोड़ों रुपए की बचत होगी। यात्रियों और रेलवे का समय भी बचेगा।

पश्चिम मध्य रेल जोन शायद इकलौता जाेन होगा जो अब कंप्लीट इलेक्ट्रिफिकेशन की तरफ कदम आगे बढ़ा रहा है। कोटा सहित जोन के तीन बड़े मंडलों में इलेक्ट्रिफिकेशन का काम पूरा हो गया है। इसका मुंबई से आए रेल सुरक्षा आयुक्त ने निरीक्षण के बाद हरी झंडी भी दे दी है।

जोन के जीएम शैलेंद्र सिंह ने अभी हाल ही में जारी की प्रगति रिपोर्ट में कहा है कि रेल संरक्षा आयुक्त एके जैन ने पश्चिम मध्य रेल जोन के तीन मंडलों कोटा, भोपाल और जबलपुर का निरीक्षण कर सेक्शन में बिजली के इंजन से ट्रेन दौड़ाने की अनुमति दे दी है।

इसमें कोटा मंडल के कोटा से चित्तौड़ सेक्शन में चंदेरिया तक लगभग 43 किलोमीटर, भोपाल मंडल में 90 किलोमीटर वह जबलपुर मंडल में 105 किलोमीटर रूट पर ट्रायल हुआ था। उन्होंने इन सभी रूट पर बिजली के इंजन से ट्रेन दौड़ाने की अनुमति दे दी थी।
समय के साथ करोड़ों रुपए की होगी बचत
पश्चिम मध्य रेलवे के कोटा-चित्तौड़ सेक्शन में चंदेरिया तक बिजली के इंजन से ट्रेन चलाने की अनुमति मिलने के बाद सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि समय की बचत होगी। कोटा-चित्तौड़ सेक्शन में ट्रेन चलाने के लिए अभी तक डीजल इंजन का उपयोग किया जाता था, कोटा में इंजन बदलता था।

इस कार्य में लगभग आधा घंटा लग जाता था। इस सेक्शन में चित्तौड़ तक इलेक्ट्रिफिकेशन होने के बाद इंजन बदलने के कार्य से मुक्ति मिलेगी। 30 मिनट बचेंगे। डीजल की खपत नहीं होगी और इससे पर्यावरण को नुकसान भी कम होगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें