• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Parks Will Be Built On Both Sides Of The River With 1000 Crores In 13 Km, The Entire Project Will Be Equal To Sabarmati Front

चंबल रिवर फ्रंट:नदी के दोनों किनारों पर 13 किलोमीटर में 1000 कराेड़ से बनेंगे पार्क, साबरमती फ्रंट के बराबर हो जाएगा पूरा प्रोजेक्ट

कोटाएक महीने पहलेलेखक: शैलेंद्र माथुर
  • कॉपी लिंक
चंबल में इस जगह होगा सैकंड फेज का काम। - Dainik Bhaskar
चंबल में इस जगह होगा सैकंड फेज का काम।

नयापुरा ब्रिज से रंगपुर ओवरब्रिज तक चंबल नदी के दाेनाें किनाराें पर कुल 13 किलाेमीटर में उद्यान बनेंगे। माॅर्निंग व इवनिंग वाॅकर्स के लिए लंबे-लंबे ट्रैक बनाए जाएंगे। यह काम चंबल रिवर फ्रंट के सैकंड फेज में जनवरी में शुरू हाे जाएगा। पहले फेज में 6 किलाेमीटर क्षेत्र काे हैरिटेज थीम पर डेवलप किया जा रहा है, जाे दिसंबर में पूरा हाेने की संभावना है। सैकंड फेज पर 1 हजार कराेड़ रुपए खर्च का अनुमान है। दाेनाें फेज पूरे हाेने पर चंबल रिवर फ्रंट 19 किमी होगा जो साबरमती रिवर फ्रंट के बराबर और न्यूयाॅर्क के हडसन रिवर फ्रंट से लंबा हाेगा।

सैकंड फेज की डीपीआर प्रक्रिया में... फर्स्ट फेज के आर्किटेक्ट अनूप भरतरिया के अनुसार सैकंड फेज की डिजाइन करीब-करीब तैयार है। साबरमती के फर्स्ट फेज की लंबाई 11.5 किलाेमीटर है। जबकि, सैकंड फेज अब शुरू हुआ है। मंत्री धारीवाल ने बताया कि सैकंड फेज के लिए डीपीआर पर काम चल रहा है। लैंड स्केपिंग, पिचिंग तैयार कर हरियाली विकसित की जाएगी। फर्स्ट फेज का काम दिसंबर तक पूरा हाेने की उम्मीद है, कुछ काम शेष रहेगा वाे जनवरी तक पूरा हाे जाएगा।

बाढ़ नियंत्रण पर फाेकस
हाल ही काेटा बैराज से 5.20 लाख क्यूसेक से अधिक पानी निकाला था। बावजूद इसके रिवर फ्रंट के फर्स्ट फेज के कारण बाढ़ से शहर में नुकसान अपेक्षाकृत कम रहा। पिछले बरसाें की तरह तबाही नहीं हुई। सैकंड फेज को भी बाढ़ नियंत्रण के उद्देश्य से डिजाइन किया है। चंबल के दाेनाें किनाराें पर 6.50-6.50 किलाेमीटर रिटेनिंग वाॅल बनाकर गार्डन विकसित किए जाएंगे।

फर्स्ट के विपरीत सैकंड फेज

रिवर फ्रंट का फर्स्ट फेज पूरी तरह से हैरिटेज लुक पर है। इसमें रेत, सीमेंट, लाेहे के बड़े-बड़े स्ट्रक्चर तैयार किए गए हैं। 6 किलोमीटर में मात्र 10 प्रतिशत ही हरियाली है। इसके विपरीत सैकंड फेज में 10% हिस्से में पक्के स्ट्रक्चर हाेंगे जबकि बाकी 90 प्रतिशत भाग में हरियाली हाेगी।

खबरें और भी हैं...