• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Passengers Coming From Outside Are Writing Wrong Name Addresses, Big Concern Of The Department, Only One Active Patient Is A Matter Of Relief

कोटा में कैसे करेंगे कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग:बाहर से आने वाले यात्री लिखा रहे गलत नाम पते, विभाग की बड़ी चिंता, राहत की बात अभी केवल एक ही एक्टिव मरीज

कोटा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।

कोरोना की तीसरी लहर और नए वेरिएंट का खतरा बना हुआ है। जयपुर में एक साथ 9 मामले सामने आए जिसके बाद चिकित्सा विभाग की चिंता और बढ़ गई है। दूसरी तरफ कोटा में पिछले 1 सप्ताह में 70 से अधिक ऐसे यात्री पहुंचे हैं जिन्होंने अपने नाम पते ही गलत बताए हैं। जिससे चिकित्सा विभाग की चिंता और ज्यादा बढ़ गई है। इनमें से अधिकांश के मोबाइल बंद आ रहे हैं हालांकि राहत की बात यह है कि कोटा में अभी तक केवल एक ही एक्टिव केस है।

विभाग की रिपोर्ट के अनुसार पिछले 1 सप्ताह में 70 से ज्यादा लोग बाहर से कोटा आए हैं। इनमें कुछ देश से बाहर से भी यात्रा कर आये हैं जो केशवपुरा, रंगबाड़ी, महावीर नगर, तलवंडी, भीमगंजमंडी, दादाबाड़ी समेत अन्य क्षेत्रों के यात्री हैं, इनमें से अधिकांश ने गलत पता और मोबाइल नंबर दिए हैं।

चिकित्सा विभाग के अनुसार 21 नवंबर से अब तक कोटा पहुंचे ऐसे लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, यह अच्छी बात है। हालांकि बाहर से आने वाले को 14 दिनों तक क्वारंटाइन करने का नियम है। जिन लोगों के नाम पते सही है उनके घरों पर भी जाकर जब मॉनिटरिंग की गई तो यह लोग रिपोर्ट आने से पहले भी बाजार में घूमते नजर आए।

कोटा में एक एक्टिव केस

नए वेरिएंट की चिंताओं के बीच राहत की बात यह है कि कोटा में अभी केवल एक ही एक्टिव केस है। रविवार को भी 15 से 2 लोगों की जांच की गई थी जिनमें से कोई भी पॉजिटिव नहीं मिला। ऐसे में अब विभाग की कोशिश यह है कि सैंपलिंग ज्यादा की जाए। जो एक्टिव मरीज है वह भी हैदराबाद से लौटकर कोटा आया था बाद में जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव मिली थी। अब स्कूलों के अलावा बाजार और भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में भी सैंपलिंग की जा रही है।