धारीवाल ने कहा:रेलवे स्टेशनों को निजी हाथों में साैंपने का सीधा भार यात्रियों पर पड़ेगा

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वेस्ट सेन्ट्रल रेलवे मजदूर संघ के द्विवार्षिक अधिवेशन में शनिवार को कुलकर्णी मैमोरियल हाॅल में युवा कामगार सम्मेलन आयोजित किया गया। इसमें मुख्य अतिथि यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल रहे। अध्यक्षता संघ के जोनल अध्यक्ष सीएम उपाध्याय ने की। मुख्यवक्ता एनएफआईआर के महासचिव डाॅ. एम. राघवैया माैजूद थे। कार्यक्रम में संघ के जोनल महासचिव अशोक शर्मा, समाजसेवी अमित धारीवाल भी उपस्थित रहे।

मंत्री धारीवाल ने कहा कि वर्तमान में रेलवे में काफी पद रिक्त चल रहे हैं। भारत सरकार प्राइवेटाईजेशन की ओर रुख बनाए हुए है, जबकि जिम्मेदारी पूर्ण रेलवे के सभी कार्य नियमित कर्मचारियों से कराने चाहिए, ताकि रेलवे की संरक्षा व सुरक्षा सुनिश्चित हो सके, रेलवे स्टेशनों को निजी हाथों में सौंपकर सरकार मंहगाई को और बढ़ा रही है, जिसका सीधा भार यात्रियों पर पड़ रहा है।

राजस्थान सरकार ने राज्य कर्मचारियों के लिए एनपीएस को समाप्त कर ओपीएस लागू कर कर्मचारियों की सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित की है। 18 नवंबर को केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में सभी राज्यों के वित्त मंत्रियों की बैठक में भी कहा कि जब राज्य सरकार ओपीएस लागू कर सकती है तो केन्द्र सरकार क्यों नहीं।

युवा कामगार सम्मेलन के दौरान संघ द्वारा प्रकाशित स्मारिका का भी विमोचन किया। एनएफआईआर के महासचिव डाॅ. एम राघवैया, जोनल अध्यक्ष सीएम. उपाध्याय, महामंत्री अशोक शर्मा, मंडल अध्यक्ष एसके गुप्ता, मंडल सचिव अब्दुल खालिक ने भी विचार व्यक्त किए।

खबरें और भी हैं...