पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सत्यनारायण रावत को भेजा जेल:रिश्वत के आरोपी रावत के बैंक लॉकर से खुल सकते हैं राज, बैंक एकाउंट्स की जांच शुरू

कोटा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतिकात्मक फोटो।
  • सांख्यिकी अफसर सत्यनारायण रावत को भेजा जेल, एसीबी कोटा ने घूस लेते किया था ट्रैप

राज्य परिवहन प्राधिकरण के सांख्यिकी अफसर सत्यनारायण रावत के हाउस सर्च में एसीबी को 5 से ज्यादा बैंक एकाउंट्स डिटेल, प्लॉट के दस्तावेज और एक बैंक लॉकर की जानकारी मिली हैं। एसीबी को अब तक की जांच में कोई विशेष जानकारियां नहीं मिली हैं, लेकिन अब उसके लॉकर को खोलेगी, जिससे राज सामने आ सकते हैं। बैंक लॉकर को एसीबी संभवतया गुरुवार को खोलेगी।

इधर, एसीबी सीआई अजीत बगडोलिया ने बताया कि रावत को एसीबी कोटा व जयपुर की टीम ने बुधवार को जयपुर के एसीबी कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 19 तक जेल भेज दिया गया है।एसीबी जयपुर के सीआई श्रवण कुमार ने बताया कि सांख्यिकी अफसर सत्यनारायण रावत के घर पर सर्च किया गया।

घर पर कालवाड़ा, जगतपुर समेत तीन अलग-अलग लोकेशन पर तीन प्लॉट के दस्तावेज मिले है, जो 111 गज के हैं। वहीं, एलआईसी के दस्तावेज मिले हैं। उसके खुद के, पत्नी, बेटे और बेटी के बैंक खातों की जानकारियां मिली है, जिनकी जांच की जा रही हैं। घर पर करीब 12 हजार रुपए नगद मिले हैं। श्रवण कुमार के मुताबिक उसका एक बैंक लॉकर अभी नहीं खोला गया हैं, उसमें ज्वैलरी समेत अन्य चीजों के मिलने की संभावना हैं। जिसकी जांच की जा रही है।

यह है मामला

एसीबी कोटा की टीम ने सोमवार को जयपुर स्थित राज्य परिवहन प्राधिकरण के सांख्यिकी अफसर सत्यनारायण रावत को 15 हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया था। घूस जितेन्द्र खत्री पुत्र गोविंदराम खत्री निवासी रंगबाड़ी योजना, कोटा से बाइक रेंटल सर्विस प्रमाण पत्र बनाने के एवज में मांगी गई। प्रमाण पत्र बनवाने के लिए केवल एक हजार रुपए लगते हैं, लेकिन सत्यनारायण रावत ने इसके 50 हजार रुपए मांगे।

खबरें और भी हैं...