'केवल एयरपोर्ट की कमी रह गई':सीएम गहलोत बोले- ओम भी है; शांति भी है, फिर कमी किस बात की

कोटा2 महीने पहले
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोटा के 700 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को कोटा के 700 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण किया। विकास कार्यों की बनी डॉक्यूमेंट्री को देखने के बाद सीएम गहलोत ने धारीवाल की तारीफ करते हुए कहा कि मंत्री शांति धारीवाल ने लोकल फंड इकट्ठा किया। उन्होंने राज्य सरकार से पैसा नहीं लिया। बल्कि यूआईटी व लोकल गवर्नमेंट के आधार पर इन्होंने खुद सोर्स डेवलप किया। यानी इसे कहते हैं 'कमाओ और खाओ'। कमाओ और खाओ मतलब इन्होंने पैसा पैदा भी किया और लगाया भी। इससे सुंदर स्वरूप कोटा का निखर के आया है। इसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।

उन्होंने कहा कि धारीवाल को टूरिज्म को लेकर शिकायत थी कि कोटा कोई जाता नहीं। अब जो स्वरूप निकलकर आया है। उसके बाद अब आने वाले वक्त के अंदर टूरिज्म कोटा की तरफ आकर्षित होंगे। उन्होंने कहा कि केवल एक एयरपोर्ट की कमी रह गई है। कोटा में हवाई अड्डा बने इसके लिए मैंने भी कोशिश कर रखी है। हमने जमीन की बात भी कर ली है। स्पीकर ओम बिरला भी मदद को तैयार है। उन्होंने कहा कि ओम बिरला स्थानीय सांसद व लोकसभा स्पीकर भी है। अगली बार ओम बिरला आए तो आप लोग उनसे बात करिएगा, मैं भी उनसे बात करूंगा।

'ओम शांति, ओम शांति' की असेंबली के अंदर बहुत बड़ी कहावत है। जब ओम भी है, और शांति भी है, तो कमी किस बात की है। हम सबको मिलकर एयरपोर्ट लाना ही है। कोटा के अंदर एयरपोर्ट आते ही टूरिज्म व इंडस्ट्री में विकास के नए रास्ते खुल जाएंगे।

गहलोत ने सरकार के विकास कार्य गिनाए साथ ही योजनाओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा की राजस्थान सरकार की योजनाओं को केंद्र सरकार को पूरे देश में लागू करना चाहिए। विकसित देशों की तरह सोशल सिक्योरिटी में केंद्र को आगे आना चाहिए। गहलोत ने संबोधन के दौरान इंदिरा गांधी, राजीव गांधी के कार्यकाल में हुए नवाचार व योजनाओं का बखान किया।

खबरें और भी हैं...