रिश्वत मांगने के 7 माह पुराने मामले में सरपंच गिरफ्तार:नोटिस देने के बाद भी 12 दिन से फरार था शाहाबाद पंचायत सरपंच, शादी में जाते समय बारां स्टेशन से पकड़ा

कोटा2 महीने पहले
रिश्वत मांगने के 7 माह पुराने मामले में बारां जिले के शाहाबाद पंचायत सरपंच को गिरफ्तार।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) कोटा स्पेशल यूनिट की टीम ने रिश्वत मांगने के 7 माह पुराने मामले में बारां जिले के शाहाबाद पंचायत सरपंच को गिरफ्तार किया है। आरोपी सरपंच नोटिस देने के बाद से फरार था। आज बीना में शादी में जाने के लिए बारां रेलवे स्टेशन पर आया था। सूचना मिलते ही ACB स्पेशल यूनिट की टीम ने आरोपी सरपंच जय प्रकाश नामदेव को गिरफ्तार किया। उसे कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजने के आदेश दिए।

धर्मवीर सिंह,पुलिस उप अधीक्षक, प्रभारी स्पेशल यूनिट ACB कोटा ने बताया कि 29 मार्च को परिवादी ने बारां ACB भी चौकी में शिकायत की थी। जिसमें बताया था कि उसकी कपडे की दुकान है। जिसका कुछ दिन पहले ही पट्टा बनवाया था। दुकान की रजिस्ट्री करवाने के लिए ग्राम पंचायत शाहाबाद सरपंच जयप्रकाश नामदेव से मिला तो उसने रजिस्ट्री करवाने की एवज में 5 हजार की रिश्वत मांगी।

शिकायत के गोपनीय सत्यापन में रिश्वत मांगने की पुष्टि हुई। जिसके बाद 4 अप्रैल को ट्रेप की कार्रवाई का आयोजन किया गया था। लेकिन शक हो जाने पर सरपंच जयप्रकाश नामदेव ने रिश्वत की राशि नहीं ली और फरार हो गया। मामले में जांच के बाद आरोपी जयप्रकाश नामदेव के खिलाफ अपराध प्रमाणित पाया गया। हाल ही में 4 नवंबर को शासन सचिव ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग से अभियोजन स्वीकृति मिली। 17 नवंबर को आरोपी सरपंच को नोटिस भेजा गया। नोटिस भेजने के बाद से आरोपी फरार था।