• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Residents Of The City Started Joining Bhaskar Campaign, Started Building House to house Earthen Ganesha, Pledging To Immerse Themselves In The House

गणेश उत्सव:भास्कर अभियान से जुड़ने लगे शहरवासी, घर-घर बनने लगे मिट्टी के गणेश, घर में विसर्जन करने का ले रहे संकल्प

कोटाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • हम संकल्प लें कि इस बार नहीं करें पीओपी की गणेश प्रतिमा स्थापित

गणेशचतुर्थी शनिवार काे मनाई जाएगी। इस दिन गणेश की प्रतिमा स्थापित की जाएगी। लाेग दैनिक भास्कर अभियान से जुड़कर इकाे फ्रेंड्रली गणेश बना रहे हैं। बच्चाें से लेकर बड़े तक मिट्टी के गणेश बना रहे हैं। इससे पर्यावरण काे बचाया जा सके। भास्कर के अभियान काे कलेक्टर व आईजी ने भी सरहाया है। बजरंगनगर की छात्रा खुशी गुप्ता ने छाेटी बहन भूमिका गुप्ता के साथ मिट्टी के गणेश बनाए।

धानमंडी निवासी सीए मिलिंद विजय की पत्नी सुनीता ने भी मिट्टी के गणेश बनाए है। उनका कहना है कि वे हर बार बाजार से लाकर प्रतिमा स्थापित करती थीं, लेकिन इस बार उन्हाेंने भी भास्कर की प्रेरणा से घर में ही गणेश बनाए हैं और घर पर ही विसर्जित करेंगी। वहीं बाेरखेड़ा आदित्यनगर की अर्पणा वर्मा ने भी मिट्टी के गणेश बनाए हैं। रामपुरा शिवदास घाट की गली में रहने वाली कृतिका गाेयल का कहना है कि उन्हाेंने 2 दिन में मिट्टी के गणेश बनाए हैं। वहीं वाटिका विहार बाेरखेड़ा की रहने वाली 19 साल कविता चाैरसिया ने भी मिट्‌टी के गणेश बनाए है।

दैनिक भास्कर अभियान में मिट्टी के गणेश बनाना सिखाया
दैनिक भास्कर और जेसीआई कोटा चंबल की ओर से इको फ्रेंडली गणपति बनाने के लिए वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है। इसमें पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी सदस्यों को इको फ्रेंडली गणपति बनाना सिखाया। यह वर्कशॉप ज़ूम एप पर हाे रही है। बंसीधर स्कूल के आर्ट टीचर हिम्मत सिंह ने गुरुवार काे पहला सेशन लिया। विनीता लाहोटी ने गणेशजी के जन्म से लेकर उनकी बहुत सारी कथाएं सभी बच्चों को बताईं। जिसका बच्चों ने खूब आनंद उठाया।

इस स्टोरी सेशन से बच्चों ने हमारी संस्कृति को जाना। मार्केट में इको फ्रेंडली गणपति के नाम पर कई तरह की गणपति की मूर्तियां उपलब्ध है लेकिन, वास्तव में वे पूर्णतया इको फ्रेंडली नहीं होती हैं। इसीलिए जेसीआई कोटा चंबल की टीम-2020 ने इस बार अपने सदस्यों के लिए यह वर्कशॉप रखी। इससे बाकी लोग भी प्रेरणा लेकर घर पर ही इको फ्रेंडली गणपति बनाएं। पीओपी द्वारा निर्मित मूर्तियां पर्यावरण को नुक़सान पहुंचाती हैं तथा उनमें काम में आने वाले रंग पानी में विसर्जित करने पर पानी में घुलकर जल जीवों के लिए खतरनाक होता है।

इसीलिए सभी सदस्यों ने इस बार घर पर ही गणपति बनाकर पर्यावरण को स्वच्छ रखने का संकल्प लिया। जेसीआई कोटा चंबल के अध्यक्ष पीयूष लाहोटी ने हिम्मत सिंह, विनीता लाहोटी का आभार प्रकट किया। सचिव अंकुर खंडेलवाल ने सभी को धन्यवाद दिया।

प्रतियाेगिता के लिए आज अंतिम अवसर
भास्कर मिट्टी के गणेश बनाओ प्रतियाेगिता करा रहा है। यह दाे वर्गाें में हाेगी। पहले जूनियर वर्ग में 13 साल तक के बच्चे भाग ले सकते हैं। दूसरे सीनियर वर्ग में 14 साल से अधिक उम्र के लाेग भाग ले सकते हैं। इस प्रतियाेगिता के लिए आज अंतिम दिन है। भाग लेने के लिए 9928648896 पर नाम, उम्र, पता व मिट्टी के गणेश के साथ फाेटाे भेजें। साथ ही भास्कर के फेसबुक पेज दैनिक भास्कर इंवेंट काेटा पर भी लाइक करके मिट्टी के गणेश बनाना भी सीख सकते हैं। इस प्रतियाेगिता में सहयाेगी संस्था जेसीआई काेटा चंबल है। पप्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार दिए जाएंगे।

भास्कर से जुड़े, सीखें मिट्‌टी के गणेश बनाना
आप परिवार के साथ मिलकर किस तरह मिट्‌टी के गणेश बना सकते हैं, इसके लिए भास्कर ने दो खास वीडियो तैयार करवाए हैं, जिन्हें देखकर आप आसानी से घर पर ही गणेशजी की प्रतिमा बना सकते हैं। ये वीडियो आप 8239978612 पर मिस्ड कॉल देकर अपने मोबाइल पर प्राप्त कर सकते हैं या इन लिंक पर देख सकते हैं-
} t.ly/rQUZ
} t.ly/qzMY

हवा में उड़ते दिखेंगे गणेश
अमर निवास नवयुवक मंडल पर्यावरण का संदेश देने के लिए अमर निवास के महाराजा गणपति की स्थापना करेगा। अध्यक्ष पं. आशीष शर्मा ने बताया कि इस वर्ष की प्रतिमा की विशेषता यह रहेगी कि यह प्रतिमा हवा में ऊपर से नीचे आती हुई प्रतीत होगी जो कि नीचे 2 हाथों में दंड से कोरोना वायरस मारती रहेगी। यह चार भुजाधारी रहेंगे, दो एक हाथ में त्रिशूल, दूसरे हाथ में भाला रहेगा, इसकी लंबाई 5 फीट से ऊपर है व वजन 21 किलो के लगभग है।

पारंपरिक वाद्ययंत्रों के साथ रथ में सवार होकर आएंगे जूट के गणेश
कर्मयोगी सेवा संस्थान गणेशचतुर्थी पर 12 किलाे जूट से निर्मित प्रतिमा की स्थापना करेगी। संस्थान के संस्थापक राजाराम जैन कर्मयोगी ने बताया कि इस वर्ष विसर्जन की परंपरा को समाप्त कर प्रतिमा सुरक्षित रखी जाएगी। उसी प्रतिमा को हर वर्ष गणेश महोत्सव पर स्थापित किया दिया जाएगा। स्थापित करने से पूर्व प्रतिमा को पारंपरिक वाद्य यंत्रों के साथ रथ में सवार कर संस्था के 5 सदस्य लाएंगे।

आईजी, कलेक्टर ने भी भास्कर के अभियान काे सराहा
आईजी रविदत्त गाैड़ ने कहा कि भास्कर काे अभियान के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद, जाे इस अभियान काे चलाया है। इसके साथ शहर के लाेगाें से अपील करता हूं कि वे घर में मिट्टी के गणेश ही स्थापित करें। पीओपी की मूर्ति नहीं लाएं। वहीं कलेक्टर उज्ज्वल राठाैड़ का कहना है कि भास्कर की मुहिम बहुत अच्छी है। घर पर ही मिट्टी के गणेश बनाएं और घर पर ही विसर्जन करें। साथ ही इसकी मिट्टी उपयाेगी हाे सकती है।

खबरें और भी हैं...