• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Seeing The Slow Pace Of Construction Works, Minister Dhariwal Got Angry, Told The Officials Impose Penalty On The Firms, The Work Should Be Completed Before The Fixed Deadline

मंत्री धारीवाल ने क्षेत्र के कार्याें का लिया जायजा:निर्माण कार्यों की धीमी गति देख नाराज हुए मंत्री धारीवाल, अधिकारियों से बोले-फर्माें पर पैनल्टी लगाओ, तय डेडलाइन से पहले पूरा होना चाहिए काम

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में चल रहे विकास कार्याें काे जायजा लेते यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल। - Dainik Bhaskar
शहर में चल रहे विकास कार्याें काे जायजा लेते यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल।

शहर में चल रहे निर्माण कार्याें के निरीक्षण के दाैरान बुधवार काे यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल धीमी गति और लेटलतीफी काे लेकर खासे नाराज नजर अाए। उन्हाेंने अदालत चाैराहा, एराेड्रम समेत कई जगह चल रहे निर्माण कार्याें की धीमी गति देख माैके पर ही निर्माण कंपनी के प्रतिनिधियाें काे फटकार लगाई। साथ ही यूआईटी के अधिकारियाें काे निर्देश दिए कि इन फर्माें पर पैनल्टी लगाकर वसूल की जाए।

विकास कार्यों के निरीक्षण से शुरुआत यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने अदालत चौराहे से की। इसके बाद उन्होंने एमबीएस, जेकेलोन अस्पताल में चल रहे विकास कार्यों का निरीक्षण कर क्वालिटी के साथ समय पर कार्य पूरा करने के निर्देश दिए। इसके बाद वे राजकीय महाविद्यालय की हेरिटेज इमारत पर पहुंचे। जिसका प्राचीन स्वरूप को वापस खूबसूरती के साथ आकर्षक बनाने का कार्य चल रहा है।

वही नयापुरा क्षेत्र में विवेकानंद सर्किल और उसके आसपास के एरिया में खूबसूरती देकर आकर्षक बनाने के चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया। कोटा को ट्रेफिक लाइट फ्री सिटी बनाने के लिए चल रहे फ्लाईओवर और अंडरपास के निर्माण कार्यों को भी मंत्री धारीवाल ने मौके पर पहुंचकर प्रगति रिपोर्ट ली। उन्होंने अंटाघर अंडरपास, गुमानपुरा फ्लाईओवर, एरोड्रम अंडरपास का भी निरीक्षण किया। घोड़े वाले बाबा पर चल रहे सौन्दर्यीकरण के कार्यों को देखा।

इसके बाद उन्हाेंने गोबरिया बावड़ी अंडरपास, अनंतपुरा एलीवेटेड रोड का भी निरीक्षण किया। कोटा में 71 एकड़ में तैयार किए जा रहे अनूठे सिटी पार्क का भी मंत्री धारीवाल ने दौरा किया। यह प्रोजेक्ट भी अब अंतिम दौर में है। जहां सिर्फ 12 फीसदी हिस्से में पक्का निर्माण किया जा रहा हैं, जबकि 72 फीसदी में सघन वन डवलप किया गया है। जहां 10 हजार से अधिक पेड़-पाैधे लगाए गए हैं। साथ ही विभिन्न प्रजातियों के देसी विदेशी फूलों के पौधे लगाए है।

इसमें 16 फ़ीसदी क्षेत्र में जल संरचनाओं को तैयार किया गया, जिसमें तालाब व नहर शामिल है। इस दौरान जिलाध्यक्ष रविंद्र त्यागी, यूअाईटी के विशेषाधिकारी आरडी मीणा, आर्किटेक्ट अनूप भरतरिया एवं प्रोजेक्ट्स साइड पर इंजीनियर व निर्माण फर्माें के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...