• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • The Then Finance Controller Of Vardhman Mahaveer Open University Was Arrested By ACB, Sent To Jail By The Court Kota Rajasthan

मिलीभगत कर फर्म को टेंडर देने का मामला:वर्धमान महावीर ओपन यूनिवर्सिटी के तत्कालीन वित्त नियंत्रक को ACB ने गिरफ्तार किया, कोर्ट ने जेल भेजा

कोटा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोर्ट ने सुरेश चंद को जेल भेज दिया। - Dainik Bhaskar
कोर्ट ने सुरेश चंद को जेल भेज दिया।

वर्धमान महावीर ओपन यूनिवर्सिटी कोटा में 4 साल पहले टेंडर घोटाले के आरोप में बारां एसीबी ने तत्कालीन वित्त नियंत्रक को गिरफ्तार किया है। टीम ने वित्त नियंत्रक सुरेश चंद, निवासी जयपुर को गिरफ्तार कर ACB कोर्ट में पेश किया। जहां से कोर्ट ने सुरेश चंद को जेल भेज दिया।

सुरेश चंद वर्तमान में स्वामी विवेकानंद नगर कोटा रहते हैं। साल 2016-17 में पाठ्य पुस्तक सामग्री के लिए टेंडर जारी हुआ था। आरोप है कि अधिकारियों ने मिलीभगत कर नियमों का उलंघन करते हुए मथुरा की फर्म को टेंडर जारी किया था।जिससे युनिवर्सिटी को आर्थिक नुकसान हुआ था।

ये था मामला

इस सम्बंध में परिवादी प्रफुल्ल गोयल प्रोपराइटर प्रज्ञा पब्लिकेशन प्राइवेट लिमिटेड मथुरा उत्तर प्रदेश द्वारा ACB मुख्यालय में परिवाद दिया था। जिसमें बताया था कि युनिवर्सिटी के अधिकारियों ने फर्म का भौतिक सत्यापन किए बिना ही टेंडर जारी कर दिया। फर्म का वार्षिक टर्नओवर मात्र 5 करोड था। जबकि उसने टेंडर में अपना वार्षिक टर्नओवर 12 करोड दिखाया।

यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने मिलीभगत कर फर्म को वर्क ऑर्डर जारी कर दिया। फर्म द्वारा निविदा में जो पेपर सैंपल के तौर पर पेश किए गए थे उस पेपर पर छपाई कार्य नहीं कर उस में निम्न स्तर के पेपर पर पाठ्यपुस्तक सामग्री छपवाई गई। परिवाद की जांच के बाद यूनिवर्सिटी के वित्त नियंत्रक सुरेश चंद, निदेशक एमपीडी विभाग करण सिंह व अमित अग्रवाल प्रोपराइटर सरस्वती प्रिंटिंग प्रेस मथुरा उत्तर प्रदेश के खिलाफ मामला दर्ज हुआ।

ACB ने हाल ही में निदेशक एमपीडी विभाग करण सिंह व फर्म मालिक अमित अग्रवाल को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया था। तत्कालीन वित्त नियंत्रक सुरेश चंद फरार चल रहा था। सुरेश चंद की ओर से25 अक्टूबर को कोर्ट में अग्रिम जमानत पेश की गई थी। जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

खबरें और भी हैं...