पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • This Time Special Sharad Purnima Did Not Happen On Sharad Purnima, Somewhere There Were Indicative Programs In Bhajan Online.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कार्यक्रम:शरद पूर्णिमा पर इस बार नहीं हुए विशेष आयाेजन, कहीं ऑनलाइन भजन ताे कहीं सांकेतिक प्रोग्राम हुए

कोटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्री बांके बिहारी मंदिर
  • बांके बिहारी मंदिर में सजाया फूल बंगला, टीलेश्वर मंदिर में सुंदरकांड पाठ आज

शरद पूर्णिमा पर चन्द्र किरणों से अमृत बरसा, लेकिन इस वर्ष काेराेना के चलते किसी भी मंदिर में विशेष आयोजन नहीं हुए। कोरोना के चलते सभी मंदिराें में कार्यक्रम स्थगित रहे। गीता भवन में इस वर्ष पूर्णिमा के आयोजन स्थगित कर दिया गया। आश्रम समिति अध्यक्ष गोवर्धन खंडेलवाल ने बताया कि कोरोना के कारण इस वर्ष विशेष झांकी नहीं सजाई गई।

रंगबाड़ी रोड़ स्थित बांके बिहारी मंदिर में शरद पूर्णिमा महोत्सव ऑनलाइन मनाया गया। इस दाैरान ऑनलाइन ही भजनाें की प्रस्तुतियां दी गई। मंदिर समिति की ओर से राजेन्द्र खंडेलवाल ने बताया कि शाम 5.30 से 11 बजे तक ठाकुरजी के फूल बंगले के दर्शन करवाए गए। श्रद्धालुओं काे ऑनलाइन भजनों का आनंद दिलाया गया। सालासर सेवा समिति की ओर से टीलेश्वर महादेव मंदिर में 31 अक्टूबर को बाबा का दरबार सजाया जाएगा व अखंड ज्योत जलाई जाएगी। भजन के बजाय सुंदरकांड पाठ किया जाएगा।

देर रात तक बही भजनों की रसधार: श्री औंकारेश्वर महादेव मंदिर, जनकल्याण समिति महावीरनगर तृतीय में शरद पूर्णिमा उत्सव मनाया गया। समिति के अध्यक्ष विजय प्रकाश पारीक ने बताया कि इस दाैरान राधे कृष्ण की महाआरती,आयुर्वेदिक खीर वितरण व भजन संध्या हुई। महामंत्री जगदीश गौत्तम ने बताया कि इस बार मंदिर में सेनेटाइज के बाद ही श्रद्धालुओं काे प्रवेश दिया है। बिना मास्क किसी को नहीं आने दिया।

पांच किलो खीर का लगाया भाेग : तलवंडी स्थित राधाकृष्ण मंदिर में शरद पूर्णिमा मनाई गई। ठाकुरजी का धवल वस्त्रों में रत्नजड़ित शृंगार किया गया। मंदिर समिति की ओर से जितेन्द्र गाेयल ने बताया कि इस वर्ष भजन संध्या का आयोजन नहीं किया गया। श्रद्धालुओं को शृंगार दर्शन बाहर से ही करवाए गए। हर वर्ष 100 किलो दूध की खीर का भोग लगाया जाता है, लेकिन इस सिर्फ 5 किलो दूध की बनी खीर बनाकर भोग लगाया गया।

शरद चांदनी आती है, प्रेेम संदेशा लाती है।

टीकम अनजाना
शरद चांदनी आती है
प्रेेम संदेशा लाती है।
अमृत रस बरसाती है
मन काे बहका जाती है।।
मन में आस जगाती है
सबका दिल लुभाती है।
मन की आंखाें से दिखती
छटा चांद की महती है।
शरद चांदती कहती है
पवन प्रीत की बहती है।।
याद प्रियवर की आती है
मीठी अगन लगाती है।
स्मृतियां ठहर न पाती है
अतीत में पहुंच जाती है।।
दिलवर अगर पास ना हाे
गीत विरह के गाती है।
सहन जुदाई ना हाेती
ताे अश्रुधारा बहती है।
शरद चांदनी कहती है
पवन प्रीत की बहती है।।
मन में उमंग जगाती है
दिल में तरंग उठाती है।
प्रिय-मिलन की आस में
प्रेम गीत गुनगुनाती है।।
दूर बैठे दिलवर की
याद बहुत सताती है।
मिलन मुमकिन नहीं ताे
दर्द विरह का सहती है।।
शरद चांदनी कहती है
पवन प्रीत की बहती है।।
चकाेर काे चकाेरी बुलाती है
पीया काे गाैरी भाती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें