• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Was In The List Of Top 10 Criminals In 3 Police Stations, A Reward Of 2 Thousand Was Announced, Made Fake Papers With The Intention Of Grabbing The House Of Ex husband, Was Absconding For 2 Years Kota Rajasthan

3 थानों के वांटेड अपराधियों में शामिल महिला गिरफ्तार:तलाक के बाद पति का ही मकान हड़प लिया था, लोन लेने में भी किया फर्जीवाड़ा; 2 हजार का घोषित किया गया था इनाम

कोटा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धोखाधड़ी के मामलों में 2 साल से फरार वांछित महिला को गिरफ्तार किया है। - Dainik Bhaskar
धोखाधड़ी के मामलों में 2 साल से फरार वांछित महिला को गिरफ्तार किया है।

कोटा की जवाहर नगर थाना पुलिस ने धोखाधड़ी के मामलों में 2 साल से फरार एक महिला को गिरफ्तार किया है। जो तीन थानों की टॉप 10 की सूची में शामिल थी। आरोपी महिला पर 2 हजार का इनाम घोषित था। पुलिस ने मीनाक्षी जैन उर्फ मीना अरोड़ा (41) को उत्तरपूर्वी दिल्ली के अशोक नगर से गिरफ्तार किया। आरोप है कि महिला ने पूर्व पति के मकान पर कब्जा कर फर्जी तरीके से मकान के कागजात बनाए थे। महिला के खिलाफ कोटा के किशोरपुरा, गुमानपुरा व जवाहर नगर थाने में भी मामले दर्ज है।

सीआई रामकिशन ने बताया कि जनवरी 2019 को फरियादी मुकेश अरोड़ा ने जवाहर नगर थाने में शिकायत दी थी। जिसमें बताया था उसका जवाहर नगर इलाके में मकान है। उसकी शादी जुलाई 1999 को मीनाक्षी जैन उर्फ मीना अरोड़ा के साथ हुई थी। बाद में दोनों के बेटा हुआ। कुछ साल बाद में विवाद होने लगा ओर तलाक हो गया। मीनाक्षी ने दिल्ली में किसी अन्य व्यक्ति के साथ विवाह कर लिया।

अप्रैल 2017 में मीनाक्षी अपने बेटे को पढ़ाने के बहाने कोटा आई। मेरे पास छोड़ गई। इस दौरान वो बेटे से मिलने जुलने कोटा आने लगी। मैं अपने किसी कार्य से बाहर गया हुआ था। उस दौरान मीनू अरोड़ा उसके मकान में रहने लगी। 9 जनवरी 2019 को पता चला कि महिला ने मकान के फर्जी दस्तावेज तैयार करवाकर मकान का इकरारनामा, वसीयतनामा, मुख्तयारनामा बनवा लिए। महिला ने फर्जी दस्तावेज के आधार पर लोन के लिए एप्लाई किया था।

इसके साथ ही महिला के खिलाफ किशोरपुरा थाने में 24 मई 2019 को धोखाधड़ी का मामला दर्ज हुआ था। फिर 11 जुलाई 2019 को भी गुमानपुरा थाने में फर्जी तरीके से लोन लेने के आरोप में मामला।

जगह बदलती रही महिला

पुलिस के अनुसार महिला बढ़ी शातिर है। पुलिस गिरफ्त से बचने के लिए बार बार जगह बदलती थी। मोबाइल को बंद रखती थी। महिला की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीम लगातार नजर रखे हुए थी। तकनीकी अनुसंधान के बाद महिला की लोकेशन पता चली। जिसके बाद पुलिस ने महिला को गिरफ़्तार किया

खबरें और भी हैं...