• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • When People Woke Up In The Morning, They Were Scared To See Dead Herons All Around, The Forest Department Buried 60 There, Sent The Bodies Of 5 To Kota For Investigation.

कोटा के मंडाप गांव में 150 बगुलों की मौत:लोग सुबह उठे तो चारों ओर मरे बगुले देखकर घबराए, वन विभाग ने 60 को वहीं दफनाया, 5 के शव जांच के लिए कोटा भेजे

कोटा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गांव में मिला मृत बगुला। - Dainik Bhaskar
गांव में मिला मृत बगुला।

जिले के सांगोद कस्बे में कुंदनपुर क्षेत्र के मण्डाप में बुधवार को एक साथ करीब डेढ़ सौ सफेद बगुले मरे नजर आए जिससे लोगों में चर्चा का विषय बना रहा। गांव के बृजराज नागर ने बताया कि गांव में तालाब के पास पीपल का पेड़ है जिस पर रोजाना करीब ढाई सौ बगुले बैठते थे परन्तु बुधवार तड़के जब लोग उठे तो उन्हें पेड़ के नीचे तालाब के आसपास व अन्य जगहों पर मरे बगुले नजर आए।

मृत बगुले।
मृत बगुले।

यह देखकर कस्बे के लोग सकते में आ गए। इसकी सूचना उपखण्ड अधिकारी अंजना सरावत को दी जिन्होंने पशु चिकित्सक व वन विभाग की टोली को मण्डाप भेजा। वन विभाग कर्मी रामबाबू मेघवाल दुर्गाशंकर व अन्य ने 60 बगुलों को वहीं गड्ढा खोदकर दफना दिया। मौत का कारण जांचने के लिए पांच बगुलों को पशु चिकित्सक मनफूज अली कोटा लेकर गए। उसी के बाद पता चल सकेगा कि मौत का क्या कारण रहा। लोगों ने बताया कि पहली बार इतनी तादात में बगुले मरने की घटना पहली बार नजर आई है।

कोई यहां पड़ा तो कोई वहां

मण्डाप में एक साथ करीब डेढ़ सौ बगुले मरने के बाद दैनिक भास्कर संवाददाता वहां पहुंचा तो देखा कि कोई बगुला यहां तो कोई वहां पड़ा था। आस-पास और दूर खेतों तक भी झाड़ियों में मरे हुए बगुले नजर आ रहे थे।

वर्जन

मेने मौके पर पहुंचकर मरे हुए बगुलों के कुछ सैंपल लेकर फोरेंसिक लैब कोटा भेज दिए है जांच आने के बाद ही मौत का कारण पता चलेगा - महफूज अली पशु चिकित्सक कुंदनपुर

फोटो- मनोज मेहरा, कुंदनपुर

खबरें और भी हैं...