पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान परेशान:कब सुधरेगा सरकारी सिस्टम 3 दिन तक भी नहीं हो रही है तुलाई, खरीद भी पूरी नहीं

काेटा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ये तस्वीर सरकारी सिस्टम का आईना है...गेहूं बेचने आए किसान बारी के इंतजार में थक हारकर सो जाते हैं - Dainik Bhaskar
ये तस्वीर सरकारी सिस्टम का आईना है...गेहूं बेचने आए किसान बारी के इंतजार में थक हारकर सो जाते हैं
  • मंडी में किसानों को नहीं मिल रहे टोकन, वेरिफिकेशन के लिए हो रहे परेशान, इसलिए मजबूरी में सस्ते दामों पर बेचना पड़ रहा है गेहूंं

सरकारी सिस्टम से किसान परेशान हैं।किसानों काे न तो समय पर टोकन मिल रहे हैं और न ही वेरिफिकेशन हो पा रहा है। सरकार सिस्टम का आलम यह है कि किसी को मार्च की तारीख तो किसी को खरीद अवधि समाप्त होने के बाद की तिथि दी जा रही है। यही नहीं समर्थन मूल्य पर खरीद भी पूरी नहीं हो रही है।

ऐसे में किसानों को मजबूरी में फसल औने-पौने दामों पर बेचनी पड़ रही है। किसान साल भर खेतों पर हाड़तोड़ मेहनत कर फसल की पैदावार करता है। उसे उम्मीद रहती है कि अच्छी फसल होगी तो अच्छे दाम मिलेंगे।

इसी हिसाब से भविष्य की प्लांनिंग करते हैं, लेकिन जब उपज लेकर मंडी पहुंचते हैं तो यहां सरकार सिस्टम में इस तरह उलझ जाता है कि मजबूरी में अपनी फसल सस्ते दामों में बेचनी पड़ती है। पटवारियों की हड़ताल का समाधान निकालते हुए सरकार ने पिछले साल की गिरदावरी के आधार पर फसलों की खरीद की घोषणा तो कर दी, लेकिन फसल लेकर मंडी पहुंचे किसानों को टोकन नहीं मिल पा रहे हैं। टोकन नहीं होने से वेरिफिकेशन नहीं हो रहा है और इस कारण कई दिनों तक मंडी में अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा है।

दिनभर खाना नहीं खाया
भामाशाह मंडी में गेहूं बेचने आए किसानाें ने बताया कि पिछले दाे दिनाें से गेहूं की तुलाई का इंतजार कर रहे हैं। कुछ लाेगाें के टाेकन वेरिफाइ हाेने के बाद उनका नंबर ताे आ गया है, लेकिन कई लाेग ऐसे हैं, जिनके टाेकन अभी तक वेरिफाई नहीं हाे सके। किसानाें ने बताया कि टाेकन की तारीख निकल जाने के बाद अधिकारी पहले जिसकी तारीख आज की हाेती है, उसके गेहूं काे पहले तुलाते हैं। ऐसे में दाेपहर तक अभी पुराने टाेकन वालाें का नंबर नहीं आया है। ऐसे में दिनभर हाे गया है भूख प्सासे बैठे हुए है।

इन तीन उदाहरणों से समझें...समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए कितनी मशक्कत करनी पड़ रही है
1
साेगरिया के किसान लाेकेश नागर ने बताया कि उनका टाेकन तीन तारीख का था। वह गेहूं काे भर 2 अप्रैल काे रात दाे बजे मंडी में आ गए। 3 अप्रैल काे उन्होंने टाेकन काे वेरिफाई करवाने के लिए ग्राम पंचायत गए ताे उन्हें वहां पर काेई नहीं मिला। ऐसे में पिछले तीन दिन से मंडी में ही अपने साथियाें के साथ रहकर अपने गेहूं की तुलाई का इंतजार कर रहे हैं। नागर ने बताया कि ऐसे यहां कई लाेग हैं।

2 दीगोद के किसान सूरजमल ने बताया कि उनका नंबर 4 अप्रैल का था। वह गेहूं लेकर यहां पहुंचे ताे सिर्फ दाे बीघा गेहूं काे ही खरीदने की बात कही। जबकि उनके पास चार बीघा की गिरदावरी है। जब वह अपनी गिरदावरी में करेक्शन करवाने के लिए ग्राम पंचायत कार्यालय गए ताे वहां काेई नहीं मिला। ऐसे में उन्हें अब एक दिन और अपने गेहूं की तुलाई का इंतजार करना हाेगा।

3 काला तालाब के किसान हसन अली ने बताया कि उनके 4 व 5 के टाेकन नंबर मिले थे। ऐसे में वह अपने गेहूं काे लेकर मंडी में 3 तारीख काे ही पहुंच गए। 4 तारीख काे जब उनका नंबर आया तब तक उनका टाेकन वेरिफाई नहीं हाे सका। साेमवार काे भी वह अपने टाेकन काे वेरिफाई करने के लिए तहसील कार्यालय पर गए, लेकिन 3 बजे तक उनके टाेकन वेरिफाई नहीं हा़े सके है।

कहीं नहीं हाे रही काेई सुनवाई : मंडी में आए किसान मुरारी लाल ने बताया कि उनके करीब 20 बीघा के गेहूं है और उन्हाेंने पीछले वर्ष धनिया किया था। उनके पास में धनिया की गिरदावरी हाे रही है। जिसकाे गेहूं की गिरदावरी के लिए वेरिफाई करवाने के लिए गए ताे वहां पर बैठे अधिकारी ने उनकी गिरदावरी काे वेरिफाई करने से मना कर दिया।
ऐसे में दाे दिन मंडी में अपने माल काे रखने के लिए बाद बाजार में कम दामाें में बेचकर जाना मजबूरी बना गया है। उन्हाेंने बताया कि यह उनके साथ ही नहीं हाे रहा है। ऐसे कई किसान है,जाे की इस प्रकिया में उलझ गए है। जिसका समाधान करने वाला काेई नहीं है।

अभी तक नहीं आया ऐसा मामला
अभी तक टोकन जारी होने के बाद दोबारा वेरिफिकेशन करवाने की जानकारी सामने नहीं आई है। मुझे आपसे इसकी जानकारी मिल रही है। अगर ऐसा है,तो इसको दिखवाया जायगा।
-उज्ज्वल राठौड़, कलेक्टर कोटा

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें