पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Youth Congress's Silent Protest Outside Ramdham Ashram, Here BJYM Did 'Ram Naam Ritual Chanting' In Kota Rajasthan

मंदिर ट्रस्ट जमीन खरीद मामले में सियासत तेज:यूथ कांग्रेस का रामधाम आश्रम के बाहर मौन धरना, इधर भाजयुमो ने किया 'राम नाम अनुष्ठान जप'

कोटा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यूथ कांग्रेस ने आस्था व भरोसे का मामला बताए हुए जमीन खरीद को लेकर सवाल उठाए है। और रामधाम आश्रम के बाहर मौन धरना दिया - Dainik Bhaskar
यूथ कांग्रेस ने आस्था व भरोसे का मामला बताए हुए जमीन खरीद को लेकर सवाल उठाए है। और रामधाम आश्रम के बाहर मौन धरना दिया

राम मंदिर ट्रस्ट द्वारा खरीदी गई जमीन को लेकर देशभर में सियासत तेज हो गई है। कोटा में भी यूथ कांग्रेस व भारतीय जनता युवा मोर्चा अलग अलग तरह से मोर्चा खोले हुए है।यूथ कांग्रेस ने आस्था व भरोसे का मामला बताए हुए जमीन खरीद को लेकर सवाल उठाए है। और रामधाम आश्रम के बाहर मौन धरना दिया है। धरने पर यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व प्रदेश प्रभारी नितेन्द्र सिंह दर्शन भी बैठे। नितेन्द्र ने 2 करोड़ की जमीन, 18 करोड़ में रजिस्ट्री होने पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि आस्था के नाम पर सबने चंदा दिया था। ये आस्था व भरोसे का मामला है। कुछ तो घोटाला है ,अब जनता जागरूक है। इसलिए सवाल पूछ रही है। 2 करोड़ की जमीन 2 मिनट में 18 करोड़ में कैसे खरीदी।

राम मंदिर निर्माण में बाधा पहुंचाने व लोगों को भ्रमित किए जाने की कोशिश के खिलाफ युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने राम जप अनुष्ठान व सद्बुद्धि यज्ञ किया
राम मंदिर निर्माण में बाधा पहुंचाने व लोगों को भ्रमित किए जाने की कोशिश के खिलाफ युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने राम जप अनुष्ठान व सद्बुद्धि यज्ञ किया

इधर राम मंदिर निर्माण में बाधा पहुंचाने व लोगों को भ्रमित किए जाने की कोशिश के खिलाफ युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने राम जप अनुष्ठान व सद्बुद्धि यज्ञ किया। भाजयुमो जिलाध्यक्ष गिर्राज गौतम ने कहा कि देश में विपक्षी दलों सहित कई ऐसे वामपंथी विचारों वाले लोग हैं, जिन्हें आस्था का केंद्र राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ होने से पेट में तकलीफ शुरू हो गई।सभी चीजें कानूनी रूप व आम सहमति के द्वारा की जा रही है। कुछ लोगों द्वारा जमीन खरीद-फरोख्त के मामले को लेकर देशवासियों के सामने भ्रम की स्थिति पैदा की गई। जबकि राम मंदिर निर्माण के लिए ली गई भूमि की सारी खरीद-फरोख्त कानूनी रूप से की गई है। समय-समय पर उसके अनुबंध भी किए गए। जिसको लेकर अब विपक्षी दल के लोग माफी मांगते फिर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...