विश्व पटल पर छाया रावतभाटा:स्टरलाइजेशन के लिए 500 किलो क्यूरी कोबाल्ट 60 मलेशिया निर्यात; इस साल कोबाल्ट 60 सोर्स से होगी 100 करोड़ की इनकम

रावतभाटा9 महीने पहलेलेखक: दिलीप वधवा
  • कॉपी लिंक
विकिरण एवं आइसोटाेप प्रौद्योगिकी बोर्ड का रावतभाटा सेंटर से कनाडा ने भी की 2000 क्यूरी की डिमांड - Dainik Bhaskar
विकिरण एवं आइसोटाेप प्रौद्योगिकी बोर्ड का रावतभाटा सेंटर से कनाडा ने भी की 2000 क्यूरी की डिमांड

कोरोनाकाल में बिजली जरूरतों के साथ-साथ मेडिकल क्षेत्र में भी रावतभाटा अपनी अहम भूमिका निभा रहा है। कोरोनाकाल में मेडिकल इक्विपमेंट और प्रोडक्ट की मांग बढ़ी तो कोबाल्ट सोर्स की मांग भी बढ़ने लगी। कोबाल्ट 60 सोर्स से ही मेडिकल प्रोडक्ट स्टरलाइजेशन किया जाता है। इससे मेडिकल प्रोडक्ट विषाणु रहित रहते हैं। रावतभाटा दुनियाभर में कोबाल्ट सोर्स निर्यात करने में सिरमौर बनने लगा है। इस बार रावतभाटा से मलेशिया को 500 किलो क्यूरी का कोबाल्ट 60 दिया गया है। आने वाले दिनों में 2000 किलो क्यूरी कोबाल्ट सोर्स कनाडा भी जाएगा। इसे भेजने के लिए कनाडा से विशेष फ्लास्क विकिरण एवं आइसोटाेप प्रौद्योगिकी बोर्ड के रावतभाटा सेंटर पर पहुंच गया है। सूत्रों के अनुसार मलेशिया ने 500-500 किलो क्यूरी के दो ऑर्डर भी दिए हैं। इसके अलावा कनाडा ने 1 हजार किलो क्यूरी के 2 आर्डर दिए हैं, जो स्पेशल फ्लास्क में जाएगा।
कोबाल्ट सोर्स की प्रोसेसिंग 3 गुना कर बनाया रिकॉर्ड
रावतभाटा के कोबाल्ट फैसिलिटी के प्रमुख उप महाप्रबंधक सईद अनवर तारिक ने बताया कि रावतभाटा स्थित कोबाल्ट फैसेलिटी से कोबाल्ट सोर्स की 3 गुना रिकार्ड प्रोसेसिंग की गई है। बड़ी बात यह भी है कि यह तब हुआ, जब कोरोनाकाल चल रहा था। 2021 में 1 जनवरी से लेकर 31 दिसंबर तक 6 मिलियन क्यूरी से ऊपर उत्पादन हो चुका है। वहीं 2 मिलियन क्यूरी तक ही उत्पादन होता था। इस साल 500 किलो मलेशिया, 250 किलो क्यूरी श्रीलंका, 300 किलो वियतनाम निर्यात किया गया है। अभी कनाडा और मलेशिया से एक ऑर्डर और मिला है।

देश के 500 अस्पतालों को भी दे रहा है सोर्स
विकिरण एवं आइसोटाेप प्रौद्योगिकी बोर्ड मुंबई के अधिकारी ने बताया कि रावतभाटा स्थित सेंटर से ही देशभर के 500 कैंसर अस्पतालों को कोबाल्ट-60 (टेलीथैरेपी सोर्स) की आपूर्ति कर देश के लाखों कैंसर रोगियों का राहत दे रहे हैं। हर साल लगभग 30 अस्पतालों को दिया जाना है। लगभग 60 करोड़ सालाना इनकम रावतभाटा से होती है। इस साल रावतभाटा से 100 करोड़ की इनकम की जाएगी। रावतभाटा से राजस्थान सहित देश के सभी कैंसर अस्पतालोंे में विशेष पैकिंग कर आपूर्ति की जा रही है। कोबाल्ट-60 का उपयोग कैंसर रोगियों के उपचार के अलावा खाद्य प्रसंस्करण, मेडिकल, अौद्योगिक क्षेेत्रों में भी किया जाता है।

कभी आयात करते थे, अब करते हैं निर्यात
कभी हम अर्जेंटीना, रूस जैसे देशों से कैंसर के इलाज एवं खाद्य प्रसंस्करण के लिए जरूरी कोबाल्ट सोर्स मंगवाते थे। हमारे देश की तरक्की, वैज्ञानिकों के प्रयास और परमाणु ऊर्जा में आत्मनिर्भरता से हम रावतभाटा से इंग्लैंड, कनाडा, दक्षिणी अफ्रीका, एशिया देशों को कोबाल्ट सोर्स भेज रहे हैं। कोबाल्ट सोर्स खाद्य प्रसंस्करण एवं मेडिकल के लिए उपयोग किया जाएगा। इसकी लगात करोड़ों में है। लगात से बड़ी बात है कि हम उस देश को कोबाल्ट सोर्स दे रहे हैं, जो तकनीक में कई गुना हमसे आगे रहे हैं।

खबरें और भी हैं...