पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संगोष्ठी:प्रबुद्धजन बोले- मृत्युभोज रोकथाम के लिए सब आगे आएं, विप्र समाज ने इस बुराई का अंत करने का लिया निर्णय

डीडवाना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसडीएम कार्यालय में मृत्यु भोज संगोष्ठी हुई,

मृत्यु भोज कानूनी अपराध है, समाज की बड़ी बुराई है, यह बात तो हम सभी जानते हैं और हर जगह इस प्रकार की विचार गोष्ठी में अपनी बात भी करते हैं परन्तु इसकी पालना करना और पालना के बाद उसकी क्रियान्विति करना यह सबसे बड़ा समाज हित का काम है, जिसे हमें करना होगा। तभी हम इस जटिल समस्या से दूर हो सकेगें। यह बात एसडीएम कार्यालय में ब्राह्मण समाज के प्रबुद्ध जनों द्वारा मृत्यु भोज का विरोध करते हुए पूर्व आईएएस अधिकारी रामपाल शर्मा ने एसडीएम की मौजूदगी में कही। कहा कि पिछले 7 सालों से सेवानिवृत्ति के बाद मैं स्वंय धार्मिक अनुष्ठान भागवत कथा का पठन करता हूं।

मेरी हर कथा में प्रारम्भ एवं समापन के दौरान मृत्यु भोज के संबंध मे लोगों को संदेश दिया जाता है। शर्मा ने कहा कि मैंने शास्त्रों का अध्ययन किया है, किसी भी शास्त्र में मृत्यु भोज का उल्लेख नहीं है। केवल मात्र जीवात्मा की शांति के लिए 13 ब्राह्मणों को भोजन कराए जाने का जरूर लिखा है। हम सब को संकल्प के साथ सरकार व कलेक्टर की इस मुहिम को आगे बढ़ाना होगा। महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेन्द्र पारीक ने कहा कि समाज स्तर पर 10 वर्षों से इस मुहिम को चलाया जा रहा है परन्तु प्रशासन का सहयोग ही अत्यंत आवश्यक है।

विप्र फाउण्डेशन के पूर्व अध्यक्ष योगेश लाल शर्मा ने कहा कि जिस प्रकार हम जयपुर व अन्य जगह जाते हैं और हाईवे पर चलते समय सीट बेल्ट नहीं लगाते जैसे ही जयपुर मे प्रवेश करते हैं पुलिस के भय से सीट बैल्ट लगा लेते हैं, ऐसा ही भय प्रशासन को करना होगा। भय बिना इस प्रकार की गम्भीर समस्या से मुक्ति नहीं मिल सकती। पुष्करणा समाज के जगदीश गोपा ने भी इस दौरान अनेक उदाहरण दिए।

वहीं ब्राह्मण महासभा के डीडवाना अध्यक्ष अशोक गौड़ ने भी इस सामाजिक बुराई का विरोध किया। अधिवक्ता शिवप्रकाश शर्मा, कमल मोट, नेमीचन्द, रामस्वरूप शर्मा, केशव ओझा आदि अधिवक्ताओं ने भी संबोधित किया। एसडीएम अंशुल सिंह बेनीवाल ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए आज की इस मुहिम मे कुछ ऐसे उदाहरण हमें मिले हैं जो कलेक्टर के माध्यम से राज्य सरकार को भेजे जायेंगे। निश्चित रूप से यह एक प्रेरणादायक संगोष्ठी रही है।

खबरें और भी हैं...