पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन:गंदे पानी को लेकर दो पक्षों में चली तनातनी, आखिर खड्‌ढा खोदने से हुए शांत

खींवसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गंदे पानी की निकासी को लेकर कार्रवाई करते हुए। - Dainik Bhaskar
गंदे पानी की निकासी को लेकर कार्रवाई करते हुए।
  • खींवसर में उपखंड अधिकारी को मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन भी दिया गया

गांधी दर्शन संयोजक जगदीश कच्छावाह ने शुक्रवार को खींवसर उपखंड अधिकारी राजकेश मीणा को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देकर रोष प्रकट किया है। ज्ञापन में बताया कि उनके घर के आगे से पूरी कॉलोनी के गन्दे पानी की निकासी होती है। उनके घर के आगे बने घरों के लोगों ने पानी की निकासी को रेत व पत्थर डालकर रोक दिया था। पिछले दस वर्षो से पानी की निकासी इसी रास्ते होती है। लेकिन कुछ लोगों के दबाब में स्थानीय प्रशासन ने घर के आगे दस फीट गहरा खड्डा खोद दिया है।

खड्डा घर की नींव के पास होने से बरसात के दिनों में खड़ा भरने से मकान ढहने का पूरा खतरा है। दो दिवस के भीतर पानी निकासी का स्थायी समाधान नहीं किया जाता है तो नागौर कलेक्ट्रेट के आगे धरना दिया जाएगा। इधर दूसरे पक्ष ने बताया कि गंदा पानी भगार तलाब में जाने पर मोहल्ले वासियों ने विरोध करते हुए गंदे पानी को रास्ते में ही रोक दिया था। दूसरे पक्ष के मोहल्ले वासियों ने बताया कि इस मोहल्ले का सारा पानी भगार तालाब में जाने से पानी प्रदूषित हो जाएगा।

ग्राम पंचायत प्रशासन ने शुक्रवार को उस रेत की पाळी को हटाकर गंदा पानी तालाब की तरफ छोड़ दिया गया। इसलिए दूसरे पक्ष ने विरोध जताया कि गंदा पानी तालाब में किसी भी सूरत में नहीं जाने देंगे। ग्राम पंचायत ने भी बकतासागर तालाब का सौंदर्यीकरण करने की कार्रवाई की है। इसी बात को लेकर दो पक्षों की तनातनी में गंदा पानी की निकासी रुकी हुई थी। आखिर प्रशासन ने पाळी हटाकर पानी को छोड़ दिया तथा एक जमीन में गहरा गड्ढा खोदकर गंदे पानी को जमीन के अंदर डालने का निर्णय लिया।

खबरें और भी हैं...