आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग:इंस्टीट्यूट के लिए निकली नाबालिग का गाड़ी में गैंगरेप, स्टेशन रोड पर बेहोशी की हालत में पटका

कुचामन12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कुचामन थाना क्षेत्र के एक गांव से बुधवार को घर से कुचामन के एक इंस्टीट्यूट जाने के लिए निकली नाबालिग को दो युवक कार में बैठाकर अपने साथ ले गए और उसे कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पिला दिया और इसके बाद उसके साथ कार में गैंगरेप किया। आरोपी युवकों द्वारा नाबालिग से कार में दुष्कर्म करने के बाद उसे बेहोशी की हालत में कुचामन के स्टेशन रोड पर गिराकर चले जाने का मामला देर रात्री थाने में दर्ज हुआ है।

पीड़िता की मां बुधवार देर रात्री अपनी नाबालिग पुत्री को लेकर थाने पहुंची और यहां रिपोर्ट पेश की। जिस पर पुलिस ने एससी एसटी एक्ट, पोक्सो एक्ट सहित अन्य धाराओं में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया। प्रार्थी ने पुलिस को दी गई रिपोर्ट में बताया की उसकी 17 वर्षीय नाबालिग पुत्री को अशराफ व शैलेश नाम के युवक गाड़ी में बैठाकर ले गए थे और उन्होंने उसे नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ आरोपियों ने दुष्कर्म किया। इस दौरान घटना के बाद चिकित्सालय प्रशासन ने कहा की बोर्ड के गठन के बाद ही गुरुवार सुबह मेडिकल हो पाएगा। आमजन ने हंगामा किया तो रात को ही पीड़िता का मेडिकल करवाया गया।

स्थानीय पुलिस पर आरोपियों से मिल मामले को दबाने का लगाया जा रहा है आरोप

बुधवार देर रात्रि को भी लोग थाने और चिकित्सालय के बाहर एकत्रित हो गए थे। मीठड़ी के पूर्व सरपंच लोकेन्द्र सिंह ने गुरूवार सुबह 10 बजे कुचामन पुलिस थाने के घेराव की घोषणा कर दी थी। इसके बाद थाने के बाहर जमकर प्रदर्शन किया। थाने के बाहर एएसपी गणेशराम, डीडवाना सीओ गोमाराम, एसडीएम बाबूलाल जाट, नावां सीआई धर्मेश दायमा सहित आसपास के थानों का जाप्ता तैनात रहा। आमजन ने आरोप लगाया की पुलिस ने इस मामले में ढिलाई बरतते हुए मामले को हल्के में भी लिया गया है। लोगों ने पुलिस पर आरोप लगाए है। एएसपी ने कहा कि आरोपियों पर कार्रवाई की जाएगी।

मीठड़ी के पूर्व सरपंच की तत्परता से दर्ज हुआ मामला

रिपोर्ट में बताया की उनके बेटे को मोबाइल पर एक व्यक्ति ने जान से मारने की भी धमकी दी है। नाबालिग से गैंगरेप मामले में एक बार तो कुछ लोगों ने इस मामले को दबाने का प्रयास किया लेकिन जैसे ही इस मामले की जानकारी मीठड़ी के पूर्व सरपंच लोकेन्द्र सिंह, मीठड़ी सरपंच केलादेवी को मिली तो वह अपनी टीम के साथ तत्काल पीड़िता के घर पहुंचे। इस दौरान पीड़िता की मां ने बताया की उनके पास एक मोबाइल नम्बर से फोन आया और फोन पर बेटे को जान से मारने की धमकी दी गई है जिससे वह काफी डरे हुए है।

इसके बाद परिजन मामला दर्ज करवाने के लिए तैयार हुए। सूत्रों की माने तो पुलिस की ओर से प्रकरण को दबाने का प्रयास किया जा रहा था। मामले की जांच कर रहे डीडवाना डीएसपी गोमाराम ने चिकित्सालय पहुंचकर पीड़िता के बयान लिए। थाने के बाहर इस पर यहां मौजूद भीड़ ने नारेबाजी शुरू कर दी। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू की।

युवकों को किया डिटेन

​​​​​​​मामला बहुत ही गंभीर है। हम इस मामले में स्टेप बाय स्टेप काम कर रहे है। आमजन को यह भरोसा दिलाते है की ऐसे कृत्य करने वाले आरोपियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस शीघ्र ही आरोपियों को गिरफ्तार करेगी। फिलहाल पूछताछ के लिए एक युवक को डिटेन किया गया है जिससे पूछताछ की जा रही है।
गोमाराम, डिप्टी एसपी डीडवाना

खबरें और भी हैं...