वन विभाग की गाड़ी की टक्कर से महिला की मौत:पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने धरना स्थल पर पहुंचीं विधायक, मुआवजा और आरोपियों पर कार्रवाई की मांग

कुचामन2 दिन पहले

जब तक पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिलेगा हमारा संघर्ष जारी रहेगा यह कहना था मेड़ता विधानसभा क्षेत्र से आरएलपी विधायक इंदिरा देवी बावरी का जो कि कुचामन सिटी थाना परिसर के बाहर दिए जा रहे धरने में पहुंचीं थे। गौरतलब है कि पांचवा क्षेत्र में सोमवार रात वन विभाग की गाड़ी की टक्कर लगने से लीला बावरी नाम की महिला की मौत हो गई थी और मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी सहित अन्य मांगों को लेकर कुचामन थाना परिसर के बाहर पिछले 2 दिन से धरना दिया जा रहा है।

धरने पर बैठे लोगों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं होगी मृतक के शव का पोस्टमार्टम नहीं कराया जाएगा। मेड़ता विधायक इंदिरा देवी बावरी के साथ आरएलपी के पदाधिकारी और जनप्रतिनिधि भी रहे अपने संबोधन में विधायक इंदिरा देवी बावरी ने कहा कि यह लड़ाई सिर्फ बावरी समाज की नहीं बल्कि 36 कौम की है और जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती हमारा संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि वन विभाग की कैंपर गाड़ी में जो भी कार्मिक सवार थे उन सब की गिरफ्तारी की मांग हम करते हैं।

इस संबंध में 6:30 विधायक और एडिशनल एसपी गणेशाराम, उपखंड अधिकारी बाबूलाल के बीच धरना स्थल पर वार्ता शुरू हुई। वार्ता में पीड़ित पक्ष की ओर से रखी गई 4 सूत्री मांगों पर अमल किया जाए साथ ही इस घटना में लिफ्ट विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों की गिरफ्तारी और उनको सस्पेंड और परिवार को मुआवजा दिलाने और सरकारी नौकरी की मांग पर बातचीत हुई। इस बातचीत में एडिशनल एसपी गणेशाराम ने पीड़ित पक्ष को निष्पक्ष न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया। इससे पहले मृतका का पोस्टमार्टम करवाने के बाद ही आगे कानूनी कार्रवाई शुरू होगी, लेकिन पीड़ित परिवार के लोगों ने पोस्टमार्टम करवाने के लिए साफ मना कर दिया यह वार्ता विफल रही।

वहीं, वन विभाग की गाड़ी की टक्कर के बाद लीला बावरी नाम की महिला की मौत हो जाने के मामले उस वक्त एक नया मोड़ आ गया जब वन विभाग के चालक की ओर से कुचामन थाने में राजकार्य में बाधा व अन्य आरोप लगाते हुए एक नामजद मुकदमा दर्ज करवाया गया है। विभाग के चालक ओमप्रकाश कीनौर से थाने में दी गई रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार रात जब वन विभाग की टीम अवैध खनन के खिलाफ अभियान के तहत पांचवा रोड पर सरकारी पिकअप आरजे 21 जी भी 7078 चालक ओमप्रकाश शर्मा, वनपाल रामदेवाराम बिजारणिया बनरक्षक, श्रीमति द्रोपता शर्मा बनरक्षक, कानसिंह केटलगार्ड व गिरधरनोपाल बेलदार सवार होकर गश्त पर थे तो अवैध खनन कर पत्थरों से भरे दो ट्रेक्टर जाते दिखाई दिए। जिनका पीछा करने पर 110 उनकी पिकअप को टक्कर मार कर भाग गया। दूसरे ट्रेक्टर का पीछा करने पर आसनपुरा रोड पर एक खेत में रेत के टीबे पर कई पुरुष और महिलाएं लाठियां और सरिए हाथ में लिए सामने आ गए और वन विभाग के सभी कार्मिको से मारपीट शुरू कर दी और पथराव कर दिया। वन रक्षक द्रोपता शर्मा के साथ अभद्रता की गई और जन से मारने की धमकी दी। वन विभाग के कर्मी जान बचाकर भागने में कामयाब हो गए लेकिन वनरक्षक द्रोपता शर्मा को बंधक बना लिया गया और मारपीट की उसके बाद पुलिस के डर से इन लोगो ने द्रोपता शर्मा को छोड दिया। थाना प्रभारी मनोज मिश्रा ने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर कुचामन थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है।

खबरें और भी हैं...