पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संतुलन:प्रदेश की पहली बैलेंसिंग चट्‌टान; 28 फीट व्यास, दो फीट आधार पर खड़ी है

कुचामन सिटी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ये है डीडवाना की बैलेंसिंग चट्‌टान। प्रदेश की पहली ऐसी चट्‌टान जिसका व्यास 28 फीट का है जो महज दो फीट आधार पर ही टिकी हुई है। दो बार आए भूकंप के झटके भी इसे हिला नहीं सके। यह चट्टान हमें सिखाती है, किसी भी परिस्थिति में अडिग रहना। चुुनौतियां इंसान को अंदर से मजबूत बनाती हैं। जो सफलता चुनौतियों पर जीत हासिल के बाद मिलती है, वह लंबे समय तक कायम रहती है।

नए साल में अपने सपनों को पंख लगाना चाहते हैं तो इरादे इस चट्टान की तरह मजबूत बनाइए। खुद को खंगालें, ताकि कमजोरियों को पहचान कर उन्हें दूर कर सकें। कदम आगे बढ़ाएं। गलतियों या असफलताओं से डरें नहीं, बल्कि उनसे सबक लेकर उन्हें जीत की सीढ़ी बनाएं। डीडवाना की यह बैलेंसिंग रॉक कुछ यही सिखा रही है।

अब तक आए भूकंप के तेज झटके भी इस चट्‌टान काे डिगा नहीं पाए

  • क्या आपने देखी है कभी ऐसी चट्टान, जिसे हजारों बरसों से कोई अच्छी बुरी परिस्थिति अपने स्थान से हिला नहीं पाई। यानी न उस पर मौसम की मार का असर हुआ तो न ही कभी प्राकृतिक आपदा भी उसे हिला पाई है।
  • नागौर जिले के डीडवाना शहर में पीर पहाड़ी क्षेत्र में बरसों बरस से अडिग यह विशाल चट्टान शायद हमें यही संदेश दे रही है कि किसी भी प्रकार के विपरीत हालातों में भी विचलित न होकर मजबूत इरादों के साथ डटे रहना चाहिए।
  • कुदरत की बेमिसाल कारीगरी कहें या फिर दो शिलाओं का अद्भुत संतुलन, बैलेंसिंग रॉक पर सबकी नजर ठहर जाती है। ये चट्टान कब से इसी रूप में है यह स्पष्टत: कोई नहीं जानता। हालांकि कई भूगर्भ शास्त्री इसकी लाखों साल उम्र बता रहे हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि इसने प्राकृतिक भूकंप के हजारों झटके खाए हैं। हाल ही में यहां रिंग रोड के लिए पहाड़ी तोड़कर सड़क निकाली गई है, लेकिन वह हिल नहीं सकी है।
  • खास यह भी कि पहाड़ी तोड़कर निकाली सड़क इन दिनों सेल्फी प्वाइंट बन गया है। सकारात्मक संदेश के साथ यह फोटो पहली बार देखिए केवल दैनिक भास्कर में।
  • 100 मीटर सड़क से दूर बैलेंसिंग की अद्भुत मिसाल यह करीब 8 मीटर व्यास वाली और मात्र 2-3 फीट के आधार पर टिकी चट्टान अभी भी पर्यटकों की निगाह से दूर है।

हमारे देश में ये अजूबी चट्टानें, जहां पहुंचते हैं हजारों पर्यटक, अब डीडवाना की ये राॅक भी बनी है सेल्फी प्वाइंट

1. जबलपुर: बैलेंसिंग रॉक

मध्यप्रदेश के जबलपुर में बैलेंसिंग रॉक मुख्य टूरिस्ट्स प्लेस में से एक है। यह किसी इंजीनियर ने नहीं बल्कि, कुदरती है और सालों से ऐसे ही टिकी हुई हैं। यहां एक पत्थर दूसरे पर कुछ इस कदर टिके हुए हैं कि इसे देखने पर ऐसा लगता है कि यह छूने से ही नीचे गिर जाएगा। लेकिन रोचक बात यह है की भूकंप के झटके भी इन्हें एक-दूसरे से अलग नहीं कर पाए। यहां तक कि 1997 के भूकंप से जब सारा जबलपुर शहर हिल गया था, तब भी यह चट्टान ज्यों-की-त्यों खड़ी रही।

2. महाबलेश्वर: कृष्णा की बटर बॉल

ऐसा ही एक अजूबा है ‘कृष्णा की बटर बॉल’ के नाम से प्रसिद्ध चट्टान, जो दक्षिणी भारत में चेन्नई के पास महाबलीपुरम के किनारे है। पत्थर का यह गोला एक ढलान वाली पहाड़ी पर, 45 डिग्री के कोण पर बिना लुढक़े टिका है। माना जाता है यह कृष्ण के प्रिय भोजन मक्खन का प्रतीक है जो स्वयं स्वर्ग से गिरा है। यह पत्थर आकार में 20 फीट ऊंचा और 5 मीटर चौड़ा है। जिसका वजन लगभग 250 टन है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें