पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का कहर:बुटाटी में पंद्रह दिन बीमार रहे व्यक्ति की मौत के बाद पांच परिजन संक्रमित

कुचेरा/नागौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गुरुवार को मिली रिपोर्ट में बुटाटी के नायकों की ढाणी में एक ही परिवार के पांच व्यक्ति संक्रमित पाए गए। जानकारी अनुसार नायकों की ढाणी में 5 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसी ढाणी में लम्बे समय से बीमार चल रहे करीब 25-26 साल के युवक की एक सप्ताह पूर्व मौत हुई थी। मौत के बाद परिवार के लोगों की जांच के लिए सैम्पल लिए गए थे। जिनमें से गुरुवार को मिली रिपोर्ट में 5 व्यक्ति संक्रमित पाए गए।

मकराना, सीएचसी मकराना में दस ऑक्सीजन बेड की क्षमता है तथा गुरुवार शाम तक भर्ती मरीजों के स्वस्थ होने पर छुट्टी दिए जाने के बाद 17 मरीज भर्ती थे। अस्पताल में गुरुवार को भर्ती मरीजों के लिए 9 रेमडेसीविर इंजेक्शन की आवश्यकता पड़ी।

बूडसू सीएचसी पर ऑक्सीजन नहीं

लाडनूं, यहां गुरुवार को एक भी सैम्पल की जांच रिपोर्ट नहीं आई। कुल 464 सैंपलों की रिपोर्ट पेंडिंग चल रही है। गुरुवार को यहां से सिर्फ 32 सैम्पल लिए गए। कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2135 है, जिनमें से एक्टिव मरीजों की संख्या 391 है। इनमें से 379 को होम आईसोलेट किया गया है।

स्थानीय राजकीय चिकित्सालय में कुल 21 कोरोना मरीज भर्ती हैं, जिनमें से 19 को ऑक्सीजन सपोर्ट पर लिया हुआ है। कोविड केयर सेंटर जसवंतगढ़ में 7 मरीज भर्ती हैं, जिनमें से 2 को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा हुआ है। यहां कुल ऑक्सीजन सिलेंडर 97 हैं, जिनमें 18 भरे हुए और 9 खाली है। 70 सिलेंडर नागौर जेएलएन में भिजवाए हुए है।

बोरावड़ सीएचसी में नहीं हो रहा कोरोना रोगियों का इलाज
बोरावड़, कोरोना के रोगियों की संख्या बढ़ रही है। लेकिन चिकित्सा विभाग तथा प्रशासन की तरफ से कोरोना को लेकर बोरावड़ में कोई व्यवस्था नहीं की गई है। कस्बे में न तो कोई क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है तथा ना ही सीएचसी में कोरोना का इलाज हो रहा है।

कस्बे के सीएचसी को वैक्सीन लगाने तथा जांच केंद्र बनाया गया है। वो भी संसाधन के अभाव में पूरी तरह कार्य नहीं कर रही है। यहां तक कि पिछले 8 दिनों में केवल एक दिन 200 वैक्सीन मिली थी जो उसी दिन दोपहर तक पूरी हो गई। उसके बाद अभी तक वैक्सीन की आपूर्ति नहीं की गई है। पिछले दो दिनों से कोरोना की जांच के लिए सैम्पल भी नहीं लिए जा रहे हैं।

बोरावड़ सीएचसी में कुल 30 बेड है, लेकिन किसी भी बेड को कोविड 19 के लिए रिजर्व नहीं किया हुआ है। बोरावड़ से कोरोना के रोगी को कोविड सेंटर मकराना तथा कुचामन के लिए रैफर किया जाता है।

खबरें और भी हैं...