आपसी भाईचारा मेड़ता की पहचान:हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए मेड़ता में आगे आए कांग्रेस पदाधिकारी व सामाजिक संगठन, चलाएंगे जागरूकता अभियान

मेड़ता10 दिन पहले

आपसी भाईचारा मेड़ता की पहचान है। हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए मेड़ता में कांग्रेस और कई सामाजिक संगठन आगे आए है। संगठनों के पदाधिकारियों ने सभी धर्म, समाज के लोगों में आपस में प्रेम और स्नेह से बनाए रखने की अपील की है।

कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं गांधी दर्शन के जिला संयोजक जगदीशनारायण शर्मा ने आज बैठक में कहा कि हिंदू-मुस्लिम एकता और आपसी भाईचारे के लिए मेड़ता जाना जाता हैं। हमें यह पहचान हमेशा बनाए रखनी है। सभी समाज, धर्म और वर्ग के लोगों को समझाया जाए कि वह किसी के बहकावे में नहीं आए और जहां कहीं भी असामाजिक तत्व माहौल को बिगाड़ने का प्रयास करें, तो तुरंत प्रशासन को इसकी सूचना दी जाए ताकि मौके पर तुरंत कार्रवाई हो और आपसी भाईचारे को बिगाड़ा नहीं जा सके।

इस मौके पर पूर्व पालिकाध्यक्ष रूस्तम अली प्रिंस के लगातार 3 माह तक रोजे रखने पर उनका स्वागत किया गया। रूस्तम अली प्रिंस के तीन महीने के रोजे कल पूरे होने जा रहे हैं। बैठक में पालिकाध्यक्ष गौतम टाक, उपाध्यक्ष सलीम मोयल, गांधी दर्शन उपखंड के संयोजक रामसुख मुंशी, दशरथ सारस्वत, गोपाल हटीला, अयूब खान, राजस्थान ब्राह्मण महासभा जिला उपाध्यक्ष उगमराज पारीक, गणपत भट्ट, अनिल सारस्वत, मोहनलाल माली, हरी प्रसाद डिडवानिया, एडवोकेट सौरभ शर्मा आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...