पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फर्जीवाड़े का मामला:162 श्रमिकों से मेड़बंदी कार्य करना बता लगा रहे थे हाजिरी, जांच में न श्रमिक मिले, न काम

नागौर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चाऊ की इस नाडी पर मेड़बंदी का कार्य करना बताया जबकि मौके पर कोई नहीं मिला। - Dainik Bhaskar
चाऊ की इस नाडी पर मेड़बंदी का कार्य करना बताया जबकि मौके पर कोई नहीं मिला।
  • चाऊ पंचायत का मामला, एईएन ने 14 कार्याे का किया निरीक्षण, 63% श्रमिकों की फर्जी हाजिरी

मनरेगा में सरकारी धन की कैसे बर्बादी की जा रही है, उसकी एक बानगी देखिए। मामला पंचायत चाऊ से जुड़ा है। शिकायत के बाद रविवार को जब यहां पंचायत समिति सहायक अभियंता लक्ष्मण राम बेनीवाल निरीक्षण के लिए पहुंचे तो जांच में 63 फीसदी श्रमिक मौके पर उपस्थित नहीं मिले। चौंकाने वाला खुलासा हुआ कि जिस नाडी पर 162 श्रमिकों से मेड़बंदी का कार्य करना बता मस्टररोल में रोज हाजरी लगा रहे थे, मौके पर जांच में एक भी श्रमिक नहीं मिला।

यही नहीं जहां मेड़बंदी कार्य करना बताया वहां नामो निशान नहीं है। कार्य स्थल पर सहायक अभियंता ने वीडीओ भवानी सिंह व जेटीए अनिल कुमार को अवगत करवाया तो मौके पर मेट मस्टररोल लेकर पहुंचा, जिसमें 162 श्रमिकों की उपस्थिति लगी थी। दरअसल, सहायक अभियंता ने यहां कुल 14 कार्य स्थलों का निरीक्षण किया, जिसमें मौके पर 37 फीसदी श्रमिक ही काम करते मिले। इस पर करीब 18 मस्टररोल जब्त किए। जिसमें नाडी, ग्रेवल सड़क आदि काम थे।

घर बैठे चल रहा काम : यह वो कार्य स्थल, जहां जांच में मिली बड़े स्तर पर गड़बड़ी

  • मेड़बंदी : बोलाई नाडी मेड़बंदी को लेकर 162 श्रमिक काम करना बताए, मौके पर कोई नहीं मिला। वहीं उंटलाई नाडी मेड़बंदी कार्य में 135 में से 66 श्रमिक मिले।
  • ग्रेवल सड़क : परावा गांव से लोछब जाटों की ढाणी तक निर्माण कार्य में 110 में से 67 श्रमिक मिले। वहीं जानेवा सीमा से पीएमजीवाई को जोड़ने के कार्य स्थल पर 107 में से 56 श्रमिक मिले।
  • खेल मैदान : राउप्रावि झोरड़ा में खेल मैदान विकास कार्य स्थल पर 103 में से 39 श्रमिक मिले।
  • भूमि सुधार निजी टांका निर्माण : 8 जगहों पर निरीक्षण में गड़बड़ी मिली, मस्टररोल जब्त किए गए।

जेटीओ, वीडीओ सहित अन्य सभी के खिलाफ होगी कार्रवाई
मनरेगा में फर्जी तरीके से श्रमिकों की हाजिरी लगाने व सरकारी पैसों की दुरुपयोग के मामले में वीडीओ, जेटीए, सहायक रोजगार, कनिष्ठ लिपिक को कारण बताओ नोटिस जारी होंगे। सीईओ हीरालाल मीणा ने बताया कि अनियमितता को लेकर रिपोर्ट आने के बाद जिम्मेदारों के विरुद्ध कार्रवाई होगी।

इधर... डेहरू पंचायत में मृतक महिला का नाम भी मस्टररोल में लिखा, बीडीओ को ध्यान में होने के बाद भी नहीं कर रहे है कोई कार्रवाई

डेहरू पंचायत में भी मनरेगा में बड़े स्तर पर गड़बड़ी की जा रही है। एक मृतक बिदामी पत्नी रूपनाथ का नाम मनरेगा कार्य में जोड़ दिया गया। वहीं एक मेट का कहना है कि उन पर मजदूरों से रुपये लेने का दबाव पंचायत द्वारा किया जा रहा है। अगर कोई पैसे नहीं देते है तो उनका नाम भी मस्टररोल में नहीं लिखा जाएगा।

जिसको लेकर ग्रामीण शिकायतें कर रहे है लेकिन रोचक बात तो यह है कि बीडीओं को मामले की जानकारी होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। गौरतलब है कि 20 दिन पहले ग्रामीणों ने मनरेगा गड़बड़ी की शिकायत की थी मगर बीडीओ ने अब तक कार्रवाई नहीं की है।

खबरें और भी हैं...